आशुतोष कौशिक

0
91
आशुतोष कौशिक
आशुतोष कौशिक
आशुतोष कौशिक

साल 2007 में एमटीवी रोडीज के पांचवें सीजन में सहारनपुर, उत्तर प्रदेश के आशुतोष कौशिक ने अपनी बेबाकी और देसी ठसक से सबका दिल जीत लिया था. उन्होंने पांचवां सीजन जीतकर न सिर्फ तारीफें बटोरीं बल्कि लगे हाथ 2008 में आए बिग बॉस के दूसरे सीजन में भी जगह बना ली थी.

कह सकते हैं कि आशुतोष का वक्त अच्छा चल रहा था इसलिए उनके घर में बिग बॉस की ट्रॉफी भी सज गई. इतने नाम और शोहरत के बाद उनके फिल्मों में आने की खबरें भी आने लग गईं. बिग बॉस जीतने के कुछ महीनों बाद तक उन्हें किसी स्टार से कम नहीं समझा जाता रहा. कुछ लोगों ने इस उभरते हुए नाम से उम्मीदें बांध ली थीं तो कुछ की जबान पर यह जुमला था कि सब टाइम की बात है.

खैर शायद वक्त-वक्त की ही बात होती है. इसलिए महज सात साल पहले जिस शख्स ने तूफानी एंट्री ली थी वह अब सुर्खियों और मीडिया से आंधी की तरह गायब भी हो गया.  दूध के उस उफान की तरह जिसके उठने और बैठने में एक जैसा वक्त लगता है.

कभी एक ढाबा चलाने वाले (वैसे ढाबा आज भी चालू है) और ब्याज पर पैसा चलाने वाले सहारनपुर से आए, एकदम देसी अंदाज वाले आशुतोष ने शायद ही सोचा था कि वह इतने कम समय में इस कदर ऊंचाई पर पहुंच पाएंगे और एक के बाद एक शोहरत की सीढ़ियां चढ़ते जाएंगे. लेकिन किस्मत ने उनका ऐसा साथ दिया कि वे अपने सुनहरे भविष्य के ख्वाब बुनने से खुद को रोक नहीं पाए . उनकी फिल्मों में एंट्री की बातें भी जोर पकड़ने लगी. कुल मिलाकर आशुतोष ने मीडिया मंडी से और मीडिया मंडी ने आशुतोष से सपनों का साझा कर लिया था. लेकिन अफसोस कि आशुतोष जितनी तेजी से अर्श पर पहुंचे उससे दोगुनी गति से उनकी यादें लोगों के जेहन से और खबरों की दुनिया से धुंधली होती गई. कल तक जिसमें एक भविष्य का स्टार देखा जा रहा था आज उसका नाम लेने पर लोगों के जेहन में उसकी तस्वीर बना पाना भी मुश्किल हो गया है.

यू ट्यूब पर रोडीज या बिग बॉस के पुराने सीजन खंगालने के दौरान आशुतोष के दिखाई देते ही यकायक मन में सवाल आता है – यह चेहरा अचानक कहां गायब हो गया?

एक वक्त आशुतोष को अपना आदर्श मानने वाले युवाओं में से पता नहीं कितने जानते हैं कि हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में उन्होंने अपने ही शहर सहारनपुर से जय महाभारत नाम की पार्टी के लिए चुनाव भी लड़ा लेकिन वहां उन्हें हार का सामना करना पड़ा. जिस स्टारडम की बदौलत वे छाए रहते थे वह जादू भी कुछ कमाल नहीं कर सका. अक्सर कहा जाता है कि सफलता मिलने के बाद दिमाग सातवें आसमान पर पहुंच जाता है. जो सफलता पचा नहीं पाते हैं, उनका यही हश्र होता है लेकिन आशुतोष का मामला इससे बिलकुल अलग था. उनके लिए तो बस यही कहा जा सकता है कि उन्होंने अभी सफलता के पकवान को अपनी किस्मत की थाली में परोसा हुआ ही देखा था और अभी उसकी खुशबू ही ले रहे थे कि उन्हें खुद भी नहीं मालूम चल सका कि कब और कैसे उन्हें लगातार मिलने वाले ऑफर, उनके बारे में की जाने वाली चर्चा यकायक खत्म हो गई.

रोडीज के बाद भी वह अच्छा जा  रहा था. लेकिन बिग बॉस जीतने के बाद राह भटक गया. शायद उसे जमाने की हवा लग गई

हालांकि इस बीच आशुतोष ने कुछ फिल्मों में अपनी किस्मत भी आजमाई. साल 2013 में संजय दत्त अभिनीत फिल्म ‘जिला गाजियाबाद’ के अलावा ‘भड़ास’ और ‘रघु रोमियो’ में आशुतोष नजर आए थे लेकिन इन फिल्मों में उनकी उपस्थिति की चर्चा न के बराबर ही रही. छोटे पर्दे पर आशुतोष, कॉमेडी सर्कस में जोर आजमाइश करते दिखाई दिए लेकिन दर्शकों के दिल को बहुत ज्यादा नहीं छू पाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here