Tehelka Hindi — Tehelka Hindi, तहलका हिन्दी एक मुक्त, निष्पक्ष और निर्भीक समाचार आधारित वेब पोर्टल है।
बासमती से ज्यादा बीफ निर्यात करते हैं हम
महाराष्ट्र में बीफ पर प्रतिबंध लगने के बाद इसे लेकर देशभर में हाय-तौबा मची हुई है. इस बीच खबर आई है कि भारत दुनियाभर में बीफ का सबसे बड़ा निर्यातक देश है. हाल ये है कि हमारा कृषि प्रधान देश बासमती से ज्यादा बीफ...
आईपीएल में सबसे कम उम्र का खिलाड़ी बना सरफराज
दुनिया के महान बल्लेबाजों में से एक मास्टर ब्‍लास्टर सचिन तेंडुलकर के ज‌न्मदिन के ठीक पहले क्रिकेट जगत में...
मौसम विभाग फेल, बिहार में तूफान से तबाही
बिहार के उत्तर पूर्वी इलाके में चक्रवाती तूफान से अब तक 65 लोगों के मारे जाने की सूचना है....


बर्बर कानून को बेकरार सरकार

गुजरात कंट्रोल ऑफ टेररिज्म एंड ऑर्गनाइज्ड क्राइम बिल को मानवाधिकार के खिलाफ माना जा रहा है  

10 साल की दास्तान

उर्दू में लंबी कहानियां सुनाने की कला को दास्तानगोई के नाम से जाना जाता है. यह अजीम-अो-शान कला इस साल अपने पुनरुत्थान के दस साल पूरे कर रही है. इस बिसरा दी गई विरासत को अवाम के बीच फिर से मशहूर करने के लिए कुछ युवा पुरजोर कोशिश में लगे हैं  

कला की दुनिया में कलाबाजी

सांस्कृतिक विरासत और बौद्धिक समृद्धि का गौरवमयी इतिहास अपने में समेटे हुए बिहार क्या वर्तमान में साहित्य-संस्कृति के मामले में जड़वत और दिवालिया हो चुका है? पिछले कुछ सालों का रवैया और हाल ही में राजभाषा सम्मान से उठा विवाद कुछ-कुछ इसी ओर इशारा करते हैं  

आवरण कथा More >

  • स्वार्थ का संगम!
    स्वार्थ का संगम!

    जब तक यह रिपोर्ट प्रकाशित होगी और आप इससे गुजर रहे होंगे, पूरी संभावना है तब तक दिल्ली में मुलायम सिंह के आवास से जनता परिवार के विलय की घोषणा हो चुकी होगी या उसकी आखिरी प्रक्रिया चल रही होगी. मुलायम सिंह यानी नेताजी के नेतृत्व में लालू प्रसाद यादव,  

  • इस्लाम और इल्जाम?
    इस्लाम और इल्जाम?

    मध्यकाल के अंधकारपूर्ण दौर में दो धर्मों के बीच लंबी लड़ाई चली थी. इतिहास में यह लड़ाई क्रूसेड या होली वॉर के नाम से दर्ज है. इस युद्ध को लेकर कई ऐतिहासिक मान्यताएं हैं, इतिहासकारों के अलग-अलग मत हैं. एक विचार कहता है कि यह पूरब में रोमन कैथलिक चर्च के  

  • जेट के जमाई
    जेट के जमाई

    एक जोड़े को हवाई जहाज के इकॉनोमी क्लास में दिल्ली से लंदन आने जाने के लिए करीब एक लाख रुपए तक खर्च करना पड़ता है. लेकिन मनोज मालवीय इतने ही खर्च में पिछले कुछ सालों के दौरान दुनिया भर की 28 खूबसूरत जगहों की सैर कर चुके हैं. पश्चिम बंगाल  

  • बिहार: दमित दलित
    बिहार: दमित दलित

    बिहार में इन दिनों दो बातों की चर्चा बेहद आम हो गई है. पहली, मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के दलितों के पक्ष में आनेवाले अटपटे बयान और दूसरा, दलितों के साथ दिन-ब-दिन बढ़ रही हिंसा. क्या इन दोनों चीजों का आपस में कोई संबंध है?  

राज्यवार More >

  • बिहार
    सवर्ण राजनेता: सप्तमो अध्याय समाप्ते !
    सवर्ण राजनेता: सप्तमो अध्याय समाप्ते !

    बिहार में सवर्णों को अपने पाले में करने के लिए सवर्ण आयोग बनाने से लेकर सवर्णों तक को आरक्षण देने की राजनीति रोज हो रही है लेकिन शायद ऐसा पहली बार हुआ है कि वर्तमान सरकार के मंत्रिमंडल के जरिये सत्ता की सियासत से ब्राह्मणों को पूरी तरह से बाहर कर दिया गया है. तो क्या चाणक्य की कर्मभूमि में ब्राह्मणों की राजनीति का यह 'इतिश्री रेवाखंडे, सप्तमो अध्याय समाप्ते' वाला दौर है  

  • बिहार
    ‘लालू ऊपरी वार करते हैं, जबकि नीतीश…’
    ‘लालू ऊपरी वार करते हैं, जबकि नीतीश…’

    बिहार की राजनीति में समाजवादी धारा के एक प्रमुख नेता शिवानंद तिवारी ने चुनावी राजनीति से संन्यास ले लया है. वे रिटायर भले हो गए हैं, लेकिन सियासी सरगर्मी उनके यहां अभी भी कायम है. फिलहाल वे अपनी आत्मकथा लिखने में लगे व्यस्त हैं. इसे लेकर अभी से बिहार में उत्सुकता है क्योंकि तिवारी लालू और नीतीश के समान रूप से नजदीकी रह चुके हैं. उनके अपने राजनीतिक अनुभव, जदयू और राजद के विलय की अटकलों और बिहार की...  

  • झारखंड
    ‘मेरी लड़ाई किसी मजहब या मर्द जाति से नहीं, एक व्यक्ति से है’
    ‘मेरी लड़ाई किसी मजहब या मर्द जाति से नहीं, एक व्यक्ति से है’

    दो माह पहले तक आप इतने किस्म के लोगों से दिन-रात घिरी रहती थीं, अब अकेली हैं. पता नहीं कहां से इतने लोग इकट्ठा हो गए थे. संगठन वाले, मीडियावाले, राजनीतिवाले. लेकिन मैं जानती थी कि यह कुछ दिनों की ही बात है. फिर कोई नहीं आएगा. यानी आपको पहले  

  • छत्तीसगढ़
    नक्सलवाद पर मतभेद
    नक्सलवाद पर मतभेद

    छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में स्थित सचिवालय में 19 नवंबर को आम दिनों के मुकाबले चहल-पहल कुछ बढ़ गई थी. माहौल में कुछ तनाव भी महसूस हो रहा था. पहले तो लोगों को यह समझ नहीं आया कि साहब लोगों का मूड उखड़ा हुआ क्यों है, लेकिन धीरे-धीरे कारण स्पष्ट  

समाज और संस्कृति More >

  • सितारा देवी: ओझल सितारा…
    सितारा देवी: ओझल सितारा…

    94 की उम्र में अपने निधन से पहले वह लंबे समय से बीमारियों से जूझ रही थीं. सितारा देवी ने हिंदी सिने जगत में कथक का न केवल प्रवेश कराया बल्कि उसे एक अलग पहचान भी दिलाई. उनको याद करने के कई बहाने हैं. दिलों पर राज करना एक ऐसा  

  • हम फिदा-ए-लखनऊ
    हम फिदा-ए-लखनऊ

    ‘किसी शहर का चरित्र खोजना है तो उसके जन में बसे किस्से-कहानियों में खोजा जाए.’ लखनऊ के संदर्भ में कही गई अमृतलाल नागर की ये पंक्ति इस शहर के मूल चरित्र की पहचान करने में बेहद सहायक है. खुद नागर जी का सम्पूर्ण साहित्य लखनऊ के ऐसे ही बेशुमार किस्से-कहानियां  

  • ‘अस्मिता के प्रश्न, जीवन के मूलभूत प्रश्नों के लिए रोड़ा बनते हैं’
    ‘अस्मिता के प्रश्न, जीवन के मूलभूत प्रश्नों के लिए रोड़ा बनते हैं’

    आप की मूल पहचान कवियत्री के रूप में है. लेकिन आपने अन्य विधाओं में भी रचना की है. विभिन्न विधाओं के रचनाकर्म में क्या फर्क देखती हैं? यूं तो सारी विधाएं एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं. हर विधा का अपना मूल स्वभाव होता है. लेकिन सबके भीतर कहीं न कहीं  

  • अबकी बार किसकी ललकार?
    अबकी बार किसकी ललकार?

    आरोप लगाए जाते हैं कि आईपीएल ने क्रिकेट को एकतरफा बना दिया है. ऐसे में चालू सीजन में मजबूत दिखनेवाली आठों टीमों पर आईपीएल को अधिक रोमांचक और प्रतिस्पर्द्धात्मक बनाने की जिम्मेदारी होगी