‘सरकार मेरी हत्या कर रही है’: सुरेंद्र कोली

3
728

kohaliपता है तुम्हें कहां और क्यों ले जाया जा रहा है?
हां मुझे पता है मुझे मेरठ जेल ले जाया जा रहा है और मुझे यह भी पता है कि मुझे जल्द ही मार दिया जाएगा.

अब जब तुम्हें पता है कि तुम्हें कहां और क्यों ले जाया जा रहा है तो तुम्हें आखिरी बार कुछ कहना है?

मुझे बिना किसी गुनाह के फांसी की सजा दी रही है. यह सजा नहीं है बल्कि सरकार मेरी हत्या कर रही है. मैं बिल्कुल बेकसूर हूं. मैंने अदालत और सरकार को अपनी पूरी बात बताई. मैंने लगातार अपनी बेकसूरी साबित करने की कोशिश की लेकिन मेरी बात किसी ने नहीं सुनी. मैं गरीब हूं इसलिये मेरी हत्या की जा रही है. मेरी हत्या कानून का मजाक है.

तुम आखिरी बार अपने परिवार से मिलना चाहते हो?
मैं पिछले कई महीनों से अपने परिवार और बच्चों से मिलने की गुहार लगा रहा हूं, लेकिन कोई मेरी बात सुनने को तैयार ही नहीं है. मैंने कई बार अदालत में भी यह बात कही, एप्लीकेशन भी लगाई, लेकिन कुछ नहीं हुआ. अब जब मैं मरने ही वाला हूं तो अब मुझे अपने परिवार और बच्चों से मिलने की कोई उम्मीद नहीं है. अगर मेरे मरने से पहले मेरे परिवार को मुझसे मिलवाने के लिये लाया जाता है तो उन्हें मुझसे मिलवाने के बाद सकुशल मंगरूखाल भिजवा दिया जाए.

और कोई बात जो तुम कहना चाहते हो.
निठारी के बच्चों की हत्या से मेरा कोई लेना-देना नहीं है. मैंने एक भी बच्चे की हत्या नहीं की और न ही किसी के साथ बलात्कार किया. इसके अलावा न ही मैंने किसी को पका कर खाया जैसा कि मेरे बारे में अखबारों ने और टीवी ने दिखाया है. सीबीआई ने इस मामले की ठीक तरीके से तफ्तीश नहीं की. सीबीआई ने हमारी पड़ोस वाली कोठी डी-6 के मालिक डाक्टर अग्रवाल से कोई पूछताछ नहीं की. डाक्टर अग्रवाल बच्चों को मारकर उनकी किडनी और दूसरे अंग बेचने का कारोबार करता था. इस सबके अलावा मेरा मालिक मोनिंदर सिंह पंढेर कोठी में अय्याशी करता था और कई बड़े-बड़े नेता और अधिकारी उसके यहां लगातार आते रहते थे. सीबीआई ने इन सबको बचाने के लिए मुझे फंसाया है.

लेकिन तुमने अपने बयान में पंढेर या डाक्टर के बारे में कुछ नहीं बताया.
साहब जिस आदमी के सिर पर सीबीआई के दस-दस अधिकारी खड़े हों वह और क्या करेगा. मैंने अपने बयान में वही कहा जो मुझे सीबीआई वालों ने कहने के लिये कहा था. मुझे प्रेशर में लेकर यह सब मुझसे कहलवाया गया.

3 COMMENTS

  1. Ye dal to pure ke pure kale najar aa rhe h bhi pesa wala kuh bhe kra sakta h padher v doctor agrwal se cbi puchtach kyo nhe kr rhe kyo unhe bachaya ja rha h

  2. Ye dal to pure ke pure kale najar aa rhe h bhi pesa wala kuh bhe kra sakta h padher v doctor agrwal se cbi puchtach kyo nhe kr rhe kyo unhe bachaya ja rha h

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here