अफगानिस्तान में अब अमेरिका का फोकस अपने नागरिकों को बाहर निकालना

अफगानिस्तान में तालिबान का वर्चस्व दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। अगले एक महीने में उसके काबुल पर भी कब्जा करने की उम्मीद है। इस बीच, अमेरिका की जो बाइडन सरकार भी मान रही है कि एक महीने के भीतर काबुल पर भी तालिबान का कब्जा हो जाएगा और अफगान सरकार गिर जाएगी। ऐसे में अमेरिका ने अफगानिस्तान में मौजूद अपने नागरिकों को निकालने की पूरी तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए उसने अपने 3 हजार सैनिकों को वापस अफगानिस्तान भेज रहा है, ताकि वहां से अपने नागरिकों को सुरक्षित निकाल सके। उसे वहां के नागरिकों और सरकार में लगता है अब कोई दिलचस्पी नहीं है। अमेरिका ने स्पष्ट किया है कि सैनिक लंबे वक्त के लिए नहीं भेजे जा रहे हैं, ये सिर्फ अस्थायी मिशन है।

बता दें कि अमेरिका ने 3500 सैनिक कुवैत में अमेरिकी बेस पर भी तैनात कर रखे हैं। ये सैनिक जरूरत पड़ने पर अफगानिस्तान सरकार की मदद को पहुंच सकते हैं। इसके अलावा एक हजार सैनिक कतर में भी तैनात हैं। ये उन अफगानियों की मदद कर रहे हैं, जो स्पेशल वीजा पर अमेरिका में बसना चाहते हैं। अफगानिस्तान में तालिबान अब तक 34 में से 12 प्रांतों पर कब्जा कर चुका है।