आम आदमी पार्टी Archives | Page 3 of 6 | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi

Post Tagged with: "आम आदमी पार्टी"

आम आदमी पार्टी: कहां गए वे लोग?

दिल्ली के विधानसभा चुनाव और देश के लोकसभा चुनाव के दरम्यान आम आदमी पार्टी में शामिल हुए तमाम नामी गिरामी चेहरे फिलहाल कहां हैं?  

सदन में सक्रिय राहुल गांधी

लंबे समय बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी लोकसभा में हमलावर नजर आए  

दिल्ली विधानसभा चुनावः  आप की चुस्ती, भाजपा की सुस्ती

पिछले कुछ दिनों से आम आदमी पार्टी के बार-बार बयान आ रहे हैं कि दिल्ली की विधानसभा भंग होनी चाहिए और तुरंत चुनाव कराए जाने चाहिए. अपनी मांग को लेकर वे हाल ही में दिल्ली के उपराज्यपाल से भी मिले. इस पर पार्टी ने अदालत में एक याचिका भी दायर  

‘लोग संगठन बनाकर चुनाव लड़ते हैं हमने चुनाव के जरिए संगठन बनाया है’

चुनाव की हड़बड़ी, पार्टी के भीतर घमासान और दूसरे तमाम मुद्दों पर आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया की तहलका के कार्यकारी संपादक संजय दुबे और ब्यूरो प्रमुख अतुल चौरसिया से हुई बातचीत  

केजरीवाल इतनी जल्दी में क्यों हैं?

पिछले कुछ दिनों से आम आदमी पार्टी के बार-बार बयान आ रहे हैं कि दिल्ली की विधान सभा भंग होनी चाहिए और तुरंत चुनाव कराए जाने चाहिए. अपनी मांग को लेकर वे हाल ही में दिल्ली के उपराज्यपाल से भी मिले. इस पर पार्टी ने अदालत में एक याचिका भी  

सबसे बड़ी चुनौती

आम आदमी पार्टी की सबसे बड़ी चुनौती विरोधी दल या मतदाताओं का घटा विश्वास नहीं, बल्कि उसके अपने कार्यकर्ता हैं.  

‘इन नतीजों का अर्थ यह नहीं कि हम असफल हुए’

पिछले साल दिल्ली विधानसभा चुनाव में 70 में से 28 सीटें जीतकर आम आदमी पार्टी (आप) ने चौंकाने वाली शुरुआत की थी. फिर उसने आम चुनावों में 434 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए. इनमें पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता व उद्यमियों से लेकर बिल्कुल आम लोग भी शामिल थे. हालांकि अपने पहले लोकसभा चुनाव में 'आप' अपेक्षानुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाई. पार्टी को पूरे देश में सिर्फ चार सीटों पर जीत मिली. दिल्ली, जहां पार्टी को सबसे मजबूत समझा जा...  

केजरीवाल बनाम चैनल

केजरीवाल के बयान और चैनलों की प्रतिक्रिया, दोनों में सवालिया अतिरेक है  

गति की अति!

अपने कार्यकाल के पहले ही महीने में आप सरकार ने जो किया है उसे अभूतपूर्व कहा जा सकता है. लेकिन इस दौरान वह जिस तरह नित नए विवाद में घिरी रही वह भी कम असाधारण नहीं. अब जिस तरह पार्टी चादर से ज्यादा पांव फैलाने की कोशिश कर रही है, वह उसके भविष्य के लिए किस तरह के संकेत देता है?  

फड़फड़ाती उम्मीद की लौ

कल तक भारतीय राजनीति में उम्मीद की मशाल जलाने वाली आम आदमी पार्टी की आगे की राह कैसी है?