अगस्ता मामले में भी दागदार निकला चौकीदार : कांग्रेस

कांग्रेस का पलटवार, कहा मोदी सरकार का असली साथी बन गया ईडी

0
919

अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर  का मामला गर्मा गया है। ईडी के कोर्ट में इस दावे कि इस मामले में गिरफ्तार कथित विचौलिये क्रिश्चियन मिशेल ने पूछताछ के दौरान कथित तौर पर ”मिसेज गांधी” का जिक्र किया  है, कांग्रेस ने रविवार को सीधे पीएम मोदी पर हमला बोला।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सूरजेवाला ने एक प्रेस कांफ्रेंस करके ईडी को ”एम्बेरेसिंग डिसास्टर” की संज्ञा देते हुए कहा – ”राफेल के बाद अगस्ता मामले में भी दागदार निकला चौकीदार।” सूरजेवाला ने प्रवर्तन निदेशालय को निशाने पर लेते हुए कहा – ”अगस्ता वेस्टलैंड मामले में मोदी सरकार का असली साथी ईडी बन गया है।”

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने भी पीएम मोदी पर सीधा हमला करते हुए ईडी की ”इटली की महिला के बेटे” वाली टिप्पणी पर कहा – ”यह चौंकाने वाला है। सरकारी वकील जो कोर्ट में ईडी और सीबीआई दोनों का प्रतिनिधित्व कर रहा है, वह कोर्ट में राजनीति कर सकता है। वह ऐसा इसलिए कर रहे हैं क्योंकि उन्हें प्रधानमंत्री की तरफ से ऐसा निर्देश मिला है। अब हमें किसी भी जांच एजेंसी पर विश्वास नहीं रहा है।”

गौरतलब है कि ईडी ने दावा किया है कि अगस्ता वेस्टलैंड को भेजे पत्र में मिशेल ने कहा था कि ”इटली की महिला का बेटा एक बड़ा आदमी ‘आर’ अगला प्रधानमंत्री बनने वाला है”। हालांकि ईडी यह नहीं बता पाया है कि मिशेल ने इन लोगों के नाम किस सिलसिले में लिए और यह दोनों कौन हैं। इन संक्षिप्त नामों को भाजपा सोनिया और राहुल गांधी से जोड़ रही है।

उधर सुरजेवाला ने रविवार को अगस्ता मामले पर कांग्रेस का पक्ष रखते हुए  कहा – ”यूपीए की सरकार ने इस कंपनी को ब्लैक लिस्ट किया था। लेकिन  मोदी सरकार ने अगस्ता वेस्टलैंड को मेक इन इंडिया का हिस्सेदार बना डाला और नौसेना के लिए १०० हेलीकॉप्टर खरीदने की इजाजत दे दी।”

सुरजेवाला ने कहा कि ”मोदी सरकार चोर दरवाजे से झूठ का जाल बुन रही है।” उन्होंने कहा कि २०१२ में १२ हेलीकॉप्टर खरीदने का ठेका अगस्ता वेस्टलैंड को ३५४६ करोड़ रुपये में दिया गया जिसे पहली जनवरी, २०१४ में यूपीए सरकार ने रद्द कर दिया। ”इसके बाद यूपीए सरकार ने २३ मई २०१४ को अगस्ता वेस्टलैंड की संपत्ति को जब्त कर लिया।” कांग्रेस प्रवक्ता ने दावा किया कि ”कांग्रेस की सरकार ने खजाने को नुकसान पहुंचाने के बजाय दोगुना पैसा जमा कर दिया।”

सुरजेवाला ने कहा कि यूपीए ने जांच शुरू की और डील रद्द कर दी। ”लेकिन मोदी सरकार ने आते ही इस कंपनी को छूट दे दी। २२ अगस्त, २०१४ को भाजपा सरकार ने अगस्ता वेस्टलैंड की ब्लैक लिस्टिंग खत्म कर दी और ८  अक्टूबर, २०१५ को मोदी सरकार ने कंपनी को एडब्लू११९ हेलीकॉप्टर बनाने की मंजूरी दे दी।” सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि अगस्ता वेस्टलैंड अपनी भागीदारी को छिपाने के लिए मिशेल का इस्तेमाल कर रही है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने साथ ही मोदी सरकार से कुछ सवाल पूछे हैं। सुरजेवाला ने कहा – हम देश के चौकीदार से छह सवाल पूछना चाहते हैं। अगस्ता वेस्टलैंड पर ब्लैक लिस्टिंग क्यों हटाई गई, अगस्ता वेस्टलैंड को मेक इन इंडिया में हिस्सेदार क्यों बनाया गया, एफआईपीबी ने ११९ हेलीकॉप्टर बनाने की इजाजत क्यों दी, २०१७ में नेवी के लिए १०० हेलीकाप्टर निविदाओं में आवेदन करने की इजाजत क्यों दी गई, इंटरनेशनल कोर्ट में केस क्यों हार गए और हारने के बाद ऊपरी अदालत में अपील क्यों नहीं की, खुद का झूठ छिपाने के लिए मिशेल का इस्तेमाल क्यों किया जा रहा है।”

कांग्रेस के अगस्ता मामले में मोदी और भाजपा पर जवाबी हमले से यह मामला और गरमाने की सम्भावना है। कांग्रेस राफेल मसले पर पहले ही  मोदी पर आरोप लगा रही है।