चिंताकारी चाय | Tehelka Hindi

राष्ट्रीय A- A+

चिंताकारी चाय

चाय में घुली चीनी की मिठास साफ महसूस होती है. लेकिन इसमें डीडीटी जैसे जहर की कड़वाहट भी घुली हो सकती है जो महसूस नहीं होती
अतुल चौरसिया 2014-09-15 , Issue 17 Volume 6

DSC_4658एक चाय, हजार अफसाने. कुछ ऐसी ही स्थिति है इस देश में चाय की. शायद ही कोई हो जिसके पास सियासत से लेकर अड्डेबाजी तक तमाम चीजों का जरिया बन चुकी चाय से जुड़ी एकाध दिलचस्प कहानी न हो. अब तो देश के प्रधानमंत्री भी ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने कभी चाय बेचकर जीवन-यापन किया था. लेकिन हो सकता है कि जो चाय आप पी रहे हैं उसमें चीनी की मिठास के साथ खतरनाक जहर भी घुला हो. पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाली चर्चित गैर सरकारी संस्था ग्रीनपीस द्वारा हाल में किए गए एक व्यापक सर्वेक्षण के नतीजे कुछ ऐसा ही कह रहे हैं. अगस्त के पहले पखवाड़े जारी हुई इस सर्वेक्षण रिपोर्ट की मानें तो देश की तमाम छोटी-बड़ी चाय उत्पादक कंपनियां अपने चाय बागानों में भारी मात्रा में कीटनाशकों का उपयोग कर रही हैं. गौरतलब है कि कुछ साल पहले आए एक दूसरे और चर्चित सर्वेक्षण में पाया गया था कि देश की तमाम कोला कंपनियां अपने पेय में कीटनाशकों का उपयोग कर रही हैं. देश में चाय पीनेवाली आबादी का आंकड़ा कोला कंपनियों के उत्पाद इस्तेमाल करन ेवाले लोगों की संख्या से कहीं बड़ा माना जाता है. इस लिहाज से ग्रीनपीस की यह हालिया रिपोर्ट चिंताजनक है. साफ है कि देश के औद्योगिक वर्ग का एक बड़ा हिस्सा यह परवाह किए बगैर उत्पादन प्रक्रिया में धड़ल्ले से कीटनाशकों का उपयोग कर रहा है कि इसका सीधा दुष्प्रभाव लोगों की सेहत पर पड़ सकता है.

चाय उत्पादन में भारत दुनिया में दूसरे पायदान पर है. अगर हम निर्यात के नजरिए से देखें तो भारत दुनिया का चौथा सबसे बड़ा चाय निर्यातक है. चाय राज्य तथा केंद्र सरकार की आय का एक बड़ा जरिया भी है. साल 2011-12 में भारत सरकार ने चाय के निर्यात से लगभग साढ़े तीन हजार करोड़ रुपए कमाए. अलग-अलग रिपोर्टों के मुताबिक भारत की चाय कंपनियां दस लाख से अधिक लोगों के रोजगार का जरिया हैं. लेकिन ग्रीनपीस की रिपोर्ट बता रही है कि चाय कंपनियों का चेहरा आंकड़ों में जितना गुलाबी दिखता है हकीकत में उतना है नहीं. इसके कुछ स्याह पहलू भी हैं.

भारत में जितनी चाय पैदा होती है उसका 80 फीसदी हिस्सा देश के भीतर ही इस्तेमाल होता है. यदि ग्रीनपीस की मानंे तो एक आंकड़ा यह भी है कि देश में उपलब्ध चाय के अधिकतर ब्रांडों में कोई न कोई कीटनाशक मौजूद है. कह सकते हैं कि जो चाय देश का राष्ट्रीय पेय होने की हैसियत रखती है वह एक बड़ी आबादी की सेहत के लिए खतरा भी बन सकती है.

ग्रीनपीस ने साल 2013 से 2014 के बीच देश के अलग-अलग हिस्सों से अलग-अलग ब्रांडों के कुल 49 चाय नमूने इकट्ठा कर उनका परीक्षण करवाया. इस परीक्षण में देश के शीर्ष आठ चाय ब्रांड शामिल थे. गौरतलब है कि इन आठों ब्रांडों का ही देश के चाय बाजार के करीब 65 फीसदी हिस्से पर कब्जा है. इनमें सबसे ऊपर हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड और टाटा ग्लोबल बेवरिजेस लिमिटेड का नाम है जिनकी भारतीय चाय बाजार में 50 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी है. इनके अलावा इस सर्वेक्षण में वाघ-बकरी टी, गुडरिक टी, ट्विनिंग्स, गोल्डेन टिप्स, खो-चा और गिरनार कंपनियों के उत्पाद शामिल थे.

ग्रीनपीस की जांच के नतीजे जितना चौंकाते हैं उतना ही चिंता में भी डालते हैं. 49 नमूनों में सिर्फ तीन सुरक्षित पाए गए यानी इनमें कोई भी कीटनाशक नहीं मिला. बाकी बचे 46 नमूनों में किसी न किसी प्रकार के कीटनाशक मौजूद थे. इन नमूनों में जांचकर्ताओं ने कुल 34 किस्म के कीटनाशक पाए. इस आंकड़े के हिसाब से मौजूदा समय में भारतीय बाजार में उपलब्ध लगभग 94 फीसदी चाय ब्रांडों में कोई न कोई कीटनाशक मौजूद है. 46 प्रदूषित नमूनों में से 29 ऐसे थे जिनमें एक साथ 10 से ज्यादा किस्म के कीटनाशक मौजूद थे. एक नमूना तो ऐसा भी था जिसमें कुल 20 किस्म के कीटनाशक एक साथ इस्तेमाल हुए थे.

ये आंकड़े हमें क्या बताते हैं? इनके सहारे अगर हम भारतीय चाय उत्पादक कंपनियों और सरकारी मशीनरी की कार्यप्रणाली समझने की कोशिश करें तो कंपनियों के लिहाज से हम इस निष्कर्ष पर पहुंच सकते हैं कि वे मुनाफे की नीयत से इस तरह के हानिकारक तत्वों का इस्तेमाल करती होंगी. लेकिन सरकारी मशीनरी के स्तर पर समस्या कहीं ज्यादा बड़ी है.

नमूनों में पाए गए कुल 34 कीटनाशकों में से बड़ी संख्या ऐसे कीटनाशकों की है जिनका चाय के उत्पादन में कहीं कोई योगदान ही नहीं है. कम से कम ये कीटनाशक भारतीय कृषि से जुड़े किसी भी नियम कानून में चाय उत्पादन के लिए आवश्यक नहीं बताए गए हैं. यानी इनके इस्तेमाल के बिना भी चाय का उत्पादन हो सकता है. दुनिया के दूसरे हिस्सों में जहां सुरक्षा मानक कड़े हैं वहां चाय उत्पादक कंपनियां ऐसा कर भी रही हैं. लेकिन भारत में ऐसा नहीं है. गैर जरूरी होने के बावजूद चाय कंपनियां धड़ल्ले से इन कीटनाशकों का इस्तेमाल चाय बागानों में करती आ रही हैं. ऐसे कीटनाशकों की संख्या 23 है. सवाल खड़ा होता है कि जब इनके इस्तेमाल की अनुमति या आवश्यकता ही नहीं है तब भी इनका उपयोग ये कंपनियां क्यों कर रही हंै. ग्रीनपीस से जुड़ीं नेहा सहगल कहती हैं, ‘रेगुलेशन (नियमन) के स्तर पर बड़ी समस्या है. अवैध और प्रतिबंधित कीटनाशकों के इस्तेमाल पर टी बोर्ड ऑफ इंडिया ने कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया है. उनका सिर्फ इतना कहना है कि हमारी चाय भारतीय मानकों के अनुरूप है जबकि सच्चाई यह है कि हमारे अधिकतर नमूनों में प्रतिबंधित कीटनाशक मिले हैं.’

img

यह एक बड़ी समस्या की तरफ इशारा है. देश में कीटनाशकों के निर्माण और उनकी उपलब्धता में इतना झोल है कि इस दिशा में सरकारी स्तर पर आज तक प्रभावी नियंत्रण स्थापित ही नहीं हो सका है. हालत यह है कि लोग आत्महत्या तक करने के लिए सल्फास जैसे जहरीले कीटनाशक आसानी से दुकानों से खरीद लाते हैं. इस विषय में टी बोर्ड ऑफ इंडिया से बात करने की तहलका की कोशिश नाकाम रही. बोर्ड के चेयरमैन सिद्धार्थ और मीडिया प्रमुख को ईमेल द्वारा भेजे गए प्रश्नों का भी खबर लिखे जाने तक कोई जवाब नहीं मिला. ग्रीनपीस से ही जुड़े जीतेंद्र कुमार बताते हैं, ‘टी बोर्ड ऑफ इंडिया ने पहले ही दिन पूरी रिपोर्ट को खारिज कर दिया था.’

Pages: 1 2 Single Page

(Published in Tehelkahindi Magazine, Volume 6 Issue 17, Dated 15 September 2014)

Type Comments in Indian languages