‘मोदी बिहार का जितना दौरा करेंगे, उतना फायदा हमें मिलेगा’ | Tehelka Hindi

बिहार A- A+

‘मोदी बिहार का जितना दौरा करेंगे, उतना फायदा हमें मिलेगा’

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव साथ मिलकर ताल ठोंक रहे हैं. दोनों के बीच बढ़ती नजदीकियों से जदयू अध्यक्ष शरद यादव थोड़ा असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. हालांकि इस बात को वे जाहिर होने नहीं देना चाहते. उनका कहना है कि महागठबंधन का पूरा फायदा उनकी ही पार्टी को मिलेगा

Sharad Yadav by Shailendra (7)-webजनता दल (यूनाइटेड) नेता और राज्यसभा सांसद शरद यादव संसद में किसी विषय पर चल रही बहस को रहस्यमयी तरीके से भटकाने के लिए जाने जाते हैं. हाल ही में जब संसद में बीमा विधेयक पर बहस चल रही थी, तब अचानक शरद यादव ने लीक से हटकर गोरी त्वचा और दक्षिण भारतीय महिलाओं की नृत्य क्षमता के बारे में बोलना शुरू कर दिया. इस घटना से न सिर्फ उनके हंसी-मजाक में प्रवीण होने के बारे में पता लगा बल्कि उनके हठी होने का भी प्रमाण मिला. राज्यसभा में विधेयक के पारित होने से पहले ही वे सदन से बाहर चले गए. इस घटना से ये  भी साफ हुआ कि जदयूू अध्यक्ष की  दिलचस्पी मुद्दे पर चल रही बहस में न होकर अप्रासंगिक विषयों में थी.

अगले कुछ महीनों में बिहार विधानसभा चुनाव हैं और इसके मद्देनजर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने मिलकर चुनाव लड़ना तय किया है. चर्चा है कि दोनों के बीच बढ़ रही नजदीकियों को लेकर शरद यादव असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. इस अफवाह को सिरे से खारिज करते हुए वे कहते हैं, ‘हाल के दिनों में जदयू और राजद का करीब आना बहुत अच्छी बात है. यह महागठबंधन राज्य में राजनीति की दिशा बदल देगा. हम लोगों के बीच लंबे समय तक दूरी बनी रही पर अब हम मित्र हैं और मिलकर काम करेंगे, जैसा हम पहले करते रहे हैं. ये गठबंधन हमारे लिए अच्छा है.’

जदयूू और राजद के बीच लंबे समय तक दूरी बन जाने की वजह से उनकी पार्टी को काफी नुकसान हुआ है और वे इसे स्वीकारते भी हैं, ‘जदयू और राजद के गठबंधन को लेकर पार्टी के कार्यकर्ता खुश हैं. इसका असर चुनाव परिणामों पर भी दिखेगा. दोनों दलों के बीच दरार पड़ने का सर्वाधिक लाभ  (भाजपा) को मिला है. कई सालों की इस दरार का खामियाजा हमें पिछले चुनावों में हार के बतौर उठाना पड़ा था. 2014 के लोकसभा चुनाव में यूपीए की असफलता की वजह से ही उन्हें पूर्ण बहुमत मिल सका.’

हालांकि जब उनसे जदयू और राजद के बीच 80 के दशक में बने गठबंधन और फिर 90 के दशक में दोनों दलों के बीच  आई दूरी के बारे में सवाल पूछा तो टालते हुए उन्होंने कहा, ‘यह बहुत पुरानी बात है इसलिए उस बारे में बात करना ठीक नहीं होगा. दोनों ही पार्टियों की विचारधारा एक ही है और अब दोनों साथ हैं.’

जीतन राम मांझी के बारे में पूछने पर वे कहते हैं, ‘उन्होंने  संविधान के किसी नियम का अनुसरण नहीं किया. उन्हें वित्त और राजकोष की कोई समझ नहीं है. हमें उनसे उम्मीद थी और यही वजह थी कि उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी दी गई थी. मुख्यमंत्री का पदभार संभालते ही उन्होंने पार्टी की विचारधारा को ही भुला दिया.’

जीतन राम मांझी द्वारा गठित पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (एचएएम) और भाजपा के बीच हुए गठजोड़ के बारे में शरद यादव कहते हैं, ‘हमें उनके (मांझी) दलित वोट बैंक की फिक्र नहीं है. वे दरअसल कांग्रेस में थे और बाद में हमारे साथ आ गए तो पार्टी ने उनके पक्ष में वोट किया और फिर हम लोगों ने उन्हें मुख्यमंत्री बनाया.’

Pages: 1 2 Single Page
Type Comments in Indian languages