‘हम पैसे, बाहुबल और जाति वाली राजनीति बदलने आए हैं’

0
267

इस तरह से देखें तो अरविंद केजरीवाल ने लोगों को दिखाया है कि जवाबदेही क्या होती है. मीडिया में कहा जा रहा है कि हम आर्थिक विकास के खिलाफ हैं. जबकि देखा जाए तो हमारी वित्तीय नीति सबसे उदार है.जहां तक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का सवाल है तो वह निश्चित तौर पर एक विवादास्पद मुद्दा है. यहां तक कि भाजपा भी इसका समर्थन नहीं कर रही जैसा हमने राजस्थान में देखा. हम हर उस व्यक्ति के साथ हैं जो ईमानदारी से कारोबार करना चाहता है. हम एक ऐसा माहौल बनाएंगे जहां हर आदमी ईमानदारी से कारोबार कर सके.

यह सिर्फ मुकेश अंबानी और रिलायंस की बात नहीं है. हमें क्रोनी कैपिटलिज्म (कॉरपोरेट और सरकार के गठजोड़) के खिलाफ खड़ा होना होगा. आप ही देखिए. हमसे से कौन जानता है कि राजनीतिक पार्टियों को फंड कहां से मिलता है. यही वह जगह है जहां हमें एक लकीर खींचनी है.

हम यह सुनिश्चित करेंगे कि लोग इज्जत से रह सकें. हम साफ फुटपाथ और बेहतर सड़कें देंगे. हम लोगों की उम्मीदें पूरी करेंगे और इसके लिए हम भाषा, जाति या इस तरह के किसी राजनीतिक पैंतरें का सहारा नहीं लेंगे.

(जी विष्णु से बातचीत पर आधारित)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here