BJP Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi

Post Tagged with: "BJP"

‘बड़ा गोलमाल कर सकती है भाजपा’

गुजरात विधानसभा चुनाव में पटेल समुदाय बीजेपी के लिए गले की हड्डी बन गया है। बीजेपी के तमाम पैंतरों और रणनीतियों को 23 साल के हार्दिक पटेल बैकफुट पर धकेलते दिखाई दे रहे हैं। राज्य में अगले महीने 9 और 14 दिसंबर को मतदान होंगे और नतीजा 18 दिसंबर को  

गुजरात में चुनावी माहौल गरमाया, हिंसा भी

गुजरात में 182 सीटों की विधानसभा के लिए चुनावी सरगर्मी ज़ोरों पर है। भाजपा कार्यकर्ताओं और पाटीदार (पास) के बीच राज्य में कई जगह झगड़े-फसाद और गिरफ्तारियों की सूचना मिली है। भाजपा के कई राष्ट्रीय नेता और केंद्रीय मंत्री गुजरात चुनावों के प्रचार कार्य में अपनी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा रहे  

कयास की धुंध में जीत हार के दावे

अगले महीने की 18 तारीख को वोटिंग मशीनों से जब नतीजे निकलेंगे तब सूबे के पहाड़ों पर बर्फ की परत जम चुकी होगी। नतीजे इस ठण्ड को राजनीतिक गर्मी में बदल देंगे। मतदाता की खामोशी के बीच अभी तक के सबसे ज्यादा मतदान से कयास की ऐसी गहरी धुंध प्रदेश के राजनीतिक  

अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए मोदी सरकार ने कमर कसी

  लगता है केंद्र सरकार को यह अहसास है कि वह जल्द से जल्द सुधार लाकर विकास को एक ऊंचाई दे। हालांकि भारतीय अर्थव्यवस्था पर काले बादल छाए हुए दिखते हैं। फिर भी हालात बहुत खराब नहीं हैं। बता रहे हैं चरणजीत आहुजा अभी हाल आर्थिक सलाहकार परिषद तब बनी  

पंजाब की राजनीति का ‘गुरु’ फैक्टर

दुनिया भर के गेंदबाजों की नाक में दम करने वाले क्रिकेटर से राजनेता बने नवजोत सिंह सिद्धू राजनीति की पिच पर अपने खेल से सबको चौंका रहे हैं. अपनी कंमेंट्री, अपने हंसने के अंदाज और चुटीले संवाद के लिए मशहूर पूर्व सलामी बल्लेबाज सिद्धू का गेम प्लान विश्लेषकों की समझ  

बिहार : शराबबंदी की सनक?

‘मैं बर्बाद हो जाऊंगा मगर शराबबंदी से समझौता नहीं करूंगा. विपक्ष कहता है कि मैं शराबबंदी के नशे में हूं. हां, मुझ पर शराबबंदी का नशा है. जो पिए बिना नहीं रह सकते, वे कहीं और चले जाएं. क्योंकि अब बिहार में शराब पीने की गुंजाइश नहीं है. जिन्हें जितना  

महबूबा मुफ्ती : सत्ता ने बदले सुर

कश्मीर घाटी की मुख्यधारा के नेता, जिन्हें कई बार अलगाववादियों से अलग करने के लिए प्रो-इंडिया यानी भारत समर्थक नेताओं के नाम से जाना जाता है, उनके बीच मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अपनी एक अलग छवि बनाई है. उन्हें एक ऐसी नेता के तौर पर जाना जाता रहा है जो  

गणतंत्र का गुड़गोबर

भोलेपन के पर्याय के रूप में मशहूर बेचारी गाय को पता भी नहीं होगा कि देश की सड़कों पर उसकी सुरक्षा के बहाने उपद्रव हो रहे हैं, तो भारतीय संसद में बहस में भी हुई. गाय को यह भी नहीं पता होगा कि उसका नाम अब सियासी गलियारे में मोटे-मोटे  

27 साल का वनवास, दिल्ली की शीला से आस

पिछले महीने की 17 जुलाई को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हल्की बौछार पड़ रही थी. कांग्रेस पार्टी ने इस दिन राजधानी में एक रोड शो का आयोजन किया था. अगले विधानसभा चुनावों में शीला दीक्षित को मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाने के बाद एक तरह से यह पार्टी