‘इंतजार कराते रहना’ स्वाद है या यात्रा ?

0
1419

जब हमारी फिल्मों के पास कहानी नहीं होती और वे यात्राओं पर निकलती हैं, हम अभिनेताओं, उनके कम खराब या अच्छे अभिनय, आला दर्जे की सिनेमेटोग्राफी, हास्य, और फरसी पर फोड़कर तोड़े गए दर्द में उस फिल्म का जीवन तलाशते हैं. इस तरह के जीवन की तलाश हम फाइंडिंग फैनी में भी करते हैं. चूंकि फिल्म यात्रा पर निकलने से पहले की तैयारी सलीके से करती है, अपने दिलचस्प किरदारों और उनकी सोती-सी मगर उलझी जिंदगियों की झलक दिखाकर हमें अपने ज्यादा करीब सरका लाती है. ये आनंद के पल हैं और हम सफर करने को लेकर उत्साहित हैं. फिल्म कहानी की नींव में इतना लोहा डालती है, इतनी उम्मीद जगाती है, कि आसमान को जल्द ही छूने वाली उसकी इमारत की आखिरी छत जल्द ढले, इसका हम सपना पाल लेते हैं. और यहीं गलती करते हैं. सफर पर निकलने के बाद फाइंडिंग फैनी को याद ही नहीं रहता कि उसके साथ हम भी सफर में हैं. वह खुद घमंड से है, चाहती है कि उसके सफर को हम समझें, हमारे सफर को वे नहीं. फिल्म अपनी पूरी यात्रा में हमें इंतजार कराती है. कुछ अच्छा, दिलचस्प, नया, विकिड, रोचक होने का. यह ‘इंतजार कराते रहना’ उसके लिए शायद एक खास किस्म का स्वाद है जिसे एक्वायर करना होता है, या फिर यह एक पीड़ादायक यात्रा है जिसमें दर्शक को पीड़ा का अहसास हरदम होता है? फाइंडिंग फैनी यही सवाल बनकर रह जाती है.

फिर हम लौटते हैं, वहीं, अभिनेताओं के अच्छे अभिनय में जीवन तलाशने. यहां सुकून मिलता है. दीपिका को ऐसी फिल्में करते देख अच्छा लगता है. वे इतनी परिपक्व हुई हैं कि राम-लीला वाले अभिनय से बाहर निकलकर ठहराव वाला सहज अभिनय करने लगी हैं, बड़ी बात है. अर्जुन कपूर के अभिनय पर इस बार हम कटाक्ष नहीं कर रहे, और भी बड़ी बात है. डिंपल कपाड़िया आखिरी बार ‘बीइंग साइरस’ में अभिनय करती मिली थीं, और इतने साल बाद अब फाइंडिंग फैनी में.

एक अनूठी यात्रा का वादा करके पीछे हट जाने वाली यह फिल्म फिर भी आप देखिएगा जरूर. नसीर के लिए. थोड़े पंकज कपूर के लिए. इसलिए भी कि शायद आपको फिल्म की यात्रा पसंद आए, समझ आए. समीक्षक को आए न आए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here