Eye Donation Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi

Post Tagged with: "Eye Donation"

Uncategorized
नेत्रदान तो दूर, लोग रक्तदान से पहले भी लाख बार सोचेंगे…

2009 में जब नीरज अग्रवाल की दादी का निधन हुआ तब वे 85 वर्ष की थीं. नीरज ग्वालियर शहर में ही एक मेडिकल स्टोर के संचालक हैं, लिहाजा वह मरीजों का दर्द समझते हैं. जब उनकी दादी का निधन हुआ तो उन्होंने परिवार में सबकी मर्जी के खिलाफ जाकर उनकी  

Uncategorized
अगर आप शरीर दान करने जा रहे हैं तो छुट्टी के दिन मरना मना है…

‘आंखें कचरे में फेंक दीं. इसमें कौन-सी चौंकाने वाली बात है? आप नेत्रदान की बात कर रहे हैं, जीआरएमसी में देहदान की भी कोई कद्र नहीं.’ ऐसा बोलते हुए अनिल शर्मा के चेहरे पर एक दर्दभरी मुस्कान उभर आती है. ग्वालियर के गोविंदपुरी इलाके के निवासी अनिल शर्मा के पिता  

मुझे चार माह का गर्भ था, जब मेरे पति का देहांत हुआ, उनकी आखिरी इच्छा थी नेत्रदान

‘उनकी मौत एक सड़क दुर्घटना में हुई थी. वे हमेशा ही नेत्रदान करने के लिए कहा करते थे. उनका मानना था कि अगर माैत के बाद हम अपनी आंखों से किसी और की दुनिया रोशन कर सकें तो भला इससे अच्छा और क्या होगा? वे मां-बाबूजी का भी नेत्रदान का  

Uncategorized
मैंने मां की आंखें दान की थीं  लेकिन लिस्ट में हमारा नाम नहीं

‘हमारे भांजे को एनीमिया हुआ था. उसे हर हफ्ते-दस दिन में खून की जरूरत पड़ती थी. उस समय ऐसे-ऐसे लोगों ने हमें खून दान में दिया था जिसकी कभी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी. बस उसी समय माताजी ने मन बना लिया था कि उन्हें भी ऐसा कुछ  

दान की  आंखें  कूड़ेदान में

मध्य प्रदेश के ग्वालियर स्थित सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में दान में मिली आंखों के कूड़ेदान में मिलने से प्रबंधन सवालों के घेरे में है