व्यापमं की राह पर…

asaram-WEBउत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में एक मंजिला घर के अंदर कीचड़ वाले लॉन में चार साल का बच्चा अंश खेल रहा था. अंश इतना बड़ा नहीं हुआ है कि वह अपने परिवार वालों की पीड़ा को महसूस कर सके. दरअसल उसके पिता कृपाल सिंह को हाल ही में दिन के उजाले में किसी बाइक सवार ने गोली मार दी. कृपाल को जब गोली मारी गई तब वे अपने घर से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर थे. खुद को ईश्वर का दूत मानने वाले आसाराम बापू द्वारा एक लड़की के यौन उत्पीड़न मामले में कृपाल गवाह थे. उन्होंने लगभग एक साल पहले कोर्ट में आसाराम के खिलाफ बयान दर्ज कराया था. उन्हें अगली तारीख पर न्यायालय में उपस्थित होना था.

मामले में पुलिस ने कुछ लोगों को गिरफ्तार किया है, जबकि हत्यारे अभी तक पकड़े नहीं गए हैं. कृपाल सिंह के परिवारवालों का आरोप है कि उनकी हत्या आसाराम के गुंडों ने की है. यौन उत्पीड़न के इस मामले में दो प्रमुख गवाहों की हत्या पहले ही हो चुकी है. कृपाल की हत्या के तीन दिन बाद भी पुलिस अभियुक्तों की शिनाख्त नहीं कर पा रही थी.

शाहजहांपुर पहुंचने पर कानून एवं व्यवस्था को लेकर परेशान एक पुलिसवाले ने पूछा, ‘आप दिल्ली से यहां क्यों आए हुए हैं? आप इस घटना की रिपोर्टिंग इंटरनेट के सहारे भी कर सकते थे.’ पुलिस स्टेशन के अंदर पहुंचने पर एक अधिकारी अंडरवियर और बनियान में मिला जो हमें अपना परिचय देने और इस मामले पर बातचीत करने से बचता रहा. शाहजहांपुर कुछ दिन पूर्व यहां हुई एक पत्रकार की हत्या की वजह से सुर्खियों में आया था. यहां के एक विधायक के गुंडों ने पुलिस की मदद से उस पत्रकार को जिंदा जला दिया था.

कृपाल सिंह की पत्नी मोनी सिंह गर्भवती हैं और उन्होंने तीन दिन से कुछ भी नहीं खाया है. वे रोते हुए कहती हैं, ‘मेरे पति की मौत के लिए पुलिस और प्रशासन जिम्मेदार है. वे हत्या के तीन दिन बाद तक अभियुक्त की शिनाख्त नहीं कर पाए हैं. मैं उनसे किसी तरह की उम्मीद भी नहीं कर रही हूं.’ कृपाल के परिवार ने राज्य सरकार को धमकी दी है और कहा है कि अगर वह इस मामले में कुछ नहीं कर पाती है तो इसके परिणाम बहुत गंभीर होंगे. मोनी की बहन ने चेतावनी देते हुए कहा, ‘हमने उन्हें खो दिया है और अब हमें न्याय चाहिए. हम कुछ दिन सरकार से न्याय के लिए पहल का इंतजार करेंगे और अगर वह कुछ नहीं करती है तो हम उन्हें बताएंगे कि हम क्या कर सकते हैं?’ आसाराम के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकार पीड़िता के पिता करमवीर सिंह द्वारा दर्ज कराए गए मामले में कृपाल का नाम बतौर गवाह शामिल है. करमवीर, शाहजहांपुर में ट्रांसपोर्टर हैं.

मीडिया की रिपोर्ट में कृपाल को आसाराम का कर्मचारी बताया जाता रहा है जबकि करमवीर की मानें तो वह एलआईसी में बतौर एजेंट कार्यरत थे और उनके कर्मचारियों को बीमा पॉलिसियां बेचने के लिए अक्सर उनके यहां आते-जाते रहते थे. करमवीर ने बताया, ‘जिस रोज कृपाल की हत्या हुई, उस दिन भी वह मेरे पास आए थे. हम दोनों दोस्त थे और आसाराम के सत्संग में साथ ही जाते थे.’ अचरज की बात तो यह है कि कृपाल के परिवार के लोगों को इस बात की कोई खबर नहीं थी कि आसाराम मामले में वह भी गवाह थे. यह बात उनके परिवार के लोगों को मीडिया के माध्यम से पता चली.

मृतक गवाह कृपाल सिंह
मृतक गवाह कृपाल सिंह

मोनी अपने आंसू पोछते हुए बताती हैं, ‘हमें यह भी पता नहीं था कि वे आसाराम के सत्संग में जाते हैं. हमने उनसे जब इस बारे में पूछा था तब उन्होंने टाल दिया था. उन्हें इस मसले में साजिश के बतौर गवाह बनाया गया है. जब आसाराम के साथ उनके संबंध नहीं थे तब उन्हें गवाह क्यों बनाया गया? इससे इतर जब सरकार को यह पता चला कि वे इस मामले में मुख्य गवाह हैं तब फिर उन्हें सुरक्षा क्यों नहीं दी गई?’ करमवीर को मोनी की यह बात अच्छी नहीं लगी.

करमवीर ने बताया, ‘मेरी उनके साथ पूरी सहानुभूति है लेकिन वे पूरी तरह डरी हुई हैं. कृपाल, आसाराम के संगठन की स्थानीय युवा इकाई के अध्यक्ष भी रहे थे. हकीकत तो यह है कि कृपाल के परिवार के लोग आसाराम का साहित्य वितरित करते थे. कृपाल और उसके परिवार के लोगों को अदालत में बयान नहीं देने के लिए धमकाया जा रहा था. परिवारवालों ने कृपाल पर बयान न देने का दबाव भी बनाने की कोशिश की थी.’

करमवीर इस घटना से पहले आसाराम के भक्त थे. उन्होंने आसाराम द्वारा 15 अगस्त 2013 को जोधपुर में अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न के खिलाफ 19 अगस्त 2013 को दिल्ली के कमला नगर थाने में शिकायत दर्ज कराई थी. आसाराम का सत्संग दिल्ली में चल रहा था, इसलिए उन्होंने वहां शिकायत दर्ज कराई थी. करमवीर ने पहली बार 2001 में रायबरेली में हुए आसाराम के सत्संग में भाग लिया था. शाहजहांपुर से रायबरेली सिर्फ 75 किमी की दूरी पर है. इसके बाद वह आसाराम के सत्संग में नियमित रूप से आने-जाने लगेे. कुछ समय बाद उन्होंने अपनी बच्ची को आसाराम के मध्य प्रदेश के इंदौर स्थित गुरुकुल में भेज दिया. मामले का पता तब चला जब उनकी 17 वर्षीय बेटी स्कूल में अचानक बीमार हो गई.

आसाराम को कभी ईश्वर की तरह माननेवाले करमवीर उन्हें धुआंधार तरीके से गाली देते हुए बताते हैं, ‘मुझे गुरुकुल से एक दिन फोन आया कि आपकी बेटी बीमार पड़ गई है. मैं जब वहां पहुंचा तो मुझसे कहा गया कि अपनी बेटी को लेकर जोधपुर स्थित आसाराम के आश्रम चले जाओ. मैं उसे लेकर वहां गया और फिर वापस घर आ गया. बाद में मेरी बेटी का फोन आया और उसने अपने कटु अनुभव मुझसे बताए. यही वजह है कि मैंने आसाराम के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई.’ दूसरी ओर कृपाल को जब इस घटना के बारे में पता लगा तो उन्होंने भी आसाराम के आश्रम जाना छोड़ दिया और इस मामले में गवाह बन गए. मामला दर्ज कराने के बाद से ही कृपाल और करमवीर को लगातार जान से मारने की धमकियां मिलती रहीं. करमवीर ने अपनी सुरक्षा के लिए प्रशासन को आवेदन भी दिया था लेकिन कृपाल ने कभी इस बारे में आवेदन तक नहीं दिया. करमवीर कहते हैं, ‘वह बहादुर थे और बहादुर आदमी की तरह उन्होंनेे इस बात को हलके में लिया. मैंने उनसे कई बार सुरक्षा लेने को कहा लेकिन हर बार उन्होंनेे मना कर दिया. मैंने पुलिस से जान से मारने की धमकियां मिलने की शिकायत कई बार की थी.’ पुलिस ने कृपाल सिंह की मौत के बाद करमवीर की सुरक्षा बढ़ा दी है.

इस मामले में धमकियां और हमले केवल गवाहों तक ही सीमित नहीं हैं. यहां के एक पत्रकार जो राष्ट्रीय हिंदी दैनिक के लिए काम करते हैं, जो इस मामले पर लिखते रहे, उन पर छुरे और ब्लेड से जानलेवा हमला हो चुका है. पत्रकार नरेंद्र यादव का कहना है, ‘मुझे जान से मारने की धमकियां दी गईं और जब मैंने तब भी इस मुद्दे पर लिखना जारी रखा तब मुझे पांच लाख रुपये की पेशकश भी की गई. इसके बावजूद मैंने इस मुद्दे पर लिखना जारी रखा तब मुझ पर दो लोगों ने छुरी और ब्लेड से जानलेवा हमला किया. संयोग से  मैं बच गया और अब मैं आसाराम के मसले पर विशेषज्ञ की तरह हूं. सच तो यह है कि मैं इस मसले पर पुलिस से ज्यादा जानकारी रखता हूं.’ नरेंद्र का दावा है कि उन्होंने आसाराम से जुड़े इस मसले पर अब तक 287 रिपोर्ट लिखी हैं. नरेंद्र अपने ऊपर हुए हमले के बाद खुद की लाइसेंस वाली बंदूक साथ में लेकर सड़क पर निकलते हैं. उन्हें पुलिस की सुरक्षा भी मिली हुई है. उन्होंने इस मामले की तहकीकात  सीबीआई से कराए जाने की मांग की है. जोधपुर कोर्ट से बाहर मीडिया के सवालों के जवाब देते हुए आसाराम ने कहा था, ‘दुनिया में सारे हमले मैं ही करवाता हूं. राष्ट्रपति से कहो जांच करवाने के लिए.’

आसाराम मामले में 50 से ज्यादा गवाह हैं और इनमें से तीन की मौत हो चुकी है जबकि अब तक नौ गवाहों पर हमले हो चुके हैं. सरकार को इस मामले के गवाहों की सुरक्षा के लिए अनिवार्य तौर पर कुछ कार्रवाई करनी चाहिए अन्यथा यह कहीं दूसरा व्यापमं न साबित हो जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here