झपसु मियां के बारे में पढ़कर दोनों धर्मों के अतिवादी शर्मसार होंगे

0
59

jhapsu

‘की हो झा जी, की मर्दे; आदमी साठा तब पाठा, बियाह कर ले बेटबा-पुतहुआ ठंडा हो जइतौ.’ झपसु मियां हर रोज की तरह अपने दालान में बैठकी लगाने आए और अपने मित्र कपिल झा को ब्याह करने की सलाह दी तो एकबारगी सब ठठाकर हंस पड़े. ऐसे ही थे झपसु मियां. कुछ महीने पहले उनका इंतकाल हो गया. उनके जनाजे में गांव के हर उम्र के लोग शामिल हुए और सभी उनके मिलनसार स्वभाव और उदार मन का विश्लेषण कर रहे थे.

छह फुट से कुछ अधिक लंबे और गोरे-चिट्टे. संस्कारी. उन्हें दूर से ही पहचाना जा सकता है क्योंकि वे हमेशा बगबग करते (सफेद) कुर्ता और धोती पहनते थे. कुर्ते पर गमछा भी होता था. उनको दूर से पहचानने के लिए ये काफी था. वे कमर में ढेंका खोंस के धोती पहनते थे. उनके कपड़े पहनने का अंदाज कुछ-कुछ जमींदार जैसा था. सभी ने उनको हमेशा ऐसे ही देखा था. 75 साल की उम्र में भी वे हर साल प्रतिदिन दाढ़ी बनाते थे. नमाज, टोपी, दाढ़ी जैसे धार्मिक आडंबरों का प्रदर्शन करते उन्हें कभी किसी ने नहीं देखा था. गांव में कोई मस्जिद तो थी नहीं इसलिए तीन किलोमीटर दूर बरबीघा की मस्जिद में वो जुमे की नमाज पढ़ने कभी-कभार जाते थे पर वही धोती पहन के, ढेंका खोंस के…

बिहार के शेखपुरा जिले के बरबीघा कस्बे के पास बभनबीघा गांव में लगभग 500 हिंदू परिवार रहता है. पूरे गांव में सिर्फ झपसु मियां का ही एक परिवार मुस्लिम धर्म से ताल्लुक रखने वाला था. वे अपने परिवार में सबसे बड़े थे. वैसे तो उनका नाम नसीरुद्दीन था पर उन्हें इस नाम से पूरे गांव में कोई नहीं जानता. उनका परिवार बहुत बड़ा था. वे पूरी जिम्मेदारी के साथ परिवार को संभालकर रखते. उन्होंने अपने बच्चों के नाम भी राजेश, छोटे, बेबी, रूबी आदि रखा था. किसी को शायद ही एहसास हुआ हो कि वो मुसलमान हैं. झपसु मियां और उनके गांव के बीच गर्मजोशी से भरे रिश्ते को देखकर लगता कि आपसी प्रेम, सौहार्द, भाईचारा जैसे सारे शब्द इस गांव और इस परिवार तक आकर छोटे पड़ गए हों.

झपसु मियां के घर जब भी किसी भोज का आयोजन होता तो पूरा गांव भोज खाने पहुंचता था. भोज की सारी व्यवस्था गांव के हिंदू लड़कों के कंधों पर ही होती

गांव में बड़ी और छोटी जोत वाले किसानों के बीच झपसु मियां कहीं-न-कहीं सेतु का काम करते रहे. मुझे आज भी याद है कि तीस साल पहले अपने बचपन के दिनों में हम कई बार उनके ट्यूबवेल पर पहुंच जाते और घंटों धमाचौकड़ी मचाते रहते. हमने उनके बगीचे से दर्जनों बार अमरूद, फनेला आदि चुराकर खाए… गांव में किसी की भी मौत होती तो उनके परिवार के लोग झपसु मियां के ट्यूबवेल के आसपास लगे बंसेढ़ी बगैर किसी हिचक के पहुंच जाते और बांस काटकर ले आते. उनके बंसेढ़ी के बांस से ही अर्थी तैयार की जाती.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here