आतंकवाद की नई सीमा : बांग्लादेश!

दो दिनों के कॉन्फ्रेंस की शुरुआत गृहमंत्री राजनाथ सिंह के उद्घाटन भाषण से हुई. इस मौके पर राजनाथ सिंह ने ईराक में सक्रिय आतंकवादी संगठन आईएसआईएस को लेकर चिंता जाहिर की और कहा देश की सुरक्षा के लिए यह बड़ा खतरा है. उन्होंने कहा, ‘इस्लामिक स्टेट को हम खतरनाक चुनौती मानते हैं. हमारे देश में भी कुछ युवा उनके विचार से प्रभावित हो रहे हैं.’ साथ ही उन्होंने अलगाववादी ताकतों को यह संदेश भी दिया कि देश की एकता और अखंडता के लिए सभी देशवासी संगठित हैं. उन्होंने कहा कि देश की आजादी के लिए मुसलमानों ने भी उसी तरह त्याग किया है, जैसे हिंदुओं ने. अलकायदा जैसे संगठन अपने इरादों में कभी कामयाब नहीं हो सकते, लेकिन इन संगठनों से जुड़े खतरे को हम नजरअंदाज नहीं कर सकते.

असम का इस्तेमाल घुसपैठियों ने पश्चिम बंगाल तक पहुंचने के लिए एक सुरक्षित रास्ते के रूप में किया है. एनआईए के अनुसार कुछ गैर सरकारी संगठनों ने असम में बांग्लादेश के प्रतिबंधित संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन को असम में अपना बेस स्थापित करने में मदद की. जांच एजेंसी के राडार पर ऐसे कम से कम आठ एनजीओ हैं. इन संगठनों ने प्रत्यक्ष तौर पर जमात-उल-मुजाहिदीन को अपनी स्थिति मजबूत करने में सहायता की. जमात-उल-मुजाहिदीन ने दो चरणों में इस ऑपरेशन को अंजाम दिया. खुफिया विभाग की जानकारी के मुताबिक पिछले चार सालों के दौरान लगभग 180 घुसपैठिए भारत आए हैं. असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने भी स्वीकार किया है कि अलकायदा असम के जमीन पर अपना संगठन बनाने की कोशिश कर रहा है.

असम के रास्ते घुसपैठिए पश्चिम बंगाल तक सुरक्षित पहुंच जाते हैं. एनआईए के अनुसार कुछ गैर सरकारी संगठन इसमें जमात-उल-मुजाहिदीन का सहयोग कर रहे हैं

शाहनूर आलम के एनआईए और असम पुलिस के हत्थे चढ़ने के बाद कई चौंकानेवाली जानकारियां सामने आई हैं. आलम की पत्नी सुजिना बेगम भी उसके साथ ही पकड़ी गई थी. आलम जमात-उल-मुजाहिदीन के वित्तीय मामलों का प्रमुख था. बेगम की ट्रेनिंग बंगाल के सिमुलिया मदरसे में हुई थी. अपने पति की ही तरह सुजिना बेगम भी संगठन की गतिविधियों में सक्रिय थी. उसका काम मुख्य रूप से असम में महिलाओं के बीच जेहाद की भावना मजबूत करना था. इस काम के लिए उसे खास तौर पर एक ही महीने में तीन बार ट्रेनिंग भी दी गई थी. साथ ही उसके साथ राज्य की कुछ और महिलाओं को भी मदरसे में इसी तरह की ट्रेनिंग दी गई. असम के आतंकी संगठनों का संपर्क पिछले कई सालों से बांग्लादेश के आतंकी संगठनों खास तौर पर हरकत-उल-जिहादी इस्लामी के साथ है. इसी सहयोग के बदौलत हैदराबाद में हुजी-बी शाहिद बिलाल के नेतृत्व में अपना संगठन कायम करने में सफल हो सका.

गुवहाटी के प्रतिष्ठित पत्रकार राजीव भट्टाचार्य बताते हैं, ‘केंद्र सरकार असम की राजधानी में कॉन्फ्रेंस कर अलगाववादियों और आतंकी सगठनों को कड़ा संदेश देना चाहती है. इस बैठक के जरिये सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि पूर्वोत्तर के राज्य सरकार की प्राथमिकता में हैं.’ असम के पूर्व डीजीपी हरे कृष्ण डेका का कहना है कि इस कॉन्फ्रेंस के गुवहाटी में होने के पीछे कई तर्क हैं. सबसे प्रमुख बात यह है कि पूरे देश में सुरक्षा की दृष्टी से यह संवेदनशील और महत्वपूर्ण क्षेत्र है.

सरकार के मुताबिक आतंक का नया रूप जिहादी आतंकवाद है. पुलिस के आधुनिकीकरण की मांग के साथ सभी राज्यों के पुलिस प्रमुख एक बात पर एकमत दिखे कि देश में नये तरह के आतंक का स्वरूप उभर रहा है. राज्यों के डीजीपी के साथ हुई बैठक में एक बात स्पष्ट हो गई कि देश की सुरक्षा के लिए चिंता अब नक्सलवाद के अलावा बांग्लादेश के रास्ते आ सकनेवाला आतंकवाद भी है. धर्म के नाम पर फैल रहा यह जहर धीरे-धीरे पूरी दुनिया पर अपना असर दिखा रहा है और इतना तय है कि भारत भी इससे अछूता नहीं रहेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here