Volume 7 Issue 14 Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi

Post Tagged with: "Volume 7 Issue 14"

क्राउड फंडिंग : काम का नया  फंडा

‘चंदा’ या कहें ‘क्राउड फंडिंग’ अब कोई नया शब्द नहीं रह गया है. देश में इसकी परंपरा काफी पुरानी है. हिंदू धर्म में सत्संग, दुर्गा पूजा जैसे कार्यक्रमों के सफल आयोजन का आधार चंदा ही रहा है. इसके अलावा दूसरे धर्मों में भी चंदा मांगकर सार्वजनिक कार्य पूरे किए जाते  

चलो चलें, धनियाझोर की ओर…

बाल मृत्य दर के मामले पर खूब बहस चल रही है. गांव और आदिवासी संकट में बताए जाते हैं. इसी बहस के बीच हम (मौजूदा मानकों के हिसाब से अविकसित) वनग्राम धनियाझोर पहुंच गए. यहां 11 जुलाई 2009 को जगोतीन  और सुकलाल के बेटे महेंद्र की असमय मौत हो गई  

भुरभुरी दिल्ली में सब रामभरोसे चल रहा है

दिल्ली जिस जगह बसी है, वह भूकंप के लिहाज से कोई सुरक्षित जगह नहीं कही जाएगी. जिस पैमाने पर भूकंप की तीव्रता नापी जाती है, वह हमारा बनाया हुआ है. यह सही है कि पैमाना बहुत मेहनत से बनाया गया है लेकिन यह कोई जरूरी नहीं है कि प्रकृति ने वह पैमाना पढ़ रखा हो. प्रकृति को जिस दिन लगेगा वह उस दिन उससे कम या ज्यादा का नमूना दिखा सकती है  

तबाही का इंतजार करती दिल्ली

धरती हर पल बदलावों की ओर बढ़ रही है और इंसान खतरों की ओर. दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की एक रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी को भूकंप का एक बड़ा झटका लग सकता है और इससे होने वाला नुकसान परमाणु हमले से भी कई गुना ज्यादा होगा  

हुर्रियत: प्रासंगिकता पर प्रश्न

पिछले साल जम्मू कश्मीर के विधानसभा चुनावों में भाजपा को मिली अप्रत्याशित जीत के बाद से घाटी में अलगाववादियों के हौसले पस्त हैं. हर बार की तरह इस बार भी हुर्रियत ने चुनाव का बहिष्कार करने का फरमान सुनाया था. हालांकि चुनाव के बाद बदले राजनीतिक परिदृश्य में इस बात की अटकलें तेज हैं कि अलगाववादी चुनाव में हिस्सा लेने के मुद्दे पर अब सोचने को विवश हो रहे हैं, जो उनकी प्रकृति और रणनीति दोनों के खिलाफ है....  

‘मुझे माओवादी आंदोलन के शहरी चेहरे के रूप में पेश करना एक बड़े षडयंत्र का हिस्सा है’

लगभग 90 प्रतिशत विकलांग साईबाबा को नागपुर जेल के बदनाम ‘अंडा सेल’ में रखा गया. इस दौरान उचित देखभाल और स्वास्थ्य सेवाओं के बिना साईबाबा की तबीयत कई बार बिगड़ी. साईबाबा ने अपनी गिरफ्तारी और पुलिस प्रताड़ना के बारे में दीप्ति श्रीराम से बात की  

मध्ययुगीनप्रदेश

एक रिपोर्ट के अनुसार देश के 27 प्रतिशत लोग किसी न किसी रूप में छुआछूत को मानते हैं. 53 प्रतिशत के साथ मध्य प्रदेश इस श्रेणी में देश में पहले नंबर पर है. हाल ही में हुईं कुछ घटनाएं इस बात की गवाही दे रही हैं  

नीतीश-लालू को झटका, पर भाजपा की बल्ले-बल्ले नहीं

बिहार विधान परिषद चुनाव में जो परिणाम आए हैं, क्या वे आगामी विधानसभा चुनाव को प्रभावित कर पाएंगे?