सीबीएसई ने बताया सुप्रीम कोर्ट को 12वीं के नतीजे का फार्मूला, 10वीं-11वीं के 30-30, 12वीं प्री बोर्ड के 40 प्रतिशत अंक जुड़ेंगे  

सीबीएसई ने गुरुवार को सर्वोच्च न्यायालय को बताया कि वह 12वीं के मूल्यांकन (नतीजे) के लिए 10वीं और 11वीं के अंकों पर क्रमशः 30-30 प्रतिशत वेटेज और 12वीं प्री बोर्ड के अंकों पर 40 प्रतिशत वेटेज का फार्मूला अपनाएगा। सीबीएसई ने  यह भी बताया है कि 12वीं के नतीजे 31 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे।

कोविड-19 महामारी और इसके कारण बार-बार लग रहे लॉकडाउन के चलते 12वीं   की सीबीएसई बोर्ड परीक्षा रद्द करनी पड़ी थी। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं कक्षा के लिए निष्पक्ष मानदंड तय करने के लिए तीन जून को केंद्र सरकार को दो सप्ताह का समय दिया था। सीबीएसई ने 4 जून को 13 सदस्यीय समिति का गठन करके उसे 10 दिन के भीतर रिपोर्ट देने के लिए कहा था।

अब इस समिति ने सर्वोच्च अदालत के सामने 12वीं के नतीजे का अपना फार्मूला रखा है। इसमें यह भी गुंजाइश राखी गयी है कि यदि कोई छात्र नतीजे से संतुष्ट नहीं है तो वह इसके खिलाफ संभावित समिति के सामने अपील कर सकता है। वैसे छात्र चाहें तो घर बैठकर ही अपने रिजल्ट और मार्क्स का गुना-भाग कर सकते हैं।
सरकार के मुताबिक छात्रों की मार्कशीट 10वीं, 11वीं और 12वीं प्री बोर्ड के रिजल्ट को आधार बनाकर तैयार की जाएगी। इसके लिए कक्षा 10वीं के रिजल्ट के आधार पर 30 फीसदी, 11वीं के रिजल्ट के आधार पर 30 फीसदी और 12वीं प्री बोर्ड या यूनिट टेस्ट के आधार पर 40 फीसदी अंक जुड़ेंगे।