अरविंद केजरीवाल: नवाचार का नायक

0
135
अरविंद केजरीवाल
अरविंद केजरीवाल
अरविंद केजरीवाल. फोटो:विकास कुमार

अरविंद केजरीवाल के यह घोषणा करते ही कि जहां से शीला दीक्षित चुनाव लड़ेंगी वहीं से वे भी लड़ेंगे, लोग कहने लगे कि वे राजनीतिक आत्महत्या पर आमादा हैं. मीडिया और आम लोगों के साथ ही आम आदमी पार्टी से जुड़े लोग भी दबी जुबान में उनके इस निर्णय को किंतु-परंतु की नजर से ही देख रहे थे.  इसके स्वाभाविक कारण भी थे. वे 15 साल से दिल्ली में मुख्यमंत्री पद पर काबिज शीला दीक्षित से भिड़ने जा रहे थे जिनका राजनीतिक अनुभव कमोबेश केजरीवाल की उम्र के बराबर था. जब उनसे पूछा जाता कि क्यों वे शीला के खिलाफ लड़कर अपना राजनीतिक करियर शुरू होने से पहले ही खत्म करने पर आमादा हैं, तो उनका जवाब होता, ‘ मैं यहां करियर बनाने नहीं आया. मैं करियर छोड़कर आया हूं. मैं व्यवस्था परिवर्तन करने आया हूं ‘ इस जवाब में कुछ लोगों को घमंड, पाखंड और मूर्खता दिखती तो किसी को यह कोरा आदर्शवाद दिखता जिसका यथार्थ से कोई संबंध न था.

खैर, चुनाव हुआ. केजरीवाल शीला के खिलाफ लड़े और जीत गए. वह भी 25 हजार से ज्यादा मतों से. इस जीत ने देश के राजनीतिक इतिहास में एक नया सुनहरा अध्याय जोड़ दिया.

इस लिहाज से देखें तो हालिया चुनावों में सबसे आश्चर्यजनक और अनूठी जीत केजरीवाल की है. चुनाव में जाति, धर्म और ऐसे तमाम दूसरे समीकरणों की प्रधानता वाले वाले इस दौर में उन्होंने न सिर्फ आदर्शवाद को अपना हथियार बनाया, बल्कि इसके सहारे पहली बार में ही बड़े-बड़े दिग्गजों को पटखनी दे दी.   शीला के खिलाफ चुनाव लड़ने का फैसला अगर कुछ लोगों की नजरों में केजरीवाल का दुस्साहस था तो उन्होंने यह दुस्साहस कोई पहली पहली बार नहीं किया था. केजरीवाल के साथी और पार्टी के एक प्रमुख नेता गोपाल राय कहते हैं, ‘इस व्यक्ति के अंदर असंभव को आजमाने की जिद है.’ कुछ ऐसा ही उन्होंने तब किया था जब अपने गुरु अन्ना हजारे से अलग होते हुए उन्होंने राजनीति में उतरने का फैसला किया. अन्ना और किरण बेदी समेत टीम के कई सदस्यों के मना करने के बावजूद केजरीवाल ने चुनावी राजनीति में उतरने का फैसला किया. वे यह तय कर चुके थे कि अब आगे व्यवस्था परिवर्तन का रास्ता उन्हें चुनावी राजनीति के सहारे ही तय करना है. अन्ना की टीम टूट गई. किसी ने आंदोलन की राह पकड़ी तो कुछ केजरीवाल के फैसले पर अपनी सहमति देते हुए उनके साथ आ गए. तब कई लोग यह कहकर उनका मजाक उड़ाते भी नजर आए कि चार दिन का नशा है. राजनीतिक थपेड़ों से सामना होते ही उतर जाएगा या एनजीओ चलाने और राजनीति करने में बहुत अंतर है. फिर भी केजरीवाल डटे रहे. उनकी जिजीविषा, दृढ़ इच्छाशक्ति और दुस्साहसिक व्यक्तित्व ने लाखों की संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं-समर्थकों खासकर युवाओं की अपनी तरफ आकर्षित किया. उनके सामने एक ऐसा नेता था जो बड़े सपने देखने की न सिर्फ हिम्मत कर रहा था बल्कि उसे उनके सच होने का भी पूरी उम्मीद थी क्योंकि वह ईमानदारी से इसके लिए मेहनत कर रहा था. आखिर में उनके नेतृत्व में आप ने सफलता का परचम लहराया.

दिल्ली विधानसभा में आम आदमी पार्टी की ऐतिहासिक जीत कई मायनों में केजरीवाल की व्यक्तिगत जीत भी है. एक पार्टी जो चुनाव से कुछ महीने पहले ही अस्तित्व में आती है, चुनाव में उसकी तरफ से कुछ ऐसे लोग खड़े होते हैं जिनका अपना न तो कोई राजनैतिक इतिहास है और न ही जनाधार. लेकिन वे भारी मतों से जीतते हैं. पार्टी विधानसभा में 28 सीटें जीत जाती है. बाकी 20 सीटों पर वह दूसरे नंबर पर रहती है. चुनाव परिणामों का अगर विश्लेषण करें तो पाएंगे कि लोगों ने अधिकांश सीटों पर प्रत्याशी की जगह पार्टी को वोट दिया. ऑटो चालक राधेश्याम यादव मंगोलपुरी विधानसभा क्षेत्र में मतदाता हैं. वे कहते हैं, ‘ मुझे नहीं पता था राखी बिरला कौन हैं. मुझे बस यह पता था कि ये अरविंद केजरीवाल की पार्टी से हैं जिनका चुनाव चिन्ह झाड़ू है. बस ये देखकर मैंने उन्हें वोट दिया. उनकी जगह कोई दूसरा होता तो उसे देता.’ मुनीरका में रहने वाले धीरज वर्मा कहते हैं, ‘ कोई एक नेता ऐसा दिल्ली में नहीं था जिसकी तुलना केजरीवाल से की जा सके. . वह कुछ अच्छा करने निकला है इसलिए मैंने उसको वोट दिया.’यही स्थिति कमोबेश हर विधानसभा में रही है.  वरिष्ठ पत्रकार दिलीप पड़गांवकर कहते हैं, ‘ केजरीवाल की व्यक्तिगत ईमानदारी पर किसी को संदेह नहीं है. यही कारण है कि आज के समय में जब चारों तरफ भ्रष्टाचार का बोलबाला है और एक ईमानदार आदमी सिस्टम बदलने और देश को भ्रष्टाचार से मुक्त कराने की अपील करता है तो लोग उसकी बात सुनते हैं. उन्हें उसकी बातों पर भरोसा होता है.’ केजरीवाल की ईमानदारी पर उनके राजनीतिक विरोधियों को भी संदेह नहीं है. दिल्ली की पूर्व मेयर और भाजपा नेता आरती मेहरा कहती हैं, ‘केजरीवाल की ईमानदारी पर किसी को संदेह नहीं हो सकता. ये आदमी बोलता भी अच्छा है. समाज सेवा के क्षेत्र में अच्छा काम किया है. मैं खुद उसके पार्टी बनाने से पहले तक उसकी प्रशंसक रही हूं. दिल्ली के चुनाव ने उसे हीरो के रूप में स्थापित किया है.’

[box]

यूं होता तो क्या होता

अगर अन्ना ‘आप’ के साथ होते

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here