आवरण कथा Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
सरकारों को परवाह नहीं किसानों की

आज़ादी के बाद के 70 सालों में देश ने कई मोर्चों पर तरक्की की है। खासतौर पर उद्योग और सेवा क्षेत्र में भारी निवेश आया है। पर दुख की बात यह है कि इन क्षेत्रों में उठाया गया हर कदम किसानों में निराशा ही लेकर आया। भारत एक विशाल देश है। इसमें  

अवैध खनन का बड़ा घोटाला

यह एक घोटला है, कोयला ब्लाक घोटाले से भी कहीं ज़्यादा बड़ा और खतरनाक। इससे देश की खनिज संपदा की सीधी लूट हो रही है। इनमें ’लियोनिट’, ‘टाइटेनियम आकऑक्साइड’ (रंजारिज) तुरसावस (जि़रकोन) और मोनाज़ाइट जैसे खनिज शामिल हैं। मोनाजाइट एक ऐसा खनिज है जिस पर चीन समेत कई देशों में प्रतिबंध है।  

उत्तर-पूर्व केसरिया हुआ पर उत्तर प्रदेश, बिहार में झटका

उत्तर-पूर्व में जीत का जो उन्माद भाजपा में भरा था, वह उत्तर प्रदेश और बिहार के उपचुनावों में मिली पराजय से उतर गया। गोरखपुर की सम्मान का प्रतीक बनी सीट के हारने से भाजपा को खासा धक्का लगा है। ध्यान रहे कि गोरखपुर की सीट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस्तीफे से  

दिल्ली सरकार और नौकरशाह में भिड़ंत

आम आदमी पार्टी -आप पार्टी- के गठन के दौरान से ही पार्टी अपनी शर्तो पर चलने की इस कदर हावी हो गई है, कि कोई भी अगर पार्टी के खिलाफ आवाज उठायें या फिर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल कि विरोध में कुछ भी बोले तो आप पार्टी अपने तरीके से उसके  

युवाओं का साथ पाने के लिए हुई हुंकार रैली

देश के जनसमाज को जागरूक करने के लिए देश का युवा वर्ग आज आंदोलन की राह पर है। जिग्नेश मेवाणी, हार्दिक पटेल, और अल्पेश ठाकोर जैसे युवाओं ने आपसी एकजुटता के साथ एक राज्य में सत्ता को चुनौती दी। मुकाबला भी खासा चुनौती पूर्ण रहा। देश के युवाओं को साथ लेने की  

कयास की धुंध में जीत हार के दावे

अगले महीने की 18 तारीख को वोटिंग मशीनों से जब नतीजे निकलेंगे तब सूबे के पहाड़ों पर बर्फ की परत जम चुकी होगी। नतीजे इस ठण्ड को राजनीतिक गर्मी में बदल देंगे। मतदाता की खामोशी के बीच अभी तक के सबसे ज्यादा मतदान से कयास की ऐसी गहरी धुंध प्रदेश के राजनीतिक  

हिमाचल में जारी चुनावी जंग बागी बिगाड़ेंगे खेल?

नौ नवम्बर के विधानसभा चुनाव के लिए हिमाचल में चुनावी रणक्षेत्र सज गया है। प्रदेश के चुनावी इतिहास में यह पहला मौका है जब मुख्यमंत्री पद के दोनों प्रमुख संभावित उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल और वीरभद्र सिंह नए हलकों से चुनाव लड़ रहे हैं। 68 सीटों वाली विधानसभा में प्रवेश के लिए 338 प्रत्याशी  

समय से पहले ही 2018 में होंगे आम चुनाव?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह इस हुनर में माहिर हैं कि हमेशा वे विपक्ष को नींद से जगाते रहे हैं। ऐसी संभावना है कि लोकसभा चुनाव जो 2019 मेेेें होने हैं उन्हें 2018 समाप्त होने के पहले ही कराने का संदेश ये दोनों महारथी दे दें। इसी की  

देश के करोड़ों घरों में अब रातों में भी उजाला

वंशवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ  मुहिम   अर्से से लोगों को इंतजार था कि प्रधानमंत्री देश की आर्थिक विकास दर दुरुस्त करने के लिए ऐसी योजनाएं पेश करेंगे जिससे रोजगार दर बढ़े और शहरी और ग्रामीण इलाकों में विकास हो। प्रधानमंत्री ने भारतीय जनता पार्टी की कार्यकारिणी की बैठक के दिन 25 सितंबर  

बाबा को बीस साल का कारावास

सिरसा के डेरा प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम सिंह को आखिर कार अपने गुनाहों की सजा मिल ही गई। दो साध्वियों का यौन शौषण करने के दो अलग-अलग मामलों में गुरमीत सिंह को सीबीआई की विशेष अदालत ने 10-10 साल की कैद और 15-15 लाख रुपए जुर्माने की सज़ा सुनाई