थप्पड़ों ने लौटाया आत्मविश्वास

aap-beti.सुनने में थोड़ा अजीब लगेगा, भला कहीं अध्यापक का थप्पड़ खाने या साथी विद्यार्थी को थप्पड़ मारने से भी किसी का आत्मविश्वास लौटता है क्या? वह भी ऐसे वक्त में तो यह बात सोचनी भी मुश्किल है जब शिक्षक और छात्र के बीच का रिश्ता एक तनी रस्सी जैसा हो गया है. जराे-सा झटका और डोर टूटी.

बात थोड़ी पुरानी है, गांव के सरकारी स्कूल से प्राथमिक शिक्षा लेकर मैं एक महीने पहले ही नए स्कूल में छठी कक्षा में आया था. वहां मेरी कोशिश यह होती कि मैं सबसे आगे वाली पंक्ति में बैठूं क्योंकि मां कहती थी कि आगे की पंक्ति में बैठने से चीजें ज्यादा समझ में आती हैं. पीछे की लाइन में बैठे दो लड़के इंग्लिश मीडियम स्कूल से आए थे. वो एलकेजी-यूकेजी भी पढ़े थे, इसलिए वे उम्र में और दिखने में हम सरकारी स्कूल वालों से बड़े थे. मजबूत कदकाठी के होने के कारण वे ज्यादातर हमको छेड़ते रहते थे. उनमें से एक का नाम अमित था और वह मेरे पीछे की लाइन में बैठा मेरे बाल खींच-खींचकर परेशान करता रहता था. दोनों मुझसे ताकतवर थे, इसलिए लड़ भी नहीं सकता था. वैसे भी मैं उससे पहले घर पर बहनों के अलावा किसी से नहीं लड़ा था.

एक दिन की बात है. भोजनावकाश खत्म हुए 15 मिनट से अधिक वक्त बीत चुका था. गुरु जी अभी तक कक्षा में नहीं आए थे. वह पीरियड हमारे शारीरिक शिक्षा वाले गुरु जी का था जो हमें कृषि भी पढ़ाया करते थे. गुरु जी भरे-पूरे और सुगठित शरीर के मालिक थे. यही वजह थी कि सभी बच्चे उनसे बहुत घबराते थे. वे प्रार्थना के समय उन बच्चों के नाम पुकारते जो पिछले दिन छुट्टी होने के पहले ही स्कूल से भाग गए थे. इसके बाद वे अपने मूड के मुताबिक कभी डंडे तो कभी किसी और चीज से उनकी पिटाई करते. बजाज चेतक स्कूटर और काला चश्मा ही उनकी पहचान थे जो ज्यादातर समय उनकी आंखों पर ही टिका रहता था. यूं तो बच्चों ने मजाक उड़ाने के लिए हर शिक्षक का कोई न कोई नाम रखा था लेकिन यह उनका रोब या कहें खौफ ही था जो उन्हें इससे बचाए हुए था.

खैर, उस दिन भी जब गुरु जी कक्षा में आए तो बच्चों का सारा शोरगुल सन्नाटे में बदल गया. लेकिन मेरे अंदर हद से ज्यादा उथल-पुथल थी. मैं अमित नामक परेशानी से निजात चाहता था. गुरु जी कुर्सी बैठे ही थे कि मैंने कहा, ‘गुरु जी, यह अमित मुझे परेशान कर रहा है.’

उन्होंने पूछा कि अमित ने क्या किया. मैंने उन्हें बता दिया कि वह पीछे बैठ कर बार-बार मेरे बाल खींच रहा है. उन्होंने हम दोनों को आगे बुलाया और एक-दूसरे के सामने खड़ा करके कहा कि हम एक-दूसरे को थप्पड़ मारें. वह तगड़ा था. उसका हाथ जोर से पड़ता ही था. मैं दिखने में बहुत ही पतला था. जब हम एक-दूसरे को करीब दस थप्पड़ मार चुके तो गुरु जी ने मुझे अपने पास बुलाया. गुरु जी ने मुझे एक जोर का थप्पड़ जड़ा, यह अमित के दसों थप्पड़ों से कहीं ज्यादा जोर का था. उन्होंने कहा कि मैं अमित को अब जो थप्पड़ मारूं वह कम से कम इतनी जोर का होना चाहिए- गाल के बीचो-बीच पूरी ताकत से लगाया गया थप्पड़. मैंने उनकी बात का पालन किया. लेकिन इस बीच एक बात हुई. मैंने थप्पड़ मारने के अलावा पहली बार अमित की आंखों में आंखें डालकर देखा. आश्चर्य वहां गुस्से या आक्रामकता का कोइ चिह्न नहीं था. शायद गुरु जी की दी सलाह के बाद मैंने जो सख्ती दिखाई थी थप्पड़ मारने में, उससे अमित को यह संदेश मिला था कि मैं उतना भी कमजोर नहीं हूं जितना दिखता हूं. मुझे भी पहली बार लगा कि हिम्मत और ताकत का एक बहुत बड़ा हिस्सा हमारे शरीर में नहीं हमारे मन में बसता है.

आज मैं और अमित एक ही शहर में रहते हैं. हमारी अच्छी दोस्ती है. दीवाली पर हम साथ-साथ घर गए थे और टिकट भी उसी ने बुक करवाए थे. गुरु जी आज भी उसी विद्यालय में हैं. कक्षा छह की उस घटना के बाद जाने क्या हुआ कि धीरे-धीरे मैं उनके प्रिय छात्रों में शुमार हो गया. पता नहीं आज गुरु जी और अमित को वह थप्पड़ वाली घटना याद भी है या नहीं लेकिन मैं तो उसे कभी नहीं भूल सकता. वह एक ऐसी घटना है जिसने मुझे हीनभावना से उबारा. मेरा खोया हुआ आत्मविश्वास लौटाया. उसे भूलूं भी तो कैसे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here