कांग्रेस के बाद बीजेपी शासित राज्यों ने भी किया क़र्ज़ माफ़

0
481

मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के गठन होते ही वहां के मुख्यमंत्रियों ने किसानों के कर्ज माफ कर दिए।

इस कड़ी को आगे बढ़ाते हुए बीजेपी की सरकारें भी ग़रीबों की मदद के लिए आगे आई हैं।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलमनाथ और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जब किसानों के कर्ज माफ करने का एलान किया तो असम सरकार ने भी 600 करोड़ रुपये के कृषि कर्ज माफ करने को मंजूरी दे दी।

गुजरात की विजय रूपाणी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने भी ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले 6 लाख उपभोक्ताओं का 625 करोड़ रुपये का बकाया बिजली बिल माफ करने का ऐलान किया।

गुजरात के बिजली मंत्री सौरभ पटेल के अनुसार राज्य सरकार की योजना का लाभ उन लोगों को भी मिलेगा जिनके खिलाफ बिजली चोरी के मुकदमे दर्ज हैं और उनके बिजली कनेक्शन काट दिए गए हैं.

इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोग केवल 500 रुपये का भुगतान करके बिजली कनेक्शन वापस ले सकते हैं.

वहीं असम सरकार ने 600 करोड़ रुपये के कृषि कर्ज माफ करने का एलान किया है।

इससे राज्य में आठ लाख किसानों को लाभ होगा. असम सरकार के प्रवक्ता और संसदीय मामलों के मंत्री चंद्र मोहन पटवारी ने कहा कि योजना के तहत सरकार किसानों के 25 प्रतिशत तक कर्ज बट्टे खाते में डालेगी। इसकी अधिकतम सीमा 25,000 रुपये है।

यह कृषि कर्ज माफी उन सभी कर्ज पर लागू होंगे जो किसानों ने क्रेडिट कार्ड के जरिये तथा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों से लिये हैं. उन्होंने कहा कि सरकार ने ब्याज राहत योजना की भी मंजूरी दी है।