Tehelka Hindi — Tehelka Hindi, तहलका हिन्दी एक मुक्त, निष्पक्ष और निर्भीक समाचार आधारित वेब पोर्टल है।
बिहार: दमित दलित
बिहार में इन दिनों दो बातों की चर्चा बेहद आम हो गई है. पहली, मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के दलितों के पक्ष में आनेवाले अटपटे बयान और दूसरा, दलितों के साथ दिन-ब-दिन बढ़ रही हिंसा. क्या इन दोनों चीजों का आपस में कोई संबंध...


‘स्त्री की आकांक्षा भी बेहतर दुनिया की आकांक्षा है’

अल्पना मिश्र उन लेखिकाओं में हैं जिनकी कहानियों की महिला पात्र अपने ही अस्तित्व के लिए जूझ रही है. हाशिए की उस स्त्री के सरोकार सामने लाने वाली अल्पना मिश्र से पूजा सिंह की बातचीत  

‘मोदी से मुलाकात ने चुनाव में मुझे बराबरी का मौका दिया है’

मोदी से मुलाकात से आपकी राजनीति में क्या बदलाव आए हैं? हमें चुनाव के नतीजों का इंतजार करना चाहिए और यह देखना चाहिए कि हमारी पार्टी का प्रदर्शन कैसा रहता है. इसी से पता चलेगा कि मोदी साहब के साथ मेरी मुलाकात फायदेमंद साबित हुई है या नुकसानदेह. मेरे समर्थक  

दरकता दंभ

महाराष्ट्र में राजनीतिक उथल-पुथल थम चुकी है. भारतीय जनता पार्टी के अकेले सरकार बनाने के लगभग डेढ़ महीने बाद अब शिवसेना उनके साथ आ गई है और प्रदेश में इन दोनों के गठबंधनवाली सरकार बन चुकी है. लेकिन अलगाव के इस छोटे दौर में शिवसेना की वह फजीहत हुई, जिसकी  

तहलका हिन्दी पत्रिका
  • volume11_issue_24 वर्ष 6, अंक 24 19 December 2014
  • issue_23_vol_6 वर्ष 6, अंक 23 8 December 2014
  • issue_22_vol_6 वर्ष 6, अंक 22 30 November 2014
  • Cover-21_volume_6 वर्ष 6, अंक 21 7 November 2014
  • shunyakaal वर्ष 6, अंक 20 1 November 2014
  • rahulcover वर्ष 6, अंक 19 15 October 2014
  • cover18 वर्ष 6, अंक 18 30 September 2014
  • cover17 वर्ष 6, अंक 17 19 September 2014
  • cover16 वर्ष 7, अंक 16 2 September 2014
  • cover33 वर्ष 6, अंक 15 7 August 2014
  • 10394033_792862637412168_20 वर्ष 6, अंक 14 21 July 2014
  • Vol-6-Issue13 वर्ष 6, अंक 13 15 July 2014
  • 01 वर्ष 6, अंक 12 30 June 2014
  • Cover-15-May वर्ष 6, अंक 11 4 June 2014
  • cover वर्ष 6, अंक 10 23 May 2014
  • Cover वर्ष 6, अंक 9 5 May 2014
  • cover_8 वर्ष 6, अंक 8 28 April 2014
  • Cover-15-April वर्ष 6, अंक 7 14 April 2014
  • 5 वर्ष 6, अंक 6 31 March 2014
  • Cover वर्ष 6, अंक 5 4 March 2014
  • Cover-28-Feb वर्ष 6, अंक 4 24 February 2014
  • Cover वर्ष 6, अंक 3 10 February 2014
  • 2 वर्ष 6, अंक 2 31 January 2014
  • 1 वर्ष 6, अंक 1 15 January 2014

आवरण कथा More >

  • जेट के जमाई
    जेट के जमाई

    एक जोड़े को हवाई जहाज के इकॉनोमी क्लास में दिल्ली से लंदन आने जाने के लिए करीब एक लाख रुपए तक खर्च करना पड़ता है. लेकिन मनोज मालवीय इतने ही खर्च में पिछले कुछ सालों के दौरान दुनिया भर की 28 खूबसूरत जगहों की सैर कर चुके हैं. पश्चिम बंगाल  

  • असरदार जोड़ीदार
    असरदार जोड़ीदार

    राजनीति की ऐसी ताकतवर जोड़ियां जो कभी अपनी पार्टी की धुरी बनी रहीं तो कभी पूरी भारतीय राजनीति की.  

  • अभियानों के अभियान पर
    अभियानों के अभियान पर

    प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी का पिछले पांच महीने का कार्यकाल भारतीय इतिहास के किसी भी दूसरे प्रधानमंत्री से ज्यादा सक्रिय और जीवंत रहा है. इन चंद महीनों में मोदी ने एक ऐसे व्यक्तित्व से देश का साक्षात्कार करवाया है जो अपनी से आधी उम्र के लोगों से भी  

  • योगी आदित्यनाथ
    योगी  आदित्यनाथ

    देश की नरेंद्र मोदी से अपेक्षाएं और योगी आदित्यनाथ का इतिहास आपस में मेल नहीं खाते  

राज्यवार More >

  • झारखंड
    ‘मेरी लड़ाई किसी मजहब या मर्द जाति से नहीं, एक व्यक्ति से है’
    ‘मेरी लड़ाई किसी मजहब या मर्द जाति से नहीं, एक व्यक्ति से है’

    दो माह पहले तक आप इतने किस्म के लोगों से दिन-रात घिरी रहती थीं, अब अकेली हैं. पता नहीं कहां से इतने लोग इकट्ठा हो गए थे. संगठन वाले, मीडियावाले, राजनीतिवाले. लेकिन मैं जानती थी कि यह कुछ दिनों की ही बात है. फिर कोई नहीं आएगा. यानी आपको पहले  

  • छत्तीसगढ़
    नक्सलवाद पर मतभेद
    नक्सलवाद पर मतभेद

    छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में स्थित सचिवालय में 19 नवंबर को आम दिनों के मुकाबले चहल-पहल कुछ बढ़ गई थी. माहौल में कुछ तनाव भी महसूस हो रहा था. पहले तो लोगों को यह समझ नहीं आया कि साहब लोगों का मूड उखड़ा हुआ क्यों है, लेकिन धीरे-धीरे कारण स्पष्ट  

  • उत्तर प्रदेश
    उत्तर प्रदेश: स्टांप ड्यूटी घोटाला
    उत्तर प्रदेश: स्टांप ड्यूटी घोटाला

      उत्तर प्रदेश में रियल इस्टेट कंपनियों, प्रशासनिक अधिकारियों और राजस्व विभाग के कर्मचारियों का एक गठजोड़ संगठित तरीके से कानूनी पेचीदगियों का फायदा उठाते हुए मोटा पैसा बना रहा है और राजकोष को करोड़ों रुपये का चूना लगा रहा है. यह मामला संपत्ति कर विभाग से जुड़ा है. राज्य  

  • उत्तराखंड
    गुरबत में गूजर
    गुरबत में गूजर

    सरकार की उपेक्षा के चलते उत्तराखंड में हजारों गूजर आदिम हालात में जिंदगी बसर करने को मजबूर हैं.  

समाज और संस्कृति More >

  • सितारा देवी: ओझल सितारा…
    सितारा देवी: ओझल सितारा…

    94 की उम्र में अपने निधन से पहले वह लंबे समय से बीमारियों से जूझ रही थीं. सितारा देवी ने हिंदी सिने जगत में कथक का न केवल प्रवेश कराया बल्कि उसे एक अलग पहचान भी दिलाई. उनको याद करने के कई बहाने हैं. दिलों पर राज करना एक ऐसा  

  • हम फिदा-ए-लखनऊ
    हम फिदा-ए-लखनऊ

    ‘किसी शहर का चरित्र खोजना है तो उसके जन में बसे किस्से-कहानियों में खोजा जाए.’ लखनऊ के संदर्भ में कही गई अमृतलाल नागर की ये पंक्ति इस शहर के मूल चरित्र की पहचान करने में बेहद सहायक है. खुद नागर जी का सम्पूर्ण साहित्य लखनऊ के ऐसे ही बेशुमार किस्से-कहानियां  

  • ‘अस्मिता के प्रश्न, जीवन के मूलभूत प्रश्नों के लिए रोड़ा बनते हैं’
    ‘अस्मिता के प्रश्न, जीवन के मूलभूत प्रश्नों के लिए रोड़ा बनते हैं’

    आप की मूल पहचान कवियत्री के रूप में है. लेकिन आपने अन्य विधाओं में भी रचना की है. विभिन्न विधाओं के रचनाकर्म में क्या फर्क देखती हैं? यूं तो सारी विधाएं एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं. हर विधा का अपना मूल स्वभाव होता है. लेकिन सबके भीतर कहीं न कहीं  

  • इंटरनेट बिन सून
    इंटरनेट बिन सून

    30 साल के रितेश दिल्ली में रहते हैं और एक निजी कंपनी में अकाउंटेंट हैं. इनके पास स्मार्ट फोन है जो कि हाई स्पीड इंटरनेट से जुड़ा हुआ है. रितेश के दिन की शुरुआत स्मार्ट फोन पर मैसेज पढ़ने से होती है फिर वह फेसबुक पर नए अपडेट देखते हैं.