साक्षात्कार Archives | Page 3 of 5 | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
‘ये हो सकता है तो कुछ भी हो सकता है’

आत्मकथाएं लिखना चुनौती भरा काम होता है. अपने जीवन पर आधारित नाटक लिखने का विचार आपको किस तरह से आया? 12 या 15 साल पहले मैं अपने जीवन के एक बुरे दौर से गुजर रहा था. मेरे निर्देशन में बनी पहली फिल्म ‘ओम जय जगदीश’ का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा.  

‘पश्चिम ने जो समस्या हमारे यहां खड़ी की वह अब उनकी ओर बढ़ रही है’

किन कारणों से इतनी बड़ी संख्या में सीरियाई नागरिक यूरोप की ओर पलायन कर रहे हैं? आप क्या सोचते हैं, इसके लिए कौन जिम्मेदार है?  सबसे पहले मैं आपसे ये पूछना चाहता हूं कि इस समस्या के पीछे कौन है? शरणार्थी संकट की वजह क्या है? सीरिया में यह समस्या  

‘यह लोकतंत्र के रूप में नया राजतंत्र है’

बनारस अब तो शांत दिख रहा है लेकिन सुना जा रहा है कि अंदर ही अंदर अभी माहौल गर्म है. ये उपद्रव आपके नेतृत्व में निकली अन्याय प्रतिकार यात्रा के कारण हुआ, जिसमें पुलिस ने लाठीचार्ज किया और बाद में कर्फ्यू भी लगा. क्या आगे भी ऐसी कोई यात्रा निकालने  

‘लालू सत्ता में वापस आते हैं तो यादव फिर शक्तिशाली हो जाएंगे’

पिछले विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार राजग के सहयोगी के बतौर उतरे थे, जबकि इस बार वे लालू प्रसाद के साथ मिलकर भाजपा के नेतृत्व वाले राजग के सामने उतर रहे हैं. आपका इस बार के विधानसभा चुनावों के बारे में क्या कहना है? इस बार का चुनाव कुछ हद  

‘जो किसान फंदे पर लटकने से नहीं डर रहा, वो किसी को मारने से भी नहीं झिझकेगा’

वह क्या था, जिसने आपको किसानों की मदद के लिए आगे आने को प्रेरित किया? मैं भी एक किसान हूं. मैं खेती की हकीकत और उस पीड़ा से परिचित हूं, जिनसे किसान गुजरते हैं. हम लोग यह सब उनके लिए ही नहीं बल्कि खुद के लिए भी कर रहे हैं.  

‘जीडीपी और आर्थिक विकास, दुनिया के सबसे झूठे शब्द हैं, इनके कारण ही दुनिया का विनाश होगा’

तकरीबन चार दशक से आप भारत को नजदीक से देख रहे हैं. आप जब यहां आए तब और अब के भारत में आपको क्या फर्क नजर आता है? इसका जवाब देना मुश्किल है. कितने बदलावों की बात करूं. जब भारत आया था तो यहां की नदियां, नदी की तरह ही  

‘आरएसएस इस देश को एक हिंदू राष्ट्र बनाना चाहता है’

आप पर म्यूजियम बनाने के लिए फोर्ड फाउंडेशन से मिले धन का गबन करने का आरोप है. इसमें कितनी सच्चाई है? गुजरात पुलिस की क्राइम ब्रांच के द्वारा हम पर लगाए गए किसी भी आरोप में कोई सच्चाई नहीं है. इनमें से कुछ आरोप अभी हाल में सत्ता द्वारा नियंत्रित  

‘महिलाओं की समस्या सुनना मेरा काम है, लोग आरोप लगाते हैं तो लगाएं’

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष बरखा सिंह पिछले कुछ समय से लगातार विवादों में हैं. बीते दिनों सोमनाथ भारती पर घरेलू हिंसा का आरोप लगने के बाद उनकी पत्नी लीपिका मित्रा के साथ अपने घर पर प्रेस वार्ता करने से इन विवादों को फिर से हवा मिल गई है. उन पर आम आदमी पार्टी के खिलाफ काम करने के आरोप लग रहे हैं. उनसे विकास कुमार की बातचीत  

‘साहित्य में तुम मेरी पीठ खुजाओ, मैं तुम्हारी खुजाता हूं… बेहद आम बात हैै’

हिंदी अपराध लेखन में शीर्ष लेखकों में शुमार सुरेंद्र मोहन पाठक का मानना है कि लोकप्रिय साहित्य का पाठक अपने लेखक की हैसियत बनाता है, खालिस साहित्यकार इस हैसियत से वंचित हैं. विकास कुमार की उनसे खास बातचीत  

‘हमने गैर हिंदुओं के प्रवेश पर पाबंदी नहीं लगाई, उसे नियंत्रित किया है’

हाल ही में गुजरात स्थित प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर में बिना मंजूरी गैर हिंदुओं के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गई है. मंदिर प्रबंधन की ओर से जारी किए गए नोटिस के मुताबिक ‘श्री सोमनाथ ज्योतिर्लिंग हिंदुओं के लिए तीर्थ स्थान है. इस पवित्र तीर्थ स्थल पर गैर हिंदुओं को प्रवेश के लिए (मंदिर के) महाप्रबंधक कार्यालय से इजाजत लेनी होगी.’ गैर हिंदुओं को लेकर बनाए गए इस नियम के सामने आने के बाद से ही विवाद छिड़ गया है....