Volume 7 Issue 9 Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi

Post Tagged with: "Volume 7 Issue 9"

पॉजीटिव खबर चलाइए…

बरसों बाद इन दिनों एक बार फिर फील गुड का माहौल है, देश-विदेश में फिर इंडिया शाइन कर रहा है. चमकदार लिबास है, चमकदार नेता हैं और चमकदार बातें हैं. जनता ने जितना चाहा था उससे ज्यादा मिल रहा है, पॉलीटिकल लीडर के साथ मोटिवेशनल और स्प्रिचुअल लीडर भी मिल  

राहुल की वापसी!

छप्पन दिन की छुट्टी से लौटे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का नई दिल्ली के रामलीला मैदान में रैली करना राजनीति में उनके नए सिरे से वापसी के रूप में देखा जा रहा है. उन्हें पार्टी का अध्यक्ष बनाए जाने को लेकर भी सुगबुगाहट शुरू हो गई है. केंद्र में भाजपा और दिल्ली पर आम आदमी पार्टी के कब्जे के बीच कांग्रेस कहीं खो सी गई है. ऐसे में उनकी जिम्मेदारियां और बढ़ गई हैं. सवाल ये है कि क्या...  

एकला चलो रे…

माकपा के नए महासचिव सीताराम येचुरी बुद्घिमत्ता से भरपूर हैं लेकिन क्या वे अपनी वामपंथी पार्टी के पुनर्निर्माण में कामयाब हो पाएंगे? पार्टी की चुनौतियों और दुविधाओं का आकलन प्रद्योत लाल और एनके भूपेश ने किया है  

राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग पर विवाद

राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (एनजेएसी) क्या है? भारत में सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट में जजों की नियुक्ति और तबादले के लिए प्रस्तावित निकाय का नाम राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग है. इस आयोग में कुल छह सदस्य होंगे. भारत के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) इसके अध्यक्ष और सर्वोच्च न्यायालय के दो  

किशोरों को अपराध की जघन्यता के अाधार पर सजा

कैबिनेट ने किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम में संशोधनों को मंजूरी प्रदान कर दी जहां 16 से 18 साल आयु वर्ग के किशोर अपराधियों पर भारतीय दंड संहिता के तहत मुकदमा चलाया जा सकता है, अगर वे जघन्य अपराधों के आरोपी हैं. इस विधेयक को सरकार इसी  

‘मेरी रग-रग में  बसा है साम्यवाद’

पिनाराई विजयन ऐसे इंसान हैं जिन्होंने अपने जीवन का सर्वश्रेष्ठ हिस्सा एक विचारधारा विशेष को समर्पित कर दिया है. मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के पोलित ब्यूरो का यह वरिष्ठ सदस्य आज केरल के कम्युनिस्ट आंदोलन के प्रसिद्ध नेताओं की जमात से खुद को बाहर पाता है. एक ऐसे वक्त में जब वामपंथ एक बड़े और गहरे विश्वसनीयता के संकट से गुजर रहा है, तब पिनाराई क्या फिर से लाल झंडे की हौसलाअफजाई करने आगे आएंगे?  

नेपाल भूकंप: त्रासदी के चश्मदीद

25 अप्रैल की दोपहर नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप ने इस छोटे से देश को तबाह कर दिया. 10 हजार से ज्यादा की अनुमानित मौतों की वजह बनी इस आपदा ने हमें हमारे रहन-सहन और पर्यावरण के प्रति जिम्मेदारियों पर फिर से सोचने पर मजबूर कर दिया है. इस आपदा का साझीदार भारत भी हुआ. फिलहाल नेपाल में कई देशों की मदद से राहत और बचाव कार्य जारी है. यह समय दुख साझा करने के साथ ही ये जिम्मेदारी...  

‘डेमोक्रेसी में जनता तय करेगी विरासत, हम और आप नहीं’

कुछ महीने बाद बिहार में चुनाव होना है. पप्पू यादव इस प्रयास में एड़ी-चोटी का जोर लगाते हुए लालू यादव के परिवारवाद पर बरस रहे हैं. वे लालू द्वारा बेटे को उत्तराधिकारी बताए जाने पर सवाल उठा रहे हैं. पप्पू यादव से निराला की बातचीत  

उत्तराधिकार या पुत्राधिकार

महाभारत में एक कहानी है. यह है या नहीं, न मालूम लेकिन कई बार प्रसंगों व संदर्भों के साथ इसे सुनाया जाता है. जब कुरूक्षेत्र में युद्ध समाप्त हो जाता है तो धृतराष्ट्र और कृष्ण आमने-सामने होते हैं. धृतराष्ट्र कृष्ण से पूछते हैं कि तुम्हारा क्या लेना-देना था? तुमने क्यों   

पर्दे के हीरो धर्मेंद्र असली जिंदगी के बड़े नायक हैं

बचपन से ही मैं सदाबहार अभिनेता धर्मेंद्र की ओर आकर्षित रहा. जब मैंने फिल्म देखनी शुरू की थी तब मेरी उम्र कोई आठ-नौ साल की रही होगी पर सचेत मन की पहली फिल्म ‘सत्यकाम’ थी जिसने मेरे मन-मस्तिष्क पर गहरी छाप छोड़ी. पिता आदिम जाति कल्याण विभाग में काम करते