महाराष्ट्र में दिव्यांग बुजुर्ग महिला की रेप के बाद हत्या,एक गिरफ्तार !

मेंढपाल जनजाति की महिला, एट्रोसिटी एक्ट के तहत कार्रवाई करने की मांग

0
732

महाराष्ट्र के मेंढपाल जनजाति की एक दिव्यांग बुजुर्ग महिला के साथ बलात्कार व उनकी हत्या के बाद मेंढपाल जनजाति में आक्रोश फैला है। यह घटना महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले, तालुका जलगांव के खेरड़ा गांव की है।

महिला की उम्र 55 साल बताई गई है। पुलिस ने इस मामले में एक युवक को अरेस्ट किया है जो उसी गांव का रहने वाला है। यह घटना शुक्रवार रात की है। मिली जानकारी के मुताबिक वह महिला अपने एक रिश्तेदार के घर अकेली रहती थी। पुलिस के अनुसार युवक शराब के नशे में उनके घर में घुसा। महिला अकेली थी।दिव्यांग महिला के साथ दुष्कर्म करने के बाद युवक ने महिला की हत्या कर दी। हत्या की खबर शनिवार सुबह सामने आई जब मृतक महिला की रिश्तेदार अपने घर लौटी।

इस मामले में मेंढपालपुत्र का एक डेलिगेशन पुणे कलेक्टर से मिला। उन्होंने इस मामले की जांच फास्ट ट्रैक कोर्ट से करने की मांग की। साथ-साथ उन्होंने मेंढपाल समाज की महिलाओं के साथ होने वाले दुष्कर्म की घटनाओं पर एट्रोसिटी एक्ट के तहत कार्रवाई करने की मांग की।

मेंढपाल यानी यायावर पशुपालक। मेंढपालपुत्र आंदोलन के सौरभ सटकर के अनुसार इस जनजाति की महिलाओं और लड़कियों को यौन उत्पीड़न का शिकार बनाया जाता है। क्योंकि सरकार ने जंगल के प्राकृतिक चारागाहों पर रोक लगा दी है जिसकी वजह से इस जनजाति को अपने पशुओं के साथ यायावर की भांति एक गांव से दूसरे गांव, एक जिले से दूसरे जिले सारे राज्य में घूमना पड़ता है। जानवरों के चारे के लिए जिस गांव में या गांव के बाहर इन्हें अपनी छावनी लगानी पड़ती है! उस गांव के रसूखदार लोग इनकी मजबूरी का फायदा उठाने से नहीं चूकते।

इसके पहले भी पुणे में एक 12 साल की बच्ची के साथ बलात्कार की घटना सामने आई थी। हालांकि इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई की और अपराधी पकड़े गए। बावजूद इसके उस परिवार पर केस वापस लेने का दबाव लगातार बनाया जाता रहा है। ऐसी बहुत कम घटनायें हैं जो बाहर आती है वरना यौन शोषण, यौन उत्पीड़न और बलात्कार की घटनाओं को दबा दिया जाता है।

महाराष्ट्र में इस जनजाति की हालत बदतर है। महाराष्ट्र सरकार ने इन्हें विशेष प्रावधान नहीं दिए हैं। उनके साथ होती दुर्घटनाएं या बीमारियों की वजह से मरते पशुओं के वजह से इन्हें तकलीफों का सामना करना पड़ता है। हाल ही में महाराष्ट्र के कई जिलों में एक विशेष बीमारी से लगातार भेडें मरती चली गई। मेंढपालपुत्र का आरोप है कि भरपाई के मामले में उनके साथ अन्याय किया गया है।