इक्कीसवीं सदी में भारत-अमेरिका की नई साझेदारी

इस साझीदारी में भारतीय अमेरिकी समुदाय हमारे बीच एक जीवंत सेतु की तरह काम करता रहा है.  इसकी सफलता हमारे नागरिकों की चेतना, अमेरिका के उदार समाज और दोनों देशों के मेल की मजबूती का सबसे सजीव प्रतिबिंब रही है.

फिर भी इस संबंध की वास्तविक क्षमताओं का फलीभूत होना अभी बाकी है. भारत में एक नई सरकार का आगमन हमारे रिश्ते को व्यापक और गहरा बनाने का एक स्वाभाविक अवसर है. एक नई ऊर्जा से युक्त महत्वाकांक्षा और पहले से भी ज्यादा विश्वास के साथ हम अपने पारंपरिक लक्ष्यों के परे जा सकते हैं. यह एक नये एजेंडे का समय है जो हमारे नागरिकों को ठोस लाभ पहुंचा सके. यह एजेंडा ऐसे पारस्परिक लाभप्रद रास्ते खोजने में हमारी मदद करेगा जो व्यापार, निवेश और प्रौद्योगिकी में हमारे सहयोग का विस्तार कर सकें. ऐसे रास्तेे जो भारत के महत्वाकांक्षी विकास एजेंडे अनुरूप हों और साथ ही प्रगति के एक वैश्विक इंजन के रूप में अमेरिका को भी मजबूती दें. आज जब हम वाशिंगटन में मिलेंगे तो हम उन तरीकों पर चर्चा करेंगे जिनसे हम विनिर्माण को बढ़ावा और सस्ती अक्षय ऊर्जा को विस्तार दे सकें और इसके साथ ही अपने साझे पर्यावरण का भविष्य भी सुरक्षित कर सकें.  हम चर्चा करेंगे कि किस तरह हमारे कारोबार, वैज्ञानिक और सरकारें आपस में साझीदारी कर सकते हैं. भारत खासकर अपने निर्धनतम नागरिकों के लिए बुनियादी सुविधाओं की गुणवत्ता, विश्वसनीयता और उपलब्धता को सुधारना चाहता है. इस काम में अमेरिका सहयोग के लिए तैयार है. हमारे तत्काल और ठोस समर्थन का एक क्षेत्र स्वच्छ भारत अभियान है जिसमें हम सारे भारत में स्वच्छता और सफाई की स्थिति सुधारने के लिए नए तरीकों, विशेषज्ञता और प्रौद्योगिकी का लाभ उठाएंगे.

हमारे साझे प्रयासों से हमारे अपने लोगों को फायदा होगा. हम चाहते हैं कि हमारी साझेदारी बड़ी से बड़ी हो. एक राष्ट्र और समाज के रूप में हम सबके लिए बेहतर भविष्य की कामना करते हैं. एक ऐसा भविष्य जिसमें हमारी रणनीतिक साझेदारी बड़े पैमाने पर पूरी दुनिया के लिए फायदेमंद हो. भारत को अमेरिकी निवेश और तकनीकी साझेदारियों से उपजने वाली प्रगति से लाभ होता है तो अमेरिका भी एक मजबूत और पहले से ज्यादा खुशहाल भारत से लाभान्वित होता है. नतीजतन एक क्षेत्र और पूरी दुनिया को भी उस स्थिरता और सुरक्षा से लाभ होता है जो हमारी मित्रता से उपजती है. हम उन प्रयासों के लिए प्रतिबद्ध हैं जिससे दक्षिण एशिया को संगठित किया जा सके और इसे केंद्रीय और दक्षिण पूर्व एशिया के बाजारों और लोगों के साथ जोड़ा जा सके.

वैश्विक साझीदारों के रूप में आतंकवादी विरोधी और कानून का पालन करवाने वाले तंत्र के आपसी सहयोग के जरिये हम अपने देश की सुरक्षा बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. साथ ही हम समुद्री रास्तों में परिचालन की स्वतंत्रता और वैध कारोबार की निरंतरता के लिए भी प्रतिबद्ध हैं. स्वास्थ्य के क्षेत्र में हमारा आपसी सहयोग मुश्किल से मुश्किल चुनौतियों से निपटने में हमारी मदद करेगा, फिर भले ही वह ईबोला को फैलने से रोकना हो, कैंसर के इलाज पर शोध हो या टीबी, मलेरिया और डेंगू जैसे रोगों पर विजय पाने की कवायद. साथ ही हम चाहते हैं कि महिला सशक्तिकरण, क्षमताओं के संवर्धन और अफगानिस्तान व अफ्रीका में खाद्य सुरक्षा सुधारने के लिए सहयोग के जो नए क्षेत्र हमने बनाए हैं उनका विस्तार हो.

अंतरिक्ष का अन्वेषण आगे भी हमारी कल्पनाओं को पंख देता रहेगा और हमें अपनी महत्वाकांक्षाएं बढ़ाने के लिए ललकारता रहेगा. मंगल की परिक्रमा करते हम दोनों के उपग्रह अपनी कहानी खुद कहते हैं. एक बेहतर भविष्य का यह वादा सिर्फ भारतीयों और अमेरिकियों के लिए नहीं है. यह हमें

संकेत भी देता है कि एक बेहतर दुनिया के लिए हम साथ-साथ आगे बढ़ें. यह 21वीं सदी के लिए एक नई परिभाषा गढ़ती हमारी साझीदारी का केंद्रीय आधार है. चलें साथ-साथ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here