‘देश के सम्मान के लिए आमिर ऑटोरिक्शा वालों को अच्छा व्यवहार करने की सीख देते हैं, उन्हें वैसी ही सीख पत्नी को भी देनी चाहिए’ | Tehelka Hindi

साक्षात्कार A- A+

‘देश के सम्मान के लिए आमिर ऑटोरिक्शा वालों को अच्छा व्यवहार करने की सीख देते हैं, उन्हें वैसी ही सीख पत्नी को भी देनी चाहिए’

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव व थिंक टैंक ‘इंडिया फाउंडेशन’ के निदेशक राम माधव आरएसएस और भाजपा के बीच ऐसे रणनीतिकार हैं जो संघ के हिंदूवादी एजेंडों और भाजपा की लोकतांत्रिक मजबूरियों के बीच सामंजस्य बैठाने का काम करते हैं. भाजपाई गलियारे से लेकर संघ की शाखाओं तक उनकी साख और स्वीकार्यता निर्विवाद है. वे संघ की आवाज को जनता के बीच मजबूती से रखने के साथ भाजपा और उसके सहयोगी दलों के बीच चाणक्य की भूमिका निभाते हैं. वरुण बिधूड़ी ने राम माधव से बातचीत में बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार और असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और केरल में होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी और रणनीति पर सवाल किए

Ram Madhav by vijay pandey (2)web

Photo- Vijay Pandey

भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व पर बिहार चुनाव नतीजों का क्या असर पड़ा? क्या किसी बदलाव के बारे में सोचा जा रहा है?

बिहार चुनाव विधानसभा का चुनाव था. भाजपा में एक पूरी प्रक्रिया है जिसके तहत राज्यों से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक हम चुनाव कार्य संपन्न कराते हैं. वह प्रक्रिया चल रही है, जब यह पूरी हो जाएगी तो परिणाम सबके सामने आ जाएगा.  

क्या लगता है, बिहार चुनाव के नतीजे अमित शाह के दूसरी बार अध्यक्ष चुने जाने को प्रभावित करेंगे?

इन दोनों चीजों में आपस में कोई संबंध नहीं है. पार्टी संगठन के भीतर के चुनावों और विधानसभा चुनावों के बीच कोई संबंध नहीं है.

आप कह चुके हैं कि किसी भी एक व्यक्ति को जिम्मेदार ठहराने की जगह पार्टी को बिहार में हार के कारणों पर आत्मचिंतन करना चाहिए. आपके अनुसार बिहार में इस हार के क्या कारण हैं?

बिहार में खराब प्रदर्शन के कारणों पर हमने विभिन्न स्तरों पर विचार विमर्श किया है. जो चुनाव परिणाम हमें वहां मिले, उनके कारणों के बारे में काफी स्पष्टता आई है. हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि यह चुनाव परिणाम दो हिस्सों में है. सीटों के मामले में हमने मुंह की खाई है. हम बहुत कम संख्या में सीटें जीत पाए, लेकिन वोट की संख्या के मामले में हमारा प्रदर्शन काफी अच्छा रहा. हमने बड़ी संख्या में वोट प्राप्त किए हैं. कुल मिलाकर इस तरह का परिणाम आने के बहुत से मिले जुले कारण रहे हैं, जिसकी वजह से इस तरह का जनमत मिला है. हमने काफी विश्लेषण किया है और इससे हमने जरूरी सबक भी सीखा है. पार्टी इन सब पर मीडिया से चर्चा नहीं करेगी.

भाजपा ने बिहार में मोदी को आगे रख चुनाव क्यों लड़ा? क्या इससे पार्टी के प्रदर्शन पर प्रतिकूल असर पड़ा है?

बिहार में केवल मोदी जी ने ही चुनाव प्रचार नहीं किया. पार्टी के बहुत से लोगों ने प्रचार किया. हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी जोर-शोर से चुनाव प्रचार किया था. बिहार चुनाव हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण था. सिर्फ बिहार ही नहीं बल्कि हर राज्य का चुनाव हमारे लिए महत्वपूर्ण है. चुनाव में हम हमेशा अपने सबसे बेहतर नेताओं को आगे रखते हैं और बिहार में भी हमने यही किया. हमारे राज्य या राष्ट्रीय स्तर के जो भी नेता वहां प्रचार के लिए गए, उन सभी ने बिहार के विकास और बेहतर भविष्य की बात की. हमने चुनाव को गंभीरता से लिया और हम गंभीरता से लड़े भी. चुनाव किसी एक व्यक्ति पर आधारित नहीं था न ही किसी एक व्यक्ति को आगे किया गया. हर किसी ने चुनाव प्रचार में योगदान दिया. हमने अपने सबसे बेहतर नेताओं को आगे रखा और दूसरे लोगों ने भी ऐसा ही किया. जहां तक उल्टा असर पड़ने की बात है तो इसका जवाब ‘नहीं’ है. जैसा कि मैंने पहले भी कहा कि चुनाव किसी एक मुद्दे या किसी एक चेहरे को आगे करके नहीं लड़ा गया. अगर कोई हारता है तो ऐसा किसी एक कारण से नहीं हो सकता. इसके लिए कई कारण जिम्मेदार होते हैं. मेरा आपसे यह सवाल है कि बिहार में हम 25 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 55 सीटें कैसे जीते? बिहार में हमें सबसे ज्यादा वोट मिले हैं. इसके लिए भी अनेक कारण जिम्मेदार हैं, जिसमें प्रधानमंत्री की लोकप्रियता भी शामिल है जो आज की तारीख में भी ज्यों की त्यों बनी हुई है. मैं फिर कहूंगा कि बिहार चुनाव में हमारी हार के लिए बहुत से कारण जिम्मेदार हैं, केवल कोई एक कारण या चेहरा जिम्मेदार नहीं है.

लालकृष्ण आडवाणी, यशवंत सिन्हा, मुरली मनोहर जोशी और शांता कुमार जैसे वरिष्ठ सदस्यों द्वारा बिहार चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन की आलोचना के बारे में क्या कहना है?  

ये सब बीते समय की बातें हो गई हैं. खुद आडवाणी जी ने यह कहा है कि ‘अब पार्टी में नई ऊर्जा है’ जीत और हार दोनों ही मौकों पर लोग अपने दिल की बात को विभिन्न तरह से व्यक्त करते हैं. हम भाजपा में हैं और यह एक लोकतांत्रिक पार्टी है. हमने सभी तरह के विचारों और आलोचनाओं पर गौर किया है और पार्टी की कार्यप्रणाली की समीक्षा और विश्लेषण में इनसे मदद ली है.

क्या बिहार चुनाव परिणाम का असर असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और केरल में होने वाले विधानसभा चुनावों पर भी पड़ेगा?

Pages: 1 2 Single Page

Comments are closed