Volume 7 Issue 8 Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi

Post Tagged with: "Volume 7 Issue 8"

‘दो गज जमीं भी न मिली कुए यार में’

राजस्थान के भीलवाड़ा, राजसमंद, बांसवाड़ा, बाड़मेर, अजमेर सहित कई जिलों में आजादी के लगभग सात दशक बीत जाने के बाद भी देश की घुमंतू जनजातियों के साथ जातिगत भेदभाव का सिलसिला जारी है. कालबेलिया समुदाय के मृतकों को दफन करने के लिए जमीन मयस्सर न होने की स्थिति में वे शव को घर में ही मिट्टी डालने को मजबूर है.  

नया सफरः शुरू के दिन

धर्मयुग, रविवार जैसी पत्रिकाओं से जुड़े रहने के बाद लगभग ढाई दशक तक पूर्वी भारत के लोकप्रिय अखबार प्रभात खबर के प्रधान संपादक रहे चर्चित पत्रकार हरिवंश अब राज्यसभा के सदस्य भी हैं. उन्होंने राज्यसभा में जाने के बाद राजनीति और संसद को करीब से देखने के अपने आरंभिक अनुभवों को साझा किया है, जिसका संक्षिप्त व संपादित अंश यहां प्रस्तुत है.  

सुनीता तोमर…

मैंने कब सोचा था कि मेरी जिंदगी यूं बदल जाएगी... सब कुछ इतना अच्छा था... एक अच्छा पति... दो प्यारे बच्चे... लेकिन तंबाकू ने सब कुछ बदल दिया. अब इस फैलते हुए कैंसर को मेरे चेहरे से काटना पड़ेगा. अब कुछ भी पहले जैसा नहीं होगा. तंबाकू ने मेरी जिंदगी नष्ट कर दी...  

गुटबाजी से कांग्रेस पस्त, भाजपा मस्त

छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार को घेरने की कांग्रेस की कोशिश लगातार धराशाई हो रही है. राज्य में पार्टी गुटबाजी का शिकार होकर राह भटक चुकी है  

‘एक आदमी जिससे मैं सिर्फ दो बार मिली और अब इस मोड़ पर खड़ी हूं’

आप पाकिस्तान पर एक किताब लिख रही हैं. यह साधारण पाकिस्तानी लोगों की कहानी है, जो समाज में बदलाव लाने की कोशिश कर रहे हैं. यह विचार दिमाग में कैसे आया? दरअसल, यह विचार मेरे प्रकाशक की ओर से आया. भारत के बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी के साथ मलाला  

बर्बर कानून को बेकरार सरकार

गुजरात कंट्रोल ऑफ टेररिज्म एंड ऑर्गनाइज्ड क्राइम बिल को मानवाधिकार के खिलाफ माना जा रहा है  

फेमिनिज्म का फैशन बन जाना

‘बराबरी, न्याय और आजादी’ के सार्वभौमिक सिद्धांत के बाहर जाते ही नारीवाद आत्म-केंद्रित विलास बन जाता है  

अबकी बार किसकी ललकार?

आरोप लगाए जाते हैं कि आईपीएल ने क्रिकेट को एकतरफा बना दिया है. ऐसे में चालू सीजन में मजबूत दिखनेवाली आठों टीमों पर आईपीएल को अधिक रोमांचक और प्रतिस्पर्द्धात्मक बनाने की जिम्मेदारी होगी  

रिपोर्टर्स: सीरियल में बनते देखें, टीआरपी के बताशे

न्यूज चैनल के कारनामे पर अमेरिकी टेलीविजन पर द न्यूजरूम बहुत पहले प्रसारित हो चुका है जिसकी कोशिश रिपोर्टर्स कर रहा है. इस कड़ी में डर्ट्स (टेब्लॉयड) और द बेस्ट बिंग्स पहले से शामिल हैं  

सरजमीन-ए-दास्तानगोई

दस साल- एक कला शैली के लिए ये तो सफर की बस शुरुआत ही है. पिछले दिनों महमूद फारूकी साहब ने बातचीत के दौरान, जिस सरलता से ये बात कही, उससे मुझे एहसास हुआ कि दास्तानगोई को कितना आगे जाना है और इस सफर में हम सब की जिम्मेदारी क्या