राज्यवार Archives | Page 13 of 14 | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
उत्तराखंड: ‘ठंडे’ पर सरगर्मी

उत्तराखंड में कोका कोला कंपनी को प्लांट के लिए जमीन देने का फैसला जिस तरह हुआ है उससे कई गंभीर सवाल खड़े होते हैं. मनोज रावत की रिपोर्ट.  

उल्टा पड़ता दांव

उत्तराखंड में पिछली भाजपा सरकार के कथित घोटालों की जांच करने के लिए बनाए गए आयोग की जांच रिपोर्ट मौजूदा कांग्रेस सरकार पर ही भारी पड़ती दिख रही है. मनोज रावत की रिपोर्ट.  

बेकाबू बेनी बाबू

बात-बेबात कुछ भी कह जाने वाले केंद्रीय इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ऐसा कैसे करते रह सकते हैं? बृजेश सिंह की रिपोर्ट  

रिश्तेदारों और दागियों के सहारे

2014 के लोकसभा चुनावों की जंग के लिए बसपा उत्तर प्रदेश में वही दांव आजमाने की तैयारी में है जिससे परहेज करने का वह बार-बार दावा कर रही है. जयप्रकाश त्रिपाठी की रिपोर्ट  

प्रतिरोध का प्रारब्ध

नरेंद्र मोदी के विरोध में भाजपा से अलगाव क्या नीतीश कुमार को मुस्लिम राजनीति का एकमात्र चैंपियन बना सकता है? निराला की रिपोर्ट.  

अपनी कहानी अपनी जबानी

अपनी बात अपनी भाषा में नहीं कह पाने की बेचैनी आदिवासी और देशज समाज द्वारा तरह-तरह की समाचार पत्र-पत्रिकाओं के प्रकाशन और विविध विषयों पर पुस्तकों के रूप में सामने आ रही है. अनुपमा की रिपोर्ट.  

मर्ज कुछ इलाज कुछ

झारखंड में माओवादियों से निपटने में लगी पुलिस अपनी बुनियादी समस्याओं का हल खोजने के बजाय फौरी समाधान की राह चलती दिखती है. अनुपमा की रिपोर्ट.  

भ्रष्टाचार का ‘राजमार्ग’
by

देश में कई सालों से सड़क निर्माण के लिए बड़ी कंपनियों को नियमों के विपरीत ठेके देने या सड़क निर्माण में घटिया किस्म की सामग्री इस्तेमाल करके भ्रष्टाचार करने के मामले सामने आते रहे हैं. पर इन दिनों छत्तीसगढ़ में सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार का एक ‘अभिनव’ मामला देखने को  

कटघरे में शिवराज
by

मध्य प्रदेश में इस साल हो रहे विधानसभा चुनाव में जीत की हैट्रिक बनाने के लिए भाजपा मुख्यमंत्री चौहान की छवि को लेकर मैदान में उतरने जा रही है. किंतु गेमन इंडिया लिमिटेड कंपनी (मुंबई) को राजधानी भोपाल के बीचोबीच आवंटित 15 एकड़ सरकारी जमीन चौहान के लिए गले की  

ताजपोशी के पीछे

उत्तराखंड में भाजपा अध्यक्ष पद पर तीरथ सिंह रावत की ताजपोशी के दौरान तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों के आपसी समीकरण जिस तरह बदले उससे एक बार फिर साबित हुआ कि राजनीति में कोई स्थायी दोस्त या दुश्मन नहीं होता. मनोज रावत की रिपोर्ट