चोरी

0
77
Asan-Shikar
इलेस्ट्रेशन: मनीषा यादव

जब भी बहनें आतीं ससुराल से
वे दो चार दिनों तक सोती रहतीं
उलांकते हुए उनके कान में जोर की
कूंक मारते
एक बार तो लंगड़ी भी खेली हमने उन
पर
वे हमें मारने दौड़ीं
हम भागकर पिता से चिपक गए
नींद से भरी वे
फिर सो गईं वहीं पिता के पास…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here