गुड़ खाकर गुलगुले से परहेज | Tehelka Hindi

खुला मंच, दिग्गज दीर्घा A- A+

गुड़ खाकर गुलगुले से परहेज

आईपीएल में मैच फिक्सिंग और सट्टेबाजी के खुलासे के बाद से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष और आईपीएल टीम- चेन्नई सुपर किंग्स के मालिक एन श्रीनिवासन मीडिया से बहुत नाराज हैं. उन्हें लगता है कि मैच फिक्सिंग मामले में ‘मीडिया ट्रायल’ हो रहा है. उनकी नाराजगी की वजह किसी से छिपी नहीं है. श्रीनिवासन के दामाद और चेन्नई सुपर किंग्स के प्रिंसिपल (सीईओ) रहे गुरुनाथ मयप्पन सट्टेबाजी और मैच फिक्सिंग रैकेट में शामिल होने के आरोपों में पुलिस के हत्थे चढ़ चुके हैं. जाहिर है कि श्रीनिवासन पर इस्तीफा देने और बीसीसीआई पर चेन्नई सुपर किंग्स का लाइसेंस खत्म करने का दबाव बढ़ता जा रहा है.

लेकिन श्रीनिवासन को लगता है कि यह मांग सिर्फ मीडिया से आ रही है. उन्होंने एलान कर दिया है कि मीडिया उन्हें इस्तीफा देने के लिए मजबूर नहीं कर सकता. लेकिन वे भूल रहे हैं कि यही मीडिया है जिसने आईपीएल को आईपीएल बनाया है. न्यूज चैनलों और अखबारों ने शुरू से आईपीएल को जिस तरह हाथों-हाथ लिया, उसे जितनी कवरेज दी और सबसे बढ़कर उसकी चमक के पीछे के अंधेरे को अनदेखा किया, उससे आइपीएल को एक विश्वसनीयता मिली. यह मीडिया ही था जिसने आईपीएल को भारत के अपने पहले सफल लीग की तरह प्रचारित और प्रतिष्ठित किया.

इसलिए आइपीएल को मिले ‘मीडिया हाइप’ का मजा ले चुके श्रीनिवासन अब ‘मीडिया ट्रायल’ की शिकायत किस मुंह से कर रहे हैं? मीठा-मीठा गप और कड़वा-कड़वा थू, यह कैसे चलेगा? यह सही है कि जब से श्रीसंथ सहित तीन खिलाड़ियों और विंदू दारा सिंह और मयप्पन की ‘स्पॉट फिक्सिंग’ और सट्टेबाजी के आरोपों में गिरफ्तारी हुई है, मीडिया ने ऐसे आसमान सिर पर उठा रखा है जैसे उसे आईपीएल की चमक के पीछे छिपी बजबजाहट के बारे में आज पता चला है. सवाल यह है कि आज जो चैनल या अखबार आईपीएल की चीरफाड़ में जुटे हुए हैं वे कल तक उस गलाजत से आंखें क्यों मूंदे हुए थे.

Pages: 1 2 Single Page
Type Comments in Indian languages