Tehelka Hindi — Tehelka Hindi, तहलका हिन्दी एक मुक्त, निष्पक्ष और निर्भीक समाचार आधारित वेब पोर्टल है।
कंगना तेरा स्वैगर लाख का…
दूसरी लड़कियों की तरह वह भी आईने के सामने खड़ी होकर घंटों खुद को निहारा करती थीं, लेकिन कभी उन्होंने खुद में माधुरी या श्रीदेवी को तलाशने की कोशिश नहीं की. हमेशा उन्होंने आईने के उस पार अपनी पहचान को ढूंढने की कोशिश की...
शादी या बलात्कार का अधिकार
‘मैरिटल रेप’ यानी ‘वैवाहिक बलात्कार’ ऐसा मसला है जिसे भारत के रोजमर्रा के जीवन में जगह नहीं मिलती. भारतीय...
भंवर में भाजपा
बात पिछले महीने की है. पटना के गांधी मैदान में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय गृह...


जल सत्याग्रह: ‘लड़ेंगे-मरेंगे, जमीन नहीं छोड़ेंगे’

देश में भूमि अधिग्रहण कानून को लेकर खूब बहस हो रही है, इधर मध्य प्रदेश में ओंकारेश्वर बांध का जलस्तर बढ़ाए जाने को लेकर करीब एक पखवाड़े से किसान खंडवा जिले के घोघल गांव में जल सत्याग्रह कर रहे हैं. लगातार पानी में खड़े होने से सत्याग्रही किसानों के पैरों  

रोशनी बिखेरता सीतापुर

मिथक है कि यह ऋषियों का नगर था, यथार्थ कहता है कि यह आंखें रोशन करने वाला शहर है...  

अनफ्रीडम : आजादी की दरकार

भारत जैसे आजाद मुल्क में इन दिनों ‘बैन’ यानी ‘प्रतिबंध’ शब्द अखबारों और समाचार चैनलों में खूब सुर्खियां बटोर रहा है. आम तौर पर प्रतिबंध का नाम सुनते ही किसी ‘कठमुल्ला’ और उसके उल-जुलूल फतवे का ध्यान आता है, मगर हमारे देश में इन दिनों सेंसर बोर्ड (केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड)  

आवरण कथा More >

  • स्वार्थ का संगम!
    स्वार्थ का संगम!

    जब तक यह रिपोर्ट प्रकाशित होगी और आप इससे गुजर रहे होंगे, पूरी संभावना है तब तक दिल्ली में मुलायम सिंह के आवास से जनता परिवार के विलय की घोषणा हो चुकी होगी या उसकी आखिरी प्रक्रिया चल रही होगी. मुलायम सिंह यानी नेताजी के नेतृत्व में लालू प्रसाद यादव,  

  • ‘आप’सी खींचतान
    ‘आप’सी  खींचतान

    हर दिन के साथ आम आदमी पार्टी के विवादों का जाल जटिल होता जा रहा है. इस जूतम-पैजार से यही निष्कर्ष निकलता है कि ‘आप’ के एक हिस्से में आलाकमान की चाह बढ़ रही है और दूसरे दलों की तरह ही यहां भी मौकापरस्ती और जोड़तोड़ जैसे दुर्गुण मौजूद हैं  

  • इस्लाम और इल्जाम?
    इस्लाम और इल्जाम?

    मध्यकाल के अंधकारपूर्ण दौर में दो धर्मों के बीच लंबी लड़ाई चली थी. इतिहास में यह लड़ाई क्रूसेड या होली वॉर के नाम से दर्ज है. इस युद्ध को लेकर कई ऐतिहासिक मान्यताएं हैं, इतिहासकारों के अलग-अलग मत हैं. एक विचार कहता है कि यह पूरब में रोमन कैथलिक चर्च के  

  • पार्टी, परिवार, अखबार और भ्रष्टाचार
    पार्टी, परिवार, अखबार और भ्रष्टाचार

    नेशनल हेरल्ड विवाद गांधी परिवार के गले की हड्डी बन सकता है.  

राज्यवार More >

  • बिहार
    उत्तराधिकार या पुत्राधिकार
    उत्तराधिकार या पुत्राधिकार

    महाभारत में एक कहानी है. यह है या नहीं, न मालूम लेकिन कई बार प्रसंगों व संदर्भों के साथ इसे सुनाया जाता है. जब कुरूक्षेत्र में युद्ध समाप्त हो जाता है तो धृतराष्ट्र और कृष्ण आमने-सामने होते हैं. धृतराष्ट्र कृष्ण से पूछते हैं कि तुम्हारा क्या लेना-देना था? तुमने क्यों   

  • उत्तर प्रदेश
    कनहर में दफन होती समाजवाद की थीसिस
    कनहर में दफन होती समाजवाद की थीसिस

    इस साल अक्षय तृतीया पर जब देशभर में लगन चढ़ा हुआ था, बारातें निकल रही थीं और हिंदी अखबारों के स्थानीय संस्करण हीरे-जवाहरात के विज्ञापनों से पटे पड़े थे, तब बनारस से सटे सोनभद्र के दो गांवों में पहले से तय दो शादियां टल गईं. फौजदार (पुत्र केशवराम, निवासी भीसुर)  

  • उत्तराखंड
    गुरबत में गूजर
    गुरबत में गूजर

    सरकार की उपेक्षा के चलते उत्तराखंड में हजारों गूजर आदिम हालात में जिंदगी बसर करने को मजबूर हैं.  

  • झारखंड
    ‘मेरी लड़ाई किसी मजहब या मर्द जाति से नहीं, एक व्यक्ति से है’
    ‘मेरी लड़ाई किसी मजहब या मर्द जाति से नहीं, एक व्यक्ति से है’

    दो माह पहले तक आप इतने किस्म के लोगों से दिन-रात घिरी रहती थीं, अब अकेली हैं. पता नहीं कहां से इतने लोग इकट्ठा हो गए थे. संगठन वाले, मीडियावाले, राजनीतिवाले. लेकिन मैं जानती थी कि यह कुछ दिनों की ही बात है. फिर कोई नहीं आएगा. यानी आपको पहले  

समाज और संस्कृति More >

  • 10 साल की दास्तान
    10 साल की दास्तान

    उर्दू में लंबी कहानियां सुनाने की कला को दास्तानगोई के नाम से जाना जाता है. यह अजीम-अो-शान कला इस साल अपने पुनरुत्थान के दस साल पूरे कर रही है. इस बिसरा दी गई विरासत को अवाम के बीच फिर से मशहूर करने के लिए कुछ युवा पुरजोर कोशिश में लगे हैं  

  • इंटरनेट बिन सून
    इंटरनेट बिन सून

    30 साल के रितेश दिल्ली में रहते हैं और एक निजी कंपनी में अकाउंटेंट हैं. इनके पास स्मार्ट फोन है जो कि हाई स्पीड इंटरनेट से जुड़ा हुआ है. रितेश के दिन की शुरुआत स्मार्ट फोन पर मैसेज पढ़ने से होती है फिर वह फेसबुक पर नए अपडेट देखते हैं.  

  • सितारा देवी: ओझल सितारा…
    सितारा देवी: ओझल सितारा…

    94 की उम्र में अपने निधन से पहले वह लंबे समय से बीमारियों से जूझ रही थीं. सितारा देवी ने हिंदी सिने जगत में कथक का न केवल प्रवेश कराया बल्कि उसे एक अलग पहचान भी दिलाई. उनको याद करने के कई बहाने हैं. दिलों पर राज करना एक ऐसा  

  • फोटो जिन्हें सुहाते हैं
    फोटो जिन्हें सुहाते हैं

    उन्हें तस्वीरें खिंचवाना पसंद है और फोटोग्राफरों को उनकी तस्वीरें खींचना. वे न केवल फोटोग्राफरों को ऐसा करने के भरपूर मौके देते हैं बल्कि मौके के मुताबिक अपने अंदर बदलाव लाकर उनमें ऐसा करने का उत्साह भी भरते हैं. वे फोटोग्राफरों से सही व्यवहार न करने के लिए अपने सुरक्षाकर्मियों को डांटते भी हैं. जाहिर-सी बात है वे फोटोग्राफरों के चहेते हैं. विकास कुमार ने देश के जाने-माने ऐसे प्रेस फोटोग्राफरों से बात की जिन्होंने करीब से प्रधानमंत्री नरेंद्र...