समाज और संस्कृति Archives | Page 3 of 18 | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
‘मेेरी कहानियां भारत-पाक के बीच की नफरत को चुनौती देती हैं’

ओरल हिस्ट्री प्रोजेक्ट के तहत आपकी किताब  ‘द फुटप्रिंट्स ऑफ पार्टीशन’  आई है. इस प्रोजेक्ट के तहत आपने 600 लोगों के साक्षात्कार लिए. इतने सारे लोगों से मिलकर बातचीत करने का अनुभव कैसा रहा? अद्भुत! जिस किसी से भी मैंने बात की, उस ही के पास बहुत सशक्त कहानियां थीं.  

जनता टॉकीज

मनोरंजन हर तबके के लोगों के जीवन का एक खास हिस्सा होता है और हिंदुस्तान में फिल्में मनोरंजन का पसंदीदा साधन हैं. सिनेमा का हिंदुस्तान में वही महत्व है जो यूरोपीय देशों में किताबों का, हर वर्ग का व्यक्ति कमोबेश फिल्मों का शौकीन है. फिल्में आम आदमी की जिंदगी का  

समाज के तानों के खिलाफ महादलित महिलाओं की तान

सोना देवी आज भी याद करके सिहर जाती हैं कि कैसे उनके पति ने दाहिने गाल पर बेरहमी से थप्पड़ मारा था, जब उनको पता चला कि उनकी बीवी महादलित बैंड पार्टी में शामिल होकर बाजा बजा रही है. उस थप्पड़ की गूंज आज भी सोना देवी के कानों में  

‘मैं खुद को किसी खांचे में नहीं बांधना चाहता’

आपकी फिल्म  ‘कोर्ट’  के दोनों मुख्य किरदारों में एक सफाई कर्मचारी (जमादार) और दूसरा दलित लोक गायक है. क्या आपको उम्मीद थी कि ये दोनों किरदार उच्च मध्य वर्ग खासकर पश्चिमी दर्शकों को समझ में आएगी? जब मैंने इस फिल्म का कथानक (स्क्रिप्ट) लिखा, तब मेरे सामने भी ये सवाल  

हिंदी साहित्य में स्वेतलाना एलेक्सीविच की जरूरत

इस साल साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित बेलारूस की खोजी पत्रकार और नॉन फिक्शन (गैर काल्पनिक) लेखिका स्वेतलाना एलेक्सीविच की सबसे चर्चित किताब ‘वॉयसेज फ्रॉम चर्नोबिल’ के बारे में पढ़ते हुए मेरा ध्यान सबसे पहले भोपाल गैस त्रासदी के साहित्यिक दस्तावेजीकरण की तरफ गया. यह किताब वर्ष 1986 में  

झलक सरहद पार की

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में सिविल लाइंस की एक दुकान के बाहर मशहूर पाकिस्तानी अदाकारा सनम सईद का एक आदमकद पोस्टर लगा है. सड़क पर रिक्शों में जातीं स्कूल-कॉलेज की लड़कियां उन्हें पहचानती हैं और अगली बार उस दुकान पर आने की बात भी कहती हैं. अमूमन बॉलीवुडिया  

संगीत के साथ जैसे उन्हें जीवन वापस मिल गया था. गाना दोबारा शुरू करते हुए उन्हें यह डर था कि पता नहीं इतने समय बाद वो गा भी पाएंगी या नहीं और लोगों पर उनका जादू वैसे ही चलेगा या नहीं. लेकिन जब उन्होंने गाया तो दोबारा उसी तरह की  

चित्र कथा : बे-वतन बच्चे

भारत में शरणार्थी जीवन जीने को मजबूर कई देशों के मासूम बच्चे अपनी पहचान और राष्ट्रीयता दोनों से अनजान हैं  

उपेक्षा का दर्द

आजादी के आंदोलन का महत्वपूर्ण केंद्र रहा लखनऊ का रिफह-ए-आम क्लब फिलहाल अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है  

कंगना तेरा स्वैगर लाख का…

दूसरी लड़कियों की तरह वह भी आईने के सामने खड़ी होकर घंटों खुद को निहारा करती थीं, लेकिन कभी उन्होंने खुद में माधुरी या श्रीदेवी को तलाशने की कोशिश नहीं की. हमेशा उन्होंने आईने के उस पार अपनी पहचान को ढूंढने की कोशिश की है. सिंड्रेला जैसे किस्से-कहानियों से बचपन