किसानों के नाम पर मगरमच्छ के आँसू बहा रहे हैं राजनीतिक दल : राजू शेट्टी

महाराष्ट्र में किसानों के मुद्दों पर लडऩे वाले स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के राजू शेट्टी हमेशा की तरह मौसम की मार झेल रहे किसानों के साथ उनके सुख-दु:ख बाँटने निकले हैं। शेट्टी का दावा है कि पिछले 15-20 दिनों में लगभग 40 किसानों ने आत्महत्या कर ली है। वह कहते हैं कि भीतर से टूट चुके किसानों को सरकार की ओर से मोरल सपोर्ट की ज़रूरत है, जो नहीं मिल पा रही है। तहलका के मनमोहन सिंह नौला ने उनसे इस मुद्दे पर बातचीत की

0
912

आप कह रहे हैं कि किसानों को सरकार की तरफ से मोरल सपोर्ट नहीं मिल रही है। लेकिन लगभग सभी सियासी दल उनकी मदद के लिए उनसे मिलने जा रहे हैं?

सभी दलों का किसानों के प्रति प्रेम जाग उठा है; यह अच्छी बात है। लेकिन कितने दिनों तक?  4 दिन की चाँदनी फिर अँधेरी रात। किसानों के प्रति जितने भी राजनीतिक दलों का अचानक प्यार जाग उठा है यह मगरमच्छ के आँसू हैं।

इनको किसी से कुछ लेना-देना नहीं है; क्योंकि किसान तो पिछले 15 -20 दिनों से परेशान हैं। वे पहले अति बारिश से जूझ रहे थे, अब बेमौसम बारिश से; यानी 365 दिन परेशान। कभी किसी ने ध्यान नहीं दिया। लेकिन अब जब एकाएक सरकार नहीं बन रही है; जनता इनको गालियाँ दे रही है; तो सबके-सब किसानों के पीछे पड़ गए। उनको किसान अब याद आ रहा है, यह है सच्चाई।

दरअसल, सरकार नहीं बन रही है। इससे आम लोगों में बहुत ग़ुस्सा है। ख़ास करके महाराष्ट्र ग्रामीण क्षेत्र के जो किसान हैं, मादूर हैं, इस बारिश में उनका बहुत नुकसान हो चुका है। वेस्टर्न महाराष्ट्र, नॉर्थ महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, विदर्भ सभी क्षेत्रों में किसान तकरीबन बर्बाद हो चुका है। किसानों को एक मोरल सपोर्ट की ज़रूरत थी। वह सब कुछ सरकार दे सकती थी; लेकिन जब सरकार ही नहीं है, तो किसान किसकी तरफ देखेगा मदद के लिए?  महाराष्ट्र में एकदम विषम स्थिति आ चुकी है। दूसरी तरफ से सभी लोग सत्ता संघर्ष में व्यस्त हैं। यह कैसी विडंबना है। पछले 15-20 दिनों में 40 से अधिक किसानों ने आत्महत्या की है; क्योंकि किसानों को लग रहा है कि उनकी सहायता करने वाला कोई है ही नहीं; वे डेमोरलाइज हो चुके हैं। सबसे ज़्यादा मराठवाड़ा में वेस्टर्न महाराष्ट्र में आत्महत्या हुई है; विदर्भ में हुई है।

इतने गंभीर मसले पर आप भी तो आवाज़ नहीं उठा रहे हैं। आप लोग इस मामले को क्यों नहीं उठा रहे?

नहीं, नहीं; ऐसा नहीं है। हम इस इश्यू को लगातार उठा रहे हैं। लेकिन मीडिया का ध्यान िफलहाल इससे ज़्यादा इस पर लगा है कि सत्ता कौन बनाएगा? सत्ता का क्या खेल चल रहा है? किसानों की दुर्दशा पर तो अभी-अभी अटेंशन गया है। मैं मराठवाड़ा में दो-तीन परिवार से मिल चुका हूँ। हाल-िफलहाल में मैं उस्मानाबाद िज़ले के मराठवाड़ा में भी गया। उस्मानाबाद में तो नहीं, लेकिन लातूर में इस तरह का एक मामला हुआ है।

किसानों की मुख्य परेशानी क्या है?

सबसे बड़ी परेशानी है फसलों का नुकसान और सरकार का रवैया। किसानों का बुरी तरह से नुकसान हुआ है। धान, कपास, सोयाबीन, उड़द, मक्का, ग्राउंडनट सभी फसलें खराब हुई हैं। यह बर्बादी का आलम है।

सरकारी आँकड़ा कितना सच है फसलों के नुकसान को  लेकर?

सरकारी आँकड़ा कहता है कि 70 लाख हेक्टर का नुकसान हुआ है; लेकिन यह आँकड़ा उससे भी ज़्यादा है, तकरीबन 90 लाख हेक्टर। मेरे हिसाब से 80 प्रतिशत इलाका क्षतिग्रस्त है।

जिन किसानों से आप मिले हैं। उनकी क्या माँग है?

किसानों की माँग है कि उनको सीधे कज़ऱ् मुक्त कर दिया जाए। वह कहते हैं हम कर्ज़ा वापस नहीं कर सकते, क्योंकि सूखे की वजह से हम लगातार दो साल से नुकसान में हैं। इस साल बारिश से सब तबाह हो चुका है, तो हम कर्ज़ा तो वापस नहीं कर सकते हैं। जो प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना है, वह बेकार साबित हो चुकी है। किसानों को सीधे सरकार की तरफ से मुआवजा मिलना चाहिए यह किसानों की माँग है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना बेकार क्यों है?