मुलाक़ात Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
‘हिंदी इंटरनेट पर बहुत अकेली है’

हिमोजी बनाने का विचार कैसे आया? हिंदी का अब जो सिलेबस है वो पहले की तरह नहीं है कि आपको सिर्फ मध्ययुगीन प्रेम आख्यान पढ़ाने हैं या सिर्फ तुलसीदास या आधुनिक कवि पढ़ाने हैं. हिंदी के सिलेबस में बहुत बदलाव आए हैं. इंटरनेट है, सोशल मीडिया है, ब्लॉगिंग है, वेब  

‘हिंदी में यूरोपीय साहित्य से बेहतर लिखा गया है’

हाल ही में डॉ. भालचन्द्र नेमाड़े को ज्ञानपीठ सम्मान से नवाजा गया. उन्होंने औरंगाबाद, गोवा और लंदन के विश्वविद्यालयों में अंग्रेजी, मराठी और तुलनात्मक साहित्य का अध्यापन किया है. मुंबई विश्वविद्यालय की तुलनात्मक साहित्य के लिए गुरुदेव टैगोर पीठ से लंबे समय तक अध्यापन के बाद वह रिटायर हुए. लगभग 77 साल के हो चले नेमाड़े की प्रमुख कृतियों में ‘कोसला’, ‘बिढार’, ‘जरीला’ और ‘झूल’ हैं. उनके काव्य संग्रह ‘मेलडी’ और ‘देखणी’ को भी बहुत सराहा गया है. उनकी...  

‘भाजपा उत्तर प्रदेश में 50 से अधिक सीटें जीतेगी’

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष राजनाथ सिंह लखनऊ सीट से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं. हालांकि अतीत में लखनऊ उनके लिए सियासी तौर पर फलदायी सिद्ध नहीं हुआ है. बाबरी विध्वंस के बाद उत्तर प्रदेश विधानसभा के मध्यावधि चुनाव में उन्होंने लखनऊ की महोना सीट से चुनाव लड़ा था जहां उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा था. इस बार वे यहां से लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं, जहां उनका सीधा मुकाबला कांग्रेस की रीता बहुगुणा जोशी से है. मुस्लिम...  

‘पांच साल में पूरी तरह बदल जाएगा हमारा सिनेमा’

फिल्म निर्देशक सुधीर मिश्रा से खास बातचीत.  

‘हिंदी में या तो अश्लीलता बिक रही है या सनसनी’

हिंदी आलोचना की कठिन डगर पर महिलाओं के पदचिह्न कम ही मिलते हैं. निर्मला जैन को उनकी बेबाक आलोचनाओं के लिए जाना जाता है. पेश है निर्मला जैन से बातचीत के संपादित अंश.  

‘राहुल गांधी को अहम मुद्दों पर बात करने की जरूरत है’

घटता विदेशी मुद्रा भंडार, कम होता निवेश, गिरती विकास दर, डांवाडोल रुपया, खस्ताहाल औद्योगिक उत्पादन और नौकरियों में छंटनी जैसे कारकों ने पिछले कुछ समय से वित्त मंत्री पी चिदंबरम की मुसीबतें बढ़ा रखी हैं. ऊपर से लगातार लग रहे घोटालों के आरोप सरकार के लिए जैसे कोढ़ में खाज बनकर आए हैं. हाल ही में गोवा में हुए चर्चित आयोजन थिंक में चिदंबरम ने शोमा चौधरी से बातचीत की. वित्त मंत्री ने देश की अर्थनीति और राजनीति,...  

‘आलोचक बेपेंदी के लोटे की तरह होते हैं’
by

हाल ही में कतर में उर्दू अदब का प्रतिष्ठित ‘फरोग-ए-उर्दू’ सम्मान पाने वाले हिंदी-उर्दू के चर्चित कथाकार शमोएल अहमद से निराला की बातचीत.