‘लोग जाति और संप्रदाय की राजनीति से तंग आ चुके हैं’

0
111
रवि कृष्ण रेड्डी. उम्र-39. सॉफ्टवेयर इंजीनियर. बैंगलोर रूरल. फोटोः बैंगलोर न्यूज फोटोज
रवि कृष्ण रेड्डी. उम्र- 39. सॉफ्टवेयर इंजीनियर. बैंगलोर रूरल.
फोटोः बैंगलोर न्यूज फोटोज

मैं मूल रूप से अनेकल तालुक के बोम्मासांद्रा गांव का रहने वाला हूं. मेरा परिवार किसानी का काम करता था. मेरी पढ़ाई-लिखाई कन्नड़ माध्यम के एक स्कूल में हुई. सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग करने के बावजूद कन्नड़ साहित्य हमेशा मेरी जिंदगी से जुड़ा रहा. अमेरिका में रहने के बावजूद मैं अपनी जड़ों से जुड़ा रहा. सॉफ्टवेयर के क्षेत्र में नौकरी मिलने के बाद 2000 में मैं अमेरिका चला गया था. कैलीफोर्निया में रहने के बावजूद 2003 तक मेरी कन्नड़ भाषा के लेखक के तौर पर थोड़ी पहचान बन गई थी.

2010 में मैं अमेरिका से वापस आया. मकसद था कर्नाटक के समाज और राजनीति में कोई सार्थक दखल देना. शुरुआत करने के बाद हमने भू अधिसूचना रद्द करने के एक मामले में भाजपा नेता बीएस येद्दियुरप्पा के खिलाफ एक मामला दायर किया. हमने विक्रांत कर्नाटक नाम का एक प्रकाशन भी शुरू किया. मैं बैंगलोर में स्थानीय निकाय का चुनाव भी लड़ चुका हूं. मुझे लगा कि आप उन लोगों के लिए सबसे बढ़िया विकल्प है जो जाति और समुदाय की राजनीति से तंग आ चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here