होना ही जिनका अपराध है

0
179

Binder1 10web

वो लड़की जो धूप सी खिलकर उठती थी हर सुबह…
इक रोज़ कुछ ऐसा उसके साथ हुआ…
आदमी जानवर, गांव सारा जंगल हुआ…
जानवर के जिस्म की भूख और आग में…सब राख हुआ
‘उन्होंने मेरी बेटी को जला दिया, वो मेरे सामने तड़प-तड़पकर मर गई.’
‘वो मेरी लड़की को खा गए, उसके साथ खराब काम किया और उसे जला कर मार डाला.’
‘अरे, मेरी फूल सी बच्ची के साथ जबरजस्ती करी और उसे जला दिया, मार डाला उसे.’

बुंदेलखंड के पथरीले सूखे गांवों में रहने वाले कई परिवारों का दिल दहला देने वाला यह रुदन चट्टान पर उकेरी गई किसी बदसूरत लकीर की तरह जेहन में बस जाता है. हालांकि मध्य प्रदेश का यह क्षेत्र महिलाओं के खिलाफ हिंसा की आपराधिक परंपरा के लिए हमेशा से बदनाम रहा है, लेकिन पिछले एक साल में इन अपराधों ने यहां हिंसा और बदसूरती के चरम को छू लिया. इस दौरान यहां कम से कम 15 लड़कियां बलात्कार या बलात्कार के प्रयास के बाद जिंदा जला दी गईं.

बुंदेलखंड के सामाजिक हालात देखकर महसूस होता है कि जैसे औरत होना ही यहां अपने आप में सबसे बड़ा अपराध है. पिछले पांच वर्षों से भीषण सूखे की मार झेल रहे यहां के ग्रामीण क्षेत्रों में बसे और धूल में लिपटे छोटे-छोटे गांव, औरतों की गूंगी चीख में डूबी एक रहस्यमयी चुप्पी में लिपटे हुए भी प्रतीत होते हैं. यहां के बाशिंदे उनके आसपास बेरहमी से जलाई गई औरतों के बारे में पूछने पर खामोशी का चुनाव कर लेते हैं. उनकी यह खामोशी ऐसे हत्याकांडों को समाज से  मिलने वाली मौन स्वीकृति की पुष्टि कर देती है. तभी अचानक एक नौजवान कहता है, ‘इस इलाके में औरतों के साथ ऐसी घटनाएं होना आम बात है, आप लोग क्यों परेशान हो रहे हैं?’  इस तरह बुंदेलखंड में महिलाओं के साथ हो रहे जघन्य अपराधों की स्याह तसवीर सामने आ जाती है.

‘औरत होने की सजा’ यह बात जेहन में आते ही दिमाग 900 साल पीछे चला जाता है. नौ शताब्दियों पहले दिल्ली की गद्दी पर बैठने वाली इकलौती महिला शासक रजिया सुलतान को हटाकर उसकी हत्या करवा दी गई थी. तब उस वक्त के मशहूर इतिहासकार मिन्हाज-उस-सिराज ने अपनी किताब ‘तबकात-ए-नासिरी’  में लिखा था, ‘रजिया में शासक होने के सारे गुण थे और वह अपने सभी भाइयों से ज्यादा काबिल थी. पर उसकी सिर्फ एक ही कमजोरी थी. वह औरत थी.’ तकरीबन हजार साल के भी बाद मिन्हाज के ये शब्द बुंदेलखंड की धूलभरी, सूखी बसाहटों में आज भी प्रासंगिक है. यहां सदियों पुरानी परंपराएं और रूढ़ियां आज भी रोजमर्रा के जीवन से मजबूती से जुड़ी हैं.

img

हालिया वक्त की बात करें तो महिलाओं के साथ बलात्कार या ऐसा करने के प्रयास के बाद उन्हें जला दिए जाने की सबसे ज्यादा घटनाएं बुंदेलखंड के दमोह और छतरपुर जिलों में हुई हैं. इन जिलों के दूर-दराज के हिस्सों में बसे गांवों के पीड़ित परिवारों की रोंगटे खड़े कर देने वाली दास्तानें प्रदेश में महिलाओं की स्थिति की काली सच्चाई सामने रख देती हैं. एक ओर जहां ये घटनाएं राज्य सरकार की बहुप्रचारित ‘महिला सशक्तीकरण, ‘बेटी बचाओ’ और ‘स्त्री सुरक्षा’ सरीखी तमाम खोखली नीतियों की पोल खोलती हैं वहीं दूसरी ओर दुनिया के इस हिस्से में महिलाओं की कमजोर और दोयम स्थिति की ओर भी इशारा करती हैं. बुंदेलखंड के इन उजाड़ पठारी क्षेत्रों का दौरा करने पर कई सवाल जेहन में उभरते हैं. आखिर क्यों लड़कियों का बलात्कार करने के बाद उन्हें जलाने जैसे अपराध का यह खास पैटर्न यहां उभर रहा है? ज्यादातर मामलों में बहुत लंबा समय बीत जाने के बाद भी अपराधी खुले क्यों घूम रहे हैं? एक बड़ा सवाल यह भी है कि आखिर वे कौन-सी सामाजिक परिस्थितियां हैं जो एक समाज को अपने आधे हिस्से के साथ इस बर्बरता से पेश आने की वजह बन रही हैं.

इन तमाम हत्याओं के पीछे ‘पुरुष अहंकार’ को एक प्रमुख कारण माना जा सकता है. दमोह जिले के मुख्य सरकारी वकील राकेश शुक्ला के अनुसार बुंदेलखंड में ठाकुरों और राजपूतों का बड़ा दबदबा है. ‘कोई उनका विरोध नहीं करता. अगर कोई उनके अत्याचारों के खिलाफ शिकायत करे तो वे उसे जला देते हैं. उस पर औरतों का शिकायत करना तो खासतौर पर उनके तथाकथित सम्मान को गहरी ठेस पहुंचाता है. यहां के समाज का घोर रूढ़िवादी और अशिक्षित होना भी इसका एक कारण है.’

पर पुलिस प्रशासन कुछ करता क्यों नहीं और अपराधी कोर्ट से कैसे बरी हो जाते हैं?. करीब दो दशक से इस क्षेत्र में वकालत कर रहे शुक्ला का मानना है कि ज़्यादातर मामलों में पुलिस परोक्ष रूप से अपराधी की ही मदद करती है. ‘जैसे वे एफआईआर ठीक से नहीं बनाते हैं तो केस वहीं ख़त्म हो जाता है. फिर अपराधी को पुलिस की तरफ से पूरा मौका दिया जाता है कि वह अग्रिम ज़मानत ले ले. तीन-तीन महीने चार्जशीट ही दाखिल नहीं होती और आरोपी को ज़मानत मिल जाती है. परिस्थितिजन्य साक्ष्यों की तो बात ही न कीजिये. सामान्य जांच पड़ताल में ही इतनी गलतियां करते हैं कि आरोपी के खिलाफ सबूत ही नहीं बचते. डॉक्टर मेडिकल ठीक से नहीं बनाते. गवाहों को पक्षद्रोही बना दिया जाता है, बयानों में इतना विरोधाभास पैदा कर दिया जाता है कि उनका कोई मतलब ही नहीं रह जाता. सब के सब ‘बेनिफिट आफ डाउट’ के चलते बरी कर दिए जाते हैं. और यह सब इसलिए क्योंकि ज्यादातर मामलों में अपराधी किसी बड़े ठाकुर या अमीर जमीदार का बेटा-भतीजा होता है’, शुक्ला कहते हैं. पर दमोह जिले के पुलिस अधीक्षक डीके आर्य शुक्ला की बातों से जरा भी सहमत नहीं. वे मानते हैं कि पुलिस पूरी मुस्तैदी से अपना काम कर रही है, ‘यह बात सच है कि लड़कियों को बलात्कार के बाद जला दिए जाने की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है पर उसके कई दूसरे सामाजिक-आर्थिक कारण हैं. पुलिस के काम में कोई कमी नहीं है. हम अपनी जांच-पड़ताल उचित तरीके से करते हैं.’

वहीं राज्य में अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति की अध्यक्ष संध्या शैली का मानना है कि बुंदेलखंड में औरतों की इस बदतर स्थिति के लिए पूरी तरह से सरकार और ठप पड़ा पुलिस प्रशासन जिम्मेदार है. वे कहती हैं, ‘असल में बुदेलखंड में राजनीतिक भ्रष्टाचार, ठप पुलिस प्रशासन और उदासीनता की हदें पार करने वाली नौकरशाही की तिकड़ी काम कर रही है. न वहां शिक्षा है और न रोज़गार के साधन. वहां का समाज दो हिस्सों में बंटा है, बहुत ज्यादा अमीर और बहुत ज्यादा गरीब. इन जिलों का महिला लिंग अनुपात भी बहुत कम है. जाहिर है, जब प्रशासन सोता रहेगा तो दबंग जमींदार गरीब औरतों को अपने पैरों की धूल समझ कर जलाते ही रहेंगे.’ यहां यह भी महत्वपूर्ण है कि पूरे भारत में महिलाओं के खिलाफ सबसे ज्यादा अपराध दर्ज करने वाले इस प्रदेश में महिला आयोग के अध्यक्ष का दफ्तर पिछले 6 महीनों से सूना है.

दमोह में लंबे समय तक काम कर चुके एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर तहलका से अपने विचार साझा करते हुए कहते हैं कि बुंदेलखंड ऐतिहासिक रूप से रियासती और सामंती इलाका रहा है. सामाजिक विषमता बहुत ज्यादा होने के साथ-साथ यहां औद्योगीकरण और रोजगार के अवसर बिलकुल भी नहीं हैं. ‘यहां के सामाजिक पिछड़ेपन का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि यहां यातायात के साधन तक नहीं हैं. छतरपुर में खजुराहो के पास अभी-अभी रेल लाइन डाली है. यहां के परंपरावादी समाज में जाति वैमनस्य भी बहुत ज्यादा है. आप खुद ही देखिए कि भैया राजा से लेकर आशा रानी और जीतेंद्र सिंह बुंदेला जैसे आपराधिक छवि वाले लोग यहां के बड़े नेता हैं. यहां के राजनीतिक परिदृश्य पर पूरी तरह गुंडों का राज है. इसी राजनीतिक हस्तक्षेप की वजह से पुलिस भी निरंकुश हो गई है.’

राज्य में महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों की पुलिस महानिरीक्षक अरुणा मोहन राव तहलका को बताती हैं कि कई बार पुलिस हिंसा की शुरुआती घटनाओं को गंभीरता से नहीं लेती. ‘आम तौर पर पुलिस महिलाओं के विरुद्ध हो रहे अपराधों के प्रति उतनी संवेदनशील नहीं होती जितना होने की जरुरत है. यह प्रवृत्ति जिला और ब्लाक स्तर के थानों में और अधिक देखने को मिलती है. अगर शुरुआती अपराधों, जैसे बलात्कार, के बाद ही अपराधी को पकड़ लिया जाए तो कई लड़कियों की जानें बचाई जा सकती हैं. हम इस दिशा में लगातार प्रयास कर रहे हैं और जल्दी ही बेहतर नतीजों की उम्मीद करते हैं’ वे कहती हैं.

अरुणा कम से कम पुलिस की लापरवाही को स्वीकार तो करती हैं. प्रमुख  गृह सचिव, अशोक दास इन घटनाओं पर आश्चर्य जाहिर करते हुए कहते हैं, ‘आप जो कह रही हैं, वह बहुत खतरनाक है. मैं मालूम करता हूं, इस पर तुरंत कार्रवाई की जाएगी. वैसे राज्य सरकार इस तरह के जघन्य अपराधों से निपटने के लिए एक खास तरह का तंत्र विकसित कर रही है. इसके तहत हर जिले में एक “सनसनीखेज और जघन्य अपराध सेल” बनाया गया है. इस सेल की समिति में जिला कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक और जिला न्यायाधीश, सब शामिल होंगे. इस सेल में इसी तरह के जघन्य अपराधों को दर्ज किया जायेगा और उनकी फास्ट ट्रैक जांच और सुनवाई होगी. मुख्यमंत्री खुद इस सेल का तिमाही निरीक्षण करेंगे.’ पर राजधानी के इन प्रमुख अधिकारियों को शायद यह अंदाजा नहीं है कि जिला स्तर पर किसी को भी इस तरह की किसी योजना के बारे में पता ही नहीं है.

बुंदेली लोक गीतों में डूबा बुंदेलखंड आज भी पुरातन हर्ष और भय के भावों में जकड़ा हुआ है. गावं के लोग मानते हैं कि औरतें मर्यादा को लांघ रही हैं, इसलिए जलाई जा रही हैं. पर परंपराओं के पैरोकार यह भूल रहे हैं कि वे मानवता की सीमाओं को लांघ रहे हैं. बदलते सामाजिक प्रतिमानों की तुलना में यहां का समाज उजाड़ बंजर भूमि सा कठोर बना हुआ है. अपने एक प्रसिद्ध वक्तव्य में स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि किसी भी समाज में अच्छाई और मानवता की स्थिति का अंदाजा इस बात से ही हो जाता है कि वह समाज अपनी स्त्रियों के साथ कैसा व्यवहार करता है. गांधी के ग्राम राज्य में, राम राज्य के प्रकाश में और दिन के उजाले में लड़कियां जलाई जा रही हैं. सरकार, प्रशासन और न्याय…..रात सी गहरी नींद में सोया हुआ है.

01 : ‘किसी ने हमारी मोड़ी को हाथ न लगाया. हम्हीं उसे लेकर अस्पताल गए’

अपनी फूल-सी बच्ची की मौत के निशान गेंदाबाई गोंड ने आज तक अपनी जर्जर झोपड़ी की दीवार से नहीं मिटाए. दीवार पर जमी काली राख और धुएं के ये निशान दिखाते हुए उनके हाथ कांपने लगते हैं. लड़खड़ाती आवाज में वे कहती हैं, ‘जहीं पर जलाया था उसे. मिट्टी का तेल डालकर मारी मोड़ी को जला दिया बा ने’. कहते-कहते उनकी आंखों के कोर भीग जाते हैं और फिर वे रोने लगती हैं.

20 मार्च, 2010 की तारीख गेंदाबाई के लिए जिंदगी भर तकलीफ देने वाला एक घाव बन गई है. इसी दिन उनकी बड़ी बेटी लीलाबाई उनसे हमेशा के लिए बिछड़ गई. गांव के ही एक युवक गोविंद सिंह ठाकुर ने बलात्कार की कोशिश के बाद उसे जलाकर मार डाला.

गेंदाबाई गोंड की छोटी-सी झोपड़ी दमोह जिले के बटियागढ़ थाने की सडारा ग्राम पंचायत में है. वे और उनके पति चंदू आदिवासी भूमिहीन मजदूर हैं. 14 साल की लीलाबाई की हत्या के बाद उनके परिवार में अब दो बेटे और एक बेटी है. वे बताती हैं, ‘पिछले साल चैत का महीना चल रहा था, सोमवार का दिन था. शाम के पांच बज रहे थे. मैं और लीला के बापू खेतों में कटाई कर रहे थे कि तभी गोलू चिल्लाते हुए आया. वह कह रहा था कि तुम्हारी मोड़ी को जला दिया, लीला को जला दिया. मैं और लीला के बापू भागे-भागे घर पहुंचे तो देखा कि मेरी लड़की आंगन में जली पड़ी थी, छटपटा रही थी.’

अपनी लाड़ली को आग में झुलसा देखकर एक पल को गेंदाबाई बेहोश हो गई थीं. वे बताती हैं, ‘फिर मैंने खुद को संभाला और लड़की को गोद में सुलाया. उसके बापू ने मुन्ना सरपंच को बताया और उसी की गाड़ी में हम तुरंत अस्पताल दौड़े. पूरा गांव इकठ्ठा हो गया था पर किसी ने हमारी मोड़ी को हाथ न लगाया. हम दोई उसे लेकर अस्पताल गए.’

दमोह जिला अस्पताल में कुछ घंटों तक लीलाबाई 95 फीसदी जल चुके अपने शरीर के साथ मौत से लड़ती रही. 21 मार्च को रात आठ बजे उसकी सांसों ने जवाब दे दिया. जिंदगी के आखिरी घंटों में गेंदाबाई अपनी बेटी को सीने से चिपकाए अस्पताल में बैठी रहीं. वे बताती हैं कि उनकी बेटी ने मरने से पहले चिल्ला-चिल्ला सबके सामने कहा था कि दरोगा के बेटे गोविंद सिंह ठाकुर ने उसके साथ जबर्दस्ती की और उसे मिट्टी का तेल डालकर जला दिया. वे कहती हैं, ‘वो लड़का न जाने क्यों मेरी मोड़ी के पीछे पड़ा था. उस दिन जब हम खेत पर गए थे, तब वह जबर्दस्ती हमारे घर में घुस आया. लीला ने मरने से पहले डाक्टरों और अधिकारियों, सबके सामने कई बार कहा कि गोविंद उसका हाथ पकड़ कर घसीटता हुआ उसे घर में ले गया और उसके साथ जबरजस्ती करने लगा. जब मोड़ी ने खुद को छुड़ाने की कोशिश में हाथ-पांव मारना शुरू किए तो उसे गुस्सा आ गया. उसने मिट्टी के तेल से भरी कुप्पी मेरी लड़की पर उड़ेल दी और उसे माचिस लगाकर भाग गया. मोड़ी जल गयी…मारी मोड़ी जल गयी.’

स्थानीय थाना बटियागड़ में मामला दर्ज होने के तीन महीने बाद किसी तरह आरोपित को गिरफ्तार तो किया गया पर एक साल बीतने के बाद भी अदालत में सुनवाई शुरू नहीं हुई है. थाने में मौजूद इकलौते अधिकारी नरेंद्र तिवारी यही बता पाते हैं कि गोविंद सिंह ठाकुर पर कौन-सी धाराओं में मामला दर्ज हुआ है. तफ्तीश की कछुआ चाल के सवाल पर अलसाए और उनींदे-से थाना पुलिसकर्मी सारा दारोमदार अपने बड़े अधिकारियों पर डालते हुए कहते हैं, ‘मैडम, एसटी/एससी वाले केसों की जांच तो बड़े अधिकारी ही करते हैं. हमें इस मामले में ज़्यादा जानकारी नहीं है.’

गेंदाबाई का कहना है कि पुलिस एक बार भी उनके घर जांच करने नहीं आई. मौत से पूर्व लीलाबाई के अहम बयान की प्रति तो दूर की बात है, पीड़ित परिवार के पास मामले की एफआईआर की प्रति तक नहीं है. गेंदाबाई और उनके पति को यह भी पता नहीं कि सरकारी वकील कौन है, कोई है भी या नहीं. वे कहती हैं, ‘एक भी बार हमारी पेशी नहीं हुई. हमें तो कुछ नहीं पता कि कचहरी में क्या चल रहा है. लीला के बापू तो मजूरी करने के लिए बाहर रहते हैं. काम नहीं करेंगे तो बच्चों का पेट कैसे पालेंगे? क्या बताएं साहिब, वो पैसे वाले ताकतवर लोग हैं. हम गरीबों की कौन सुनेगा? डर है मेरी लड़की को मारने के बाद भी वो छूट जाएगा.’

जब पुलिस का जांच दल मौका-ए-वारदात पर गया ही नहीं तो परिस्थितिजन्य साक्ष्यों का क्या हाल होगा, इसका अनुमान लगाया जा सकता है. लचर प्रशासन और पुलिस के मनमाने उदासीन रवैये की वजह से बुंदेलखंड के इन पिछड़े इलाकों में कई अशिक्षित और गरीब आदिवासी परिवारों को कभी न्याय नहीं मिल पाता. हम जब गेंदाबाई से विदा लेते है तो अचानक दुनिया की सारी संकल्प शक्ति अपनी आंखों में समेटते हुए वे कहती हैं, ‘मैंने अपनी लड़की की शादी के लिए पीतल की बड़ी परात खरीदी थी. उसकी शादी तो सपना ही रह गई. पर हम हार नहीं मानेंगे. कुछ भी करेंगे, कर्जा लेंगे, मजूरी करेंगे…पर केस ज़रूर लड़ेंगे. मैं उसके हत्यारे को सजा दिलाए बिना नहीं मरूंगी.’

 02 : ‘मम्मी पानी पिला दो. मम्मी हमें चार जनन ने जला दिया’

‘मैं और संध्या के बापू खेत से घर लौट रहे थे. हम गांव में घुस ही रहे थे कि रास्ते में मीना बढ़ई ने चिल्लाते हुए बताया – संध्या जल गई, संध्या जल गई. हम दोनों दौड़ते हुए घर पहुंचे तो देखा कि हमारी मोड़ी आंगन में पड़ी-पड़ी तड़प रही थी, पूरी जल चुकी थी. मुझसे बार-बार एक ही बात कह रही थी, ‘मम्मी, पानी पिला दो. मम्मी, हमें चार जनन ने जला दिया. मम्मी पानी पिला दो, मम्मी हमें चार जनन ने जला दिया’ कहते कहते रमादेवी रिछारिया दहाड़ें मार-मार कर रोने लगती हैं. उनकी 18 वर्षीया बेटी संध्या रिछारिया को उनके पड़ोस में रहने वाले चार लड़कों ने 4 मार्च, 2010 को बलात्कार के प्रयास के बाद मिट्टी का तेल डालकर जला दिया था. बलात्कार के बाद लड़कियों को जलाने के हालिया मामलों में यह एकमात्र ऐसा मामला है जिसमें निचली अदालत ने फैसला सुना कर सारे अभियुक्तों को बरी कर दिया है.

संध्या छतरपुर जिले के हमा गांव में अपने माता-पिता और दो भाई-बहनों के साथ रहती थी. पांचवी कक्षा तक पढ़ाई करने के बाद उसने स्कूल छोड़ दिया और घर के कामों में मां का हाथ बंटाने लगी. संध्या के पिता सूरजपाल रिछारिया और मां मजदूरी करके अपना परिवार चलाते हैं. उन्होंने बड़ी मुश्किल से अपने बच्चों के रहने के लिए एक कच्चा घर बनाया था. गांव में ज़्यादातर घर राजपूतों के हैं और संध्या का परिवार गांव के मुट्ठी भर ब्राह्मण परिवारों में से एक है. संध्या के घर के ठीक सामने चंद्रपाल नायक का परिवार रहता है. नायक परिवार अपने बेटे से संध्या की शादी के लिए सूरजपाल पर दबाव बना रहा था. ‘वो हमसे पांच महीनों से कह रहे थे कि तुम लोग अपनी लड़की की शादी हमारे लड़के दीपक से कर दो जबकि हम उसकी शादी अलीपुरा के चौबे परिवार में तय कर चुके थे’ संध्या की मां कहती हैं, ‘चंद्रपाल अकसर कहता था कि अपनी लड़की की शादी हमारे लड़के से कर दो, वरना किसी के साथ भाग जाएगी और गांव की बदनामी हो जाएगी.’

इसी बात पर संध्या की हत्या के कुछ दिन पहले ही, संध्या के पिता का चन्द्रपाल से झगड़ा भी हो गया था. ‘हमने साफ मना कर दिया. हम अपनी बेटी की शादी अपने कुल के ही किसी अच्छे घर में करना चाहते थे. यही बात उनको बुरी लग गयी’, रमादेवी आगे बताती हैं. संध्या के परिवार को आशंका तो थी कि इस झगड़े से नाराज होकर चंद्रपाल कुछ करेगा पर उनकी बेटी के साथ जो कुछ भी हुआ, उसकी उन्हें सपने में भी उम्मीद नहीं थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here