अगर नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नहीं बने तो…

1
193
फोटोः विकास कुमार
फोटोः विकास कुमार

ऐसा दो वजहों से हो सकता है. यदि भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) को सरकार बनाने के लिए जरूरी सीटें न मिलें. और दूसरी, यदि राजग के वर्तमान सदस्यों की कुल सीटें इतनी हों कि उन्हें सरकार बनाने के लिए अन्य कई पार्टियों के समर्थन की दरकार हो. तब हो सकता है कि विवादित छवि के चलते मोदी को समर्थन देने वाली पार्टियां भाजपा को उतनी आसानी से न मिलें. ऐसे में भाजपा मोदी के स्थान पर प्रधानमंत्री पद के लिए किसी और का नाम आगे बढ़ा सकती है.

सवाल उठता है कि तब मोदी की राजनीति में फिर क्या बचेगा? क्या उसके बाद भी मोदी उतने ही आक्रामक और प्रभावशाली रह जाएंगे जितने वे आज हैं? क्या प्रधानमंत्री नहीं बन पाने की स्थिति में नरेंद्र मोदी वापस गुजरात चले जाएंगे? या वे राष्ट्रीय राजनीति में अपने लिए एक नई भूमिका तलाशेंगे? उनके प्रतिद्वंद्वियों, समर्थकों, पार्टी और उद्योग जगत के लिए तब किस तरह की परिस्थितियां जन्म ले सकती हैं?

जानकारों का एक वर्ग मानता है कि अगर मोदी इस बार प्रधानमंत्री नहीं बन पाते हैं तो फिर यह उनके राजनीतिक जीवन का बेहद मुश्किल समय होगा. वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक रशीद किदवई कहते हैं, ‘2009 लोकसभा की हार से आडवाणी जी अभी तक उबर नहीं पाए. ऐसे में अगर मोदी इस बार प्रधानमंत्री नहीं बने तो फिर उनका भविष्य अंधकारमय ही नजर आता है. अगले पांच सालों में काफी कुछ बदल जाएगा.’

अगर 16 मई के बाद मोदी के लिए अच्छे दिन नहीं आए तो उनके राजनीतिक करियर पर ग्रहण लगने के विचार से राजनीति के वरिष्ठ जानकार शरत प्रधान भी सहमत नजर आते हैं, ‘वर्तमान चुनावी परिदृश्य को देखते हुए यह लगता तो नहीं है कि मोदी का रथ रुकने वाला है. लेकिन मोदी इस बार प्रधानमंत्री नहीं बने तो उनका पूरा राजनीतिक करियर खतरे में आ जाएगा. जिस तरह की चौतरफा हाइप उन्होंने बना रखी है, ऐसे में अगर वे प्रधानमंत्री नहीं बन पाते हैं तो किसी लायक नहीं बचेंगे. ’

एक तरफ जहां प्रधानमंत्री न बन पाने की स्थिति में मोदी के राजनीतिक जीवन पर ग्रहण लगने की बात की जा रही है, वहीं दिल्ली से लेकर गुजरात तक के राजनीतिक हलकों में इस बात की भी चर्चा है कि पीएम न बन पाने की स्थिति में मोदी वापस गुजरात चले जाएंगे. और वहां मुख्यमंत्री बनें रहेंगे. ऐसा सोचने के पीछे बड़ा कारण यह है कि मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री का पद अभी तक छोड़ा नहीं है. गुजरात भाजपा के एक नेता कहते हैं, ‘मोदी जी ने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा नहीं दिया है. ऐसे में यह क्यों माना जाए कि वे पीएम नहीं बनें तो सीएम भी नहीं रहेंगे. वे अभी सीएम तो हैं ही. इसमें गलत क्या है? ’

विभिन्न राजनीतिक बहसों में अब इस बात की भी चर्चा है कि यदि मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने की कोई संभावना न हो लेकिन एनडीए अपने पुराने साथियों या अन्य पार्टियों के साथ सरकार बनाने की स्थिति में आ सकता हो तो ऐसे में क्या होगा? क्या ऐसे में भाजपा के लिए मोदी के स्थान पर किसी और को प्रधानमंत्री बनाना आसान होगा?

रशीद इस संभावना में कई पेंच देखते हैं, वे कहते हैं, ‘अगर ऐसा होता है तो बगावत की सूरत तैयार हो जाएगी. पूरा चुनाव पार्टी ने मोदी के नेतृत्व में उनके नाम पर लड़ा है. ऐसे में जितने भी सांसद जीत कर आएंगे वे सभी मोदी के नाम पर ही आएंगे, ऐसे में वे मोदी के अलावा किसी और को वे शायद ही स्वीकार करें.’ हालांकि टाइम्स ऑफ इंडिया के पूर्व संपादक दिलीप पडगांवकर मोदी के अलावा भाजपा से किसी और के प्रधानमंत्री बनने की संभावना से इंकार नहीं करते. वे कहते हैं, ‘ मोदी बहुत व्यावहारिक राजनेता हैं. अगर उस आदमी को लगा कि वो तो पीएम नहीं बन सकता लेकिन किसी और के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बन सकती है. तो फिर वो खुद आगे बढ़कर किसी और को प्रधानमंत्री बनाने का प्रस्ताव दे सकता है. ऐसे में सोनिया-मनमोहन जैसा सिस्टम विकसित होने की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता. जिसमें प्रधानमंत्री एक रबर स्टैंप की तरह काम करे और सोनिया की तरह मोदी असल सत्ता का केंद्र बने रहें.’

शरत प्रधान भी पडगांवकर की बात से सहमत से लगते हैं जब वे कहते हैं, ‘ इतना माहौल बनाने के बाद केंद्र की राजनीति में न आकर राज्य में वापस जाना मोदी के लिए एक बेहद शर्मनाक घटना होगी. ऐसे में यह भी संभव है कि मोदी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन जाएं.’

हालांकि भाजपा नेताओं से बात करने पर वे ऐसी किसी भी संभावना से इंकार करते हैं. भाजपा के एक उपाध्यक्ष कहते हैं, ‘एक चीज आप समझ लीजिए, मोदी जी अगर प्रधानमंत्री नहीं बने तो वे किसी और को भी बनने नहीं देंगे. या तो वो पीएम बनेंगे या पार्टी विपक्ष में बैठेगी, जिसमें वे नेता प्रतिपक्ष बनकर शासन करने वाले की नाक में दम कर देंगे. वे ऐसे आदमी नहीं हैं कि अगर खुद पीएम नहीं बन पाए तो किसी और का नाम आगे बढ़ा दें. ’

राजनीति को देखने समझने वालों का एक तबका ऐसा भी है जो पूरी तरह से इस बात को स्वीकार कर चुका है कि मोदी का अब सिर्फ शपथग्रहण होना बाकी है. ऐसे ही लोगों का प्रतिनिधित्व गुजरात के वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक देवेंद्र पटेल करते हैं. वे कहते हैं, ‘मोदी का प्रधानमंत्री बनना 100 फीसदी तय है. भाजपा अपने दम पर बहुमत के आंकड़े को छू लेगी.’

हालांकि देवेंद्र पटेल के इस आशावाद पर प्रश्न उठाने वालों की कमी नहीं है. वरिष्ठ पत्रकार अजय बोस कहते हैं, ‘ भाजपा के भीतर ही ये बात शुरू हो चुकी है कि पार्टी की हालत उतनी भी ठीक नहीं है जितना ढिंढोरा पीटा जा रहा है. ऐसी चर्चा हो रही है कि आंकड़ा 170-180 के पार नहीं जा पाएगा. ऐसे में मोदी के पीएम बनने की संभावना पर प्रश्न बना हुआ है.’

अजय यह राय भी रखते हैं कि अगर मोदी पीएम नहीं बने तो वे ऐसा नहीं करेंगे कि अपना बोरिया बिस्तर बांधकर अमित शाह के साथ गुजरात चले जाएं. वे कहते हैं, ‘ये आदमी यहीं दिल्ली में रहेगा लेकिन पहले की तरह आक्रामक और प्रभावशाली नहीं रह पाएगा. क्योंकि जैसे ही आक्रामक होने की वे कोशिश करेंगे भाजपा के नेता उनसे पूछ बैठेंगे कि तुमने तो कहा था कि तुम्हारी सूनामी चल रही है. 300 सीट लेकर आओगे. कहां गईं वे सीटें?’

भाजपा के नेताओं और मुख्यमंत्रियों पर असर
मोदी के प्रधानमंत्री न बन पाने की स्थिति में भाजपा के मुख्यमंत्रियों के और मजबूत होने की संभावना भी जताई जा रही है. रशीद कहते हैं, ‘मोदी अगर पीएम नहीं बने तो जाहिर सी बात है उनके साथी मुख्यमंत्री मजबूत होंगे. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जैसे नेता और मजबूती से चमक के साथ उभरेंगे.’

भाजपा के मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तीन बार मुख्यमंत्री बनने के साथ ही लालकृष्ण आडवाणी के करीबी होने के कारण भी चर्चा में रहे हैं. आडवाणी ने पूर्व में कई बार न सिर्फ मोदी और शिवराज की तुलना की है बल्कि कई बार भाजपा के लौहपुरुष ने सार्वजनिक मंच से शिवराज सिंह के काम को मोदी से बेहतर भी ठहराया है. पिछले साल भाजपा के संसदीय बोर्ड में मोदी और चौहान को शामिल करने की चर्चाएं गर्म थीं. हालांकि अंत में सिर्फ मोदी को बोर्ड का सदस्य बनाया गया. ऐसा भी कहा गया कि लालकृष्ण आडवाणी शिवराज को बोर्ड में शामिल करने के पक्षधर थे. मोदी के पीएम न बनने की स्थिति में आडवाणी के समर्थन से शिवराज के और मजबूत होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता.

शिवराज के साथ ही भाजपा के अन्य मुख्यमंत्रियों- छत्तीसगढ के रमन सिंह, राजस्थान की वसुंधरा राजे, गोवा के मनोहर पार्रिकर आदि के भाजपा में और ऊपर उठने के आसार बनेंगे.

मुख्यमंत्रियों के अलावा भाजपा के अन्य दूसरी पंक्ति के नेताओं जैसे सुषमा स्वराज आदि की स्थिति भी मजबूत होगी जिन पर मोदी उदय के बाद अंधकार छाया हुआ है. भारतीय जनता पार्टी जो फिलहाल इतनी अधिक मोदी केंद्रित हो गई है कि चर्चाओं में उसे लोग मोदी जनता पार्टी बुला रहे हैं. उस पार्टी के अन्य नेता मोदी के सीन से हटने की स्थिति में न सिर्फ राहत की सांस लेंगे बल्कि सभी के सामने उम्मीदों का एक नया रास्ता खुलेगा.

राजनाथ सिंह
मोदी के पीएम न बनने की स्थिति में भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह के लिए छींका फूट जाने की प्रबल संभावना जताई जा रही है. अमित शाह को अगर छोड़ दें तो मोदी के प्रति वफादारी दिखाने के मामले में राजनाथ सिंह का स्थान सबसे ऊपर है. कहा जा रहा है कि इस वफादारी के पीछे  राजनाथ सिंह का अपना यह गणित है कि अगर किसी कारण से मोदी पीएम नहीं बन पाते हैं और भाजपा में किसी और के प्रधानमंत्री बनने की संभावना पैदा होती है तो मोदी उनका नाम आगे बढ़ा देंगे. इस वजह से राजनाथ सिंह पिछले कई महीनों से मोदी के कहे अनुसार सबकुछ कर रहे हैं. मोदी की हर बात का समर्थन करने, उनकी हर इच्छा का पालन करने से लेकर राजनाथ ने हर संभव तरीके से मोदी को यह समझाना चाहा है कि कैसे उनके खुद के अलावा कोई और उन्हें पीएम देखने को बेकरार है तो वह सिर्फ राजनाथ ही हैं. भाजपा के बाकी अन्य नेताओं से जहां समय-समय पर मोदी को प्रतिद्वंदिता की बू आती रहती है, वहीं राजनाथ सिंह ने तमाम ऐसे जतन किए हैं जिससे मोदी को उनसे किसी तरह की प्रतिद्वंद्विता का अहसास न हो.

भाजपा के कुछ नेता भी बातचीत में इस बात को स्वीकार करते हैं कि कैसे मोदी के पीएम न बनने की स्थिति में रेस में सबसे आगे राजनाथ ही होंगे. शरत कहते हैं, ‘राजनाथ ये सोच रहे हैं कि मोदी के न बन पाने की स्थिति में उनका नंबर आ जाएगा. क्योंकि सहयोगियो को राजनाथ से कोई आपत्ति नहीं होगी. उनकी कट्टर हिंदूवादी नेता की छवि भी नहीं है, पिछले कुछ समय से खुद को वाजपेयी जैसा दिखाने का उनका प्रयास भी जारी है. संघ से संबंध भी ठीक हैं. ऐसे में मोदी की तरफ से हरी झंडी मिलने के बाद राजनाथ का राजयोग चमक सकता है.’

फोटोः विकास कुमार
फोटोः विकास कुमार

लालकृष्ण आडवाणी
पिछले कुछ समय में भाजपा में मोदी का किसी नेता से सबसे अधिक संघर्ष रहा तो वह उनके राजनीतिक गुरु रहे लालकृष्ण आडवाणी ही हैं. गुरु और शिष्य के बीच तल्खी का आलम यह रहा कि जिस गोवा की भाजपा कार्यकारिणी की बैठक में मोदी को लोकसभा चुनावों के लिए चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाया जाना था, उसमें आडवाणी शामिल तक नहीं हुए. पार्टी ने कहा कि आडवाणी जी की तबीयत खराब है इसलिए वे बैठक में नहीं आए, उन्होंने मोदी जी को प्रचार समिति का अध्यक्ष बनने पर शुभकामना दी है. लेकिन पार्टी का यह झूठ उस समय सामने आ गया जब अगले ही दिन आडवाणी ने पार्टी के सभी पदों से न सिर्फ इस्तीफा दे दिया बल्कि यह आरोप भी लगाया कि कैसे पार्टी के अधिकतर नेता इस समय अपने निजी एजेंडे के तहत काम कर रहे हैं.

खैर, कई दिनों की मान-मनुहार और संघ के हस्तक्षेप के बाद उन्होंने इस्तीफा वापस ले लिया. उसके बाद जब दिल्ली के भाजपा दफ्तर में मोदी को भाजपा का पीएम उम्मीदवार घोषित किया गया तो उस कार्यक्रम से भी आडवाणी दूर रहे. हाल के दिनों में मोदी और उनकी टीम चाहती थी कि आडवाणी लोकसभा छोड़ राज्यसभा को अपना ठिकाना बनाएं लेकिन वयोवृद्ध आडवाणी लोकसभा चुनाव लड़ने पर अड़ गए. यह मामला निपटा तो अगला विवाद लोकसभा सीट को लेकर खड़ा हो गया. आडवाणी भोपाल से लड़ना चाहते थे क्योंकि उन्हें संदेह था कि कहीं उनका शिष्य गांधीनगर से लड़ने पर उनकी हार की साजिश न रच दे. खैर पार्टी ने आडवाणी की नहीं सुनी और उन्हें गांधीनगर से ही संतोष करना पड़ा.

लौहपुरूष कहे जाने वाले आडवाणी के भीतर 2009 में प्रधानमंत्री न बन पाने का मलाल तो है ही साथ में किसी तरह एक बार पीएम बन जाने की उनकी ख्वाहिश भी किसी से छुपी नहीं है. ऐसे में अगर मोदी प्रधानमंत्री बनने से चूकते हैं तो क्या आडवाणी का प्रधानमंत्री बनने का सपना परवान चढ़ सकता है?

राजनीतिक उठापठक को समझने वाले लोगों का आकलन है कि मोदी के न बन पाने की स्थिति में अगर किसी और भाजपा नेता की पीएम बनने की संभावना बनती है तो उसमें लालकृष्ण आडवाणी सबसे आगे हैं. अजय बोस कहते हैं, ‘आडवाणी भाजपा, यहां तक कि भारतीय राजनीति में भी, सबसे वरिष्ठ, अनुभवी और सक्रिय नेता हैं. सुलझे हुए व्यक्ति हैं, साथ में मॉडरेट भी हैं. उनके कद का कोई दूसरा सक्रिय राजनीति में नहीं है. सभी से उनके संबंध अच्छे हैं. यहां तक कि गांधी परिवार तक से उनके संबंध मधुर हैं. ऐसे में मोदी के बाद की स्थिति में वे सबसे मजबूत  दावेदार हैं.’

‘गठबंधन के लोगों के लिए बूढ़ा और सक्रिय राजनीति के अंत की तरफ पहुंच चुका राजनेता ज्यादा मुफीद होता है. ऐसे व्यक्ति से अपना काम कराना और उससे निपटना बेहद आसाना हो जाता है’ आडवाणी के रेस में आगे होने की एक और वजह का उल्लेख करते हुए अजय बोस कहते हैं, ‘अटल जी गठबंधन के लोगों को इसीलिए पसंद थे. वे अपना राजनीतिक जीवन जी चुके थे. चला-चली के समय में परायों से भी प्रेम ही किया जाता है. ऐसे आदमी के बारे में माना जाता है कि वे नुकसान नहीं पहुंचाएगा.’

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here