विलक्षण विराट

0
260

[wzslider autoplay=”true” transition=”‘slide'” info=”true” lightbox=”true”]

12 नवंबर, 2013. दो दिन बाद क्रिकेट के महानायक सचिन तेंदुलकर को अपना 200वां और आखिरी टेस्ट मैच खेलना था. देश-दुनिया में उनकी विदाई पर बात हो रही थी. सचिन का आखिरी मैच उनके अपने शहर मुंबई में था, इसलिए दूसरे बहुत-से लोगों की तरह मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन (एमसीए) ने भी इस मौके को यादगार बनाने के लिए एक खास कवायद की. उसने वानखेड़े स्टेडियम में अलग-अलग जगहों पर 51 पोस्टर लगाए. टेस्ट मैचों में तेंदुलकर के कुल 51 शतकों की याद दिलाते इन पोस्टरों में तेंदुलकर की तस्वीरें थीं और यह जिक्र भी कि यह शतक उन्होंने किस टीम के खिलाफ लगाया. अपनी इस अनूठी कवायद पर एमसीए को तारीफ की उम्मीद रही होगी.

लेकिन हुआ उलट. ऐन वक्त पर पता चला कि उसी वानखेड़े में एक दूसरे खिलाड़ी के पोस्टरों की इतनी जबरदस्त भीड़ हो गई है कि उसमें तेंदुलकर के लिए खास तौर से बनाए गए 51 पोस्टर खो-से गए हैं. इसकी एक वजह तो यह थी कि ये पोस्टर बहुत ही ऊंचाई पर लगे थे और दूसरी यह कि इनके लिए तेंदुलकर की तस्वीरों को अखबार या पत्रिका जैसे दूसरे स्रोतों से लेकर बड़ा किया गया था जिससे वे साफ नहीं दिख रही थीं. उधर, इस दूसरे खिलाड़ी की तस्वीर खास तौर पर इन्हीं पोस्टरनुमा विज्ञापनों के लिए ली गई थी इसलिए पहली नजर तेंदुलकर के बजाय उसके पोस्टरों पर ही जा रही थी. इस पर एमसीए का असहज होना स्वाभाविक था और यह भी कि तुरंत ही इस दूसरे खिलाड़ी के ज्यादातर पोस्टर हट गए.

तेंदुलकर ने मैच में 74 रन बनाए तो उस खिलाड़ी का स्कोर रहा 57 और मैच के बाद तेंदुलकर जब दर्शकों को धन्यवाद कहने के लिए मैदान का चक्कर लगाने निकले तो इसी खिलाड़ी ने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ मिलकर तेंदुलकर को अपने कंधे पर उठा लिया.

ये खिलाड़ी हैं विराट कोहली.

कोहली कहते हैं कि उनके क्रिकेटर बनने की सबसे बड़ी वजह तेंदुलकर हैं. तेंदुलकर कहते हैं कि उन्हें कोहली की बल्लेबाजी में अपनी छाया दिखती है. डॉन ब्रैडमैन को इसी तरह तेंदुलकर के खेल में अपने खेल की झलक दिखती थी. सुनील गावस्कर, दिलीप वेंगसरकर, इयान चैपल जैसे क्रिकेट के दिग्गज जो कहते हैं उसका लब्बोलुआब यह है कि कोहली अगले सचिन हो सकते हैं. उधर, बिशन सिंह बेदी, मुथैय्या मुरलीधरन जैसे दूसरे दिग्गजों का भी एक वर्ग है जिसका मानना है कि कोहली सचिन तो नहीं हो सकते क्योंकि दो लोगों का एक जैसा होना नामुमकिन है लेकिन यही प्रतिभा, अनुशासन और समर्पण अगर वे अगले 15 साल भी बरकरार रख पाए तो वे क्रिकेट के अगले युग के महानायक जरूर हो सकते हैं.

इन सब बातों पर विचार करने और घटनाओं के जिस सिलसिले से हमने बात शुरू की थी उसे उल्टे क्रम में देखने पर एक दिलचस्प संभावना जताई जा सकती है. सचिन तेंदुलकर की विरासत का बोझ उठाने के लिए विराट कोहली के कंधे पर्याप्त मजबूत हैं, यह उनके प्रदर्शन से लगता है. इस संभावना को यह हालिया खबर और वजन देती है कि विज्ञापन अनुबंधों से होने वाली कमाई के मामले में वे अब तक शीर्ष पर चल रहे अपने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से भी आगे निकल गए हैं. उधर, धोनी कह चुके हैं कि कोहली भविष्य के कप्तान हैं.

तो क्या विराट कोहली भारत के पहले सर्वगुणसंपन्न क्रिकेटर हैं?

इस सवाल के सही-सही जवाब के लिए विस्तार से यह देखना होगा कि क्रिकेट में सर्वगुणसंपन्न होने की क्या शर्तें हो सकती हैं और कोहली उन पर खरे उतरते हैं या नहीं.

क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसमें तीन अलग-अलग विधाएं आपस में टकराती हैं. बल्लेबाजी, गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण. अगर आप ऑलराउंडर नहीं हैं, जो कि ज्यादातर खिलाड़ी नहीं होते, तो फिर आपकी श्रेष्ठता बल्लेबाजी या गेंदबाजी में से किसी एक विधा में आपके स्तर पर तय होती है. तिस पर आप अच्छे फील्डर भी हों तो सोने पर सुहागा.

यह तो हुई एक कसौटी. क्रिकेट एक ऐसा खेल भी है जो टीम के साथ खेला जाता है. तो बाकी टीम के साथ सामंजस्य का गुण भी जरूरी है और यहां सोने पर सुहागा जैसी बात यह हो सकती है कि आपमें टीम की अगुवाई करने की क्षमता भी हो.

इसके अलावा एक तीसरी कसौटी भी है. क्रिकेट को भारत में दूसरा धर्म कहा जाता है, इसलिए स्वाभाविक ही है कि इसका असर मैदान से परे भी जाता है. अच्छे खिलाड़ी पर बहुतों की नजरें रहती हैं. अपने प्रचार के लिए जरिया ढूंढ़ती कंपनियों की, उनमें कोई खबर तलाशती मीडिया की और उन्हें अपने प्रेरणास्रोत की तरह देखने वाले आम लोगों की भी.

पहले पहली कसौटी की बात करते हैं. बल्लेबाजी और गेंदबाजी में से कोहली पहली विधा से ताल्लुक रखते हैं. दिल्ली के पश्चिम विहार इलाके से ताल्लुक रखने वाले कोहली ने भारतीय क्रिकेट टीम में 2008 में पदार्पण किया. लेकिन होनहार बिरवान के होत चिकने पात वाली कहावत की तरह वे इससे पहले ही सुर्खियों में आ चुके थे. 2005 में दिल्ली की अंडर-17 टीम की तरफ से खेलते हुए पंजाब और हिमाचल के खिलाफ दोहरे शतक लगाकर उन्होंने लोगों का ध्यान खींचा. इसके बाद दिसंबर, 2006 में हुई एक असाधारण घटना से वे अचानक राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में आ गए. कर्नाटक और दिल्ली के बीच रणजी ट्रॉफी मैच हो रहा था. मैच के दूसरे दिन कोहली के पिता का निधन हो गया. अगले दिन उनका अंतिम संस्कार होना था. उधर, मैच में दिल्ली की हालत पतली थी. पहली पारी में कर्नाटक ने 446 रन बनाए थे. जवाब में दिल्ली की टीम 59 रनों पर अपने पांच बल्लेबाज खो चुकी थी. दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक विराट कोहली और पुनीत बिष्ट क्रीज पर थे और दिल्ली का स्कोर था 103 रन. फॉलोऑन का खतरा सिर पर था. कोच चेतन चौहान और कप्तान मिथुन मन्हास सहित टीम के बाकी लोगों ने कोहली से कहा कि वे मैच छोड़कर घर जाएं. लेकिन कोहली ने कहा कि वे टीम के साथ रहेंगे. उन्होंने कुल 90 रन बनाए और पुनीत बिष्ट के साथ छठे विकेट के लिए 152 रनों की साझेदारी करके दिल्ली को फॉलोऑन से बचा लिया. इसके बाद वे पिता के अंतिम संस्कार में गए. अपने इस फैसले के बारे में तब कोहली ने जो कहा उसका सार यह था कि यही उनकी अपने पिता को श्रद्धांजलि थी. टीम के प्रति अपने दायित्व को उन्होंने अपने व्यक्तिगत दुख से ऊपर रखा और दिखाया कि जब इम्तिहान का वक्त आता है तो सच्चे खिलाड़ी और मजबूत हो जाते हैं.

क्या यह संयोग है कि ऐसी ही एक घटना सचिन तेंदुलकर के जीवन से भी जुड़ी है? 1999 के विश्व कप के दौरान सचिन के पिता का निधन हो गया था. लेकिन इस दुख को पीछे छोड़कर उन्होंने शतक जमाते हुए अगले मैच में भारत को जीत दिलाई थी.

इसके बाद कोहली 2008 में फिर सुर्खियों में आए जब उनकी कप्तानी में भारत ने मलेशिया में खेले गए अंडर 19 क्रिकेट वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया. इस टूर्नामेंट के छह मैचों में 47 की औसत से उन्होंने कुल 235 रन बनाए. यह आंकड़ा तब और बड़ा लगने लगता है जब पता चलता है कि वे चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने आते हैं.

सचिन तेंदुलकर से विराट कोहली की तुलना करने की स्वाभाविक वजहें बनती हैं. पूर्व क्रिकेटर रवि शास्त्री को लगता है कि करियर के इस मोड़ पर तो सचिन और वेस्टइंडीज के महान क्रिकेटर विवियन रिचर्ड्स भी इतना बढ़िया नहीं खेल रहे थे. सुनील गावस्कर और पूर्व आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डीन जोंस सहित कई लोग कह चुके हैं कि क्रिकेट के एकदिनी संस्करण के मोर्चे पर कोहली तेंदुलकर के रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं. कोहली का प्रदर्शन भी इसकी झलक देता है. सचिन ने अपना पहला वनडे शतक 79 पारियां खेलने के बाद लगाया था. इन 79 पारियों में उन्होंने 32.41 की औसत से 2,236 रन बनाए थे और उनका स्ट्राइक रेट था 78.48. उधर, विराट कोहली 79 पारियों के बाद 47.57 की औसत से कुल 3,233 रन बना चुके थे. उनके शतकों की संख्या नौ हो चुकी थी और स्ट्राइक रेट था 84.88.

कोहली बीते महीने ही 25 साल के हुए हैं और एकदिवसीय मैचों में उनका रिकॉर्ड बता रहा है कि अभी ही वे खेल के इस प्रारूप में शतकों की संख्या के मामले में तीसरे नंबर पर पहुंच गए हैं. उनसे आगे बस तेंदुलकर और गांगुली हैं. 120 मैचों की 114 पारियों में वे कुल 17 शतक और 27 अर्धशतक जमा चुके हैं. इससे पहले सबसे तेजी से 17 शतकों के आंकड़े तक पहुंचने वाले सौरव गांगुली थे जिन्होंने यहां तक पहुंचने के लिए कोहली से 58 पारियां ज्यादा खेली थीं. 5000 रनों के आंकड़े तक सबसे तेजी से पहुंचने का रिकॉर्ड भी पिछले ही दिनों उनके नाम हो गया है. कोहली का औसत 52 से ज्यादा है और 52 गेंदों पर शतक ठोककर भारत की तरफ से एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे तेज सैकड़ा ठोकने का रिकॉर्ड भी उनकी झोली में आ चुका है. बीते अक्टूबर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उन्होंने यह कारनामा किया. अब तक यह रिकॉर्ड सहवाग के नाम था. फिलहाल वे एकदिवसीय क्रिकेट में बल्लेबाजों के लिए बनी आईसीसी की सूची में शीर्ष पर हैं और बहुत-से लोग मानते हैं कि अगर वे तेंदुलकर जितने मैच खेल गए तो अपने प्रेरणास्रोत के तमाम रिकॉर्ड पीछे छोड़ देंगे. हाल ही में जब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एकदिवसीय शृंखला में उन्होंने दो शानदार शतक जड़े तो इयान चैपल ने कहा कि उन्हें 1998 में शारजाह में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ही जड़े गए तेंदुलकर के दो शतकों की याद आ गई.

टेस्ट मैचों में भी कोहली की प्रगति असाधारण है. खेल के इस प्रारूप को वे अपनी पहली पसंद भी बताते हैं. 2011 में पहला टेस्ट खेलने वाले कोहली अब तक कुल 18 मैचों में करीब 42 की औसत से 1,178 रन बना चुके हैं. इस दौरान उन्होंने चार शतक और छह अर्धशतक लगाए हैं. क्रिकेट के सबसे नए संस्करण टी20 में भी उनकी प्रतिभा दिखी है. अब तक 21 मैचों में 34.50 की औसत से वे कुल 587 रन बना चुके हैं. आईपीएल और चैंपियंस लीग में भी उनका प्रदर्शन असरदार रहा है.

यह सब कुछ इतनी जल्दी हुआ है कि अविश्वसनीय लगता है. कोहली भी कई बार कह चुके हैं कि कभी-कभी वे भी अचानक यह सोचने लगते हैं कि क्या यह सब उन्होंने ही किया है. बल्लेबाजी की उनकी शैली भी अनोखी है. अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए विख्यात वीरेंद्र सहवाग जोखिम की बिल्कुल भी परवाह न करने के लिए जाने जाते रहे हैं. जानकार मानते हैं कि इस गुण की वजह से उन्होंने बड़े स्कोर तो बनाए लेकिन उनकी फॉर्म में निरंतरता का अभाव दिखता रहा. उधर, एक और विध्वसंक बल्लेबाज धोनी की शैली दूसरी है. वे भी आक्रामक हैं, लेकिन वे अपनी ताकत आखिरी समय के लिए बचाकर रखते हैं. वे जिस नंबर पर खेलते हैं उसमें संकट की स्थिति यही होती है कि शुरुआती चार खिलाड़ी जल्द ही आउट हो जाएं. ऐसे में धोनी आउट न होकर स्थिति के स्थिर होने का इंतजार करते हैं, धीरे-धीरे गेंदबाज की घबराहट बढ़ाते हैं और फिर आखिरी वक्त में एक्सीलेटर दबा देते हैं. लेकिन कोहली इसके उलट हैं. वे हालात के बदलने का इंतजार नहीं करते. वे खुद ही हालात को बदल देते हैं. वे पहली ही गेंद से विध्वंसक हो जाते हैं और ऐसा करते हुए वे कहीं भी जोखिम लेते हुए नहीं दिखते. क्रिकेट की शास्त्रीय परंपरा से परिपूर्ण शॉट लगाते कोहली का विध्वंस बहुत शांति भरा दिखता है. उन्हें खेलते हुए देखकर शायद ही दर्शकों की सांस कभी हलक में अटकी हो. ठोस तकनीक उनके खेल को बहुत आश्वस्तकारी बनाती है. आंकड़े बताते हैं कि भारत ने लक्ष्य का पीछा करते हुए जो सबसे बड़ी 10 जीतें हासिल की हैं उनमें से पांच कोहली के टीम में आने के बाद आई हैं और इनमें से चार में कोहली ने अहम भूमिका अदा की है. उनके रहते हुए भारत ने जो मैच जीते हैं उनमें कोहली का औसत करीब 68 रहा है जो धोनी के करीब 74 के औसत से थोड़ा ही कम है. लक्ष्य का पीछा करते हुए उन्होंने 11 शतक बनाए हैं और उन सभी मैचों में भारत जीता है. शायद इसीलिए वे सबसे अच्छे ‘फिनिशरों’ की लिस्ट में शामिल हो गए हैं.

यह तो हुई बल्लेबाजी की बात. इसके अलावा कोहली एक बहुत अच्छे फील्डर भी हैं. क्रिकेट में एक कहावत है कि रन बचाए यानी रन बनाए. 30 यार्ड के घेरे में कोहली की मौजूदगी एक आश्वस्ति जगाती है. कई मौकों पर उनके सीधे थ्रो या असाधारण कैच ने जमे हुए बल्लेबाज को वापस पवेलियन भेजा है.

साफ है कि बल्लेबाजी और फील्डिंग की कसौटी पर कोहली पूरी तरह खरे उतरते हैं. अब बाकी खिलाड़ियों से सामंजस्य और नेतृत्व क्षमता की बात. भारतीय क्रिकेट का इतिहास बताता है कि यहां गुटबाजी और खिलाड़ियों का आपसी टकराव कोई नई बात नहीं है. दो बड़े खिलाड़ियों में न पटने के कई किस्से हैं. कभी सुनील गावस्कर और कपिल देव की आपसी खुन्नस के चर्चे हुआ करते थे. हाल के दिनों में धोनी और वीरेंद्र सहवाग के बीच टकराव की खबरें भी आम हो गई थीं. लेकिन कोहली और धोनी में कहीं से ऐसा नहीं लगता. धोनी खुलकर कोहली की तारीफ करते हैं और कोहली धोनी की. एक हालिया साक्षात्कार में कोहली का कहना था, ‘धोनी से मैं बहुत कुछ सीख रहा हूं और वे सबक मैदान पर भी आजमा रहा हूं.’ उधर एक दूसरे साक्षात्कार में धोनी का कहना था, ‘कोहली एक असाधारण खिलाड़ी हैं. उनकी शैली देखकर लगता है कि कैसी भी परिस्थिति हो, बल्लेबाजी बहुत आसान होती है.’ दूसरे खिलाड़ियों के साथ उनका सामंजस्य भी ऐसा ही है. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हालिया एकदिवसीय सीरीज के आखिरी मैच में रोहित शर्मा के साथ हुई एक संवादहीनता की वजह से कोहली बिना खाता खोले ही आउट हो गए थे. उन्हीं रोहित शर्मा ने जब मैच में दोहरा शतक ठोका तो सबसे ज्यादा खुशी कोहली के चेहरे पर ही दिख रही थी.

फिलहाल वे भारतीय टीम के उपकप्तान हैं. बीती जून-जुलाई में पहले वेस्टइंडीज में हुई त्रिकोणीय श्रृंखलीय और फिर जिंबाब्वे दौरे में धोनी की गैरमौजूदगी में उन्होंने कप्तानी भी संभाली. टीम ने श्रृंखला भी जीती और जिंबाब्वे को 5-0 से भी धोया. 2008 में अंडर 19 विश्व कप भारत ने उनकी ही कप्तानी में जीता था. ज्यादातर लोग मानते हैं कि वे भविष्य के कप्तान हैं. धोनी भी उनकी तारीफ करते हुए कई बार कह चुके हैं कि विराट कोहली कप्तान बनने की राह पर हैं.
लेकिन कई बार भविष्यवाणियां भी धरी रह जाती हैं. बहुत-से उदाहरण हैं जो बताते हैं कि करियर के शुरुआती दौर में बहुत प्रतिभाशाली दिखने वाले खिलाड़ी आगे जाकर वह ताल कायम नहीं रख पाए. दस साल पहले तक अमेरिका के ब्रायन बेकर के बारे में माना जा रहा था कि वे लॉन टेनिस की दुनिया में अगला बड़ा नाम होने वाले हैं. अपने वक्त में अजित अगरकर एकदिवसीय क्रिकेट में 50 विकेटों के आंकड़े तक सबसे तेजी से पहुंचने वाले गेंदबाज बन गए थे. इरफान पठान की तुलना वसीम अकरम से होने लगी थी. विनोद कांबली भी असाधारण प्रतिभा के धनी माने जाते थे. लेकिन ये सारे नाम आगे चलकर उन उम्मीदों पर खरे नहीं उतर सके जो उनसे लगाई गई थीं.

इसके कई कारण होते हैं. चोटें, अभ्यास या फिटनेस की उपेक्षा और अनुशासनहीनता भी. ब्रायन बेकर पर कूल्हे और कोहनी की सर्जरियों ने ऐसा कहर ढाया कि बीच में वे छह साल तक एक भी मैच न खेल सके. इरफान पठान को भी चोटों ने काफी परेशान किया. उधर, शोएब अख्तर और एस श्रीसंत जैसे प्रतिभाशाली खिलाड़ियों पर अनुशासनहीनता का ग्रहण लगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here