कर्ज में झारखंड, बढ़ता विधायक फंड | Tehelka Hindi

झारखंड A- A+

कर्ज में झारखंड, बढ़ता विधायक फंड

झारखंड में विधायक फंड और विधायकों के वेतन-भत्ते आदि में लगातार वृद्धि हो रही हैं. इस राज्य के बनने के बाद से विधायकों के वेतन में नौ बार और विधायक फंड में आठ गुना तक की बढ़ोतरी की जा चुकी है. यह सब तब हो रहा है जब राज्य पर 45 हजार करोड़ रुपये का कर्ज चढ़ा हुआ है. इतना ही नहीं, राज्य बनने के बाद 600 करोड़ रुपये के विधायक फंड का हिसाब-किताब भी मिलना अभी बाकी हैं; वहीं विधायकों की मांग फंड पांच करोड़ रुपये करने की है

निराला April 6, 2016, Issue 5 Volume 8
raghuwar-das-(4)

Photo : Amit Das

बात फरवरी महीने की है. झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास एक आयोजन में मुंबई गए थे. उस आयोजन में प्रधानमंत्री मोदी भी शिरकत कर रहे थे. कार्यक्रम में उन्होंने रघुबर दास का परिचय कराया, ‘ये हैं हमारे सबसे अमीर राज्य के मुख्यमंत्री.’ इस पर रघुबर दास फूले नहीं समाए. कुछ ही देर में यह बात सोशल मीडिया से होकर मुंबई से झारखंड पहुंच गई. भाजपा के नेता भी गर्व-गौरव के साथ बताने लगे कि देखा, प्रधानमंत्री ने कैसे हमारे मुख्यमंत्री की प्रशंसा की. इस बात पर झारखंड में पार्टी-शार्टी जैसा माहौल तैयार हो गया.

झारखंड सबसे अमीर राज्य है कि नित नए संकटों में फंसता हुआ राज्य यह बहस का विषय है. वैसे प्रधानमंत्री ने जब रघुबर सरकार को सबसे अमीर राज्य का मुख्यमंत्री बताया तब शायद मोदी को यह मालूम नहीं था कि वे उस राज्य के मुख्यमंत्री की तारीफ कर रहे हैं जो 45 हजार करोड़ रुपये के कर्ज में फंसा हुआ है. तमाम संपदाओं और संभावनाओं के बावजूद एक ऐसा राज्य जहां पैदा होते ही बच्चे के सिर पर बिना कर्ज लिए तकरीबन 1400 रुपये का कर्ज चढ़ जाता है. खैर, प्रधानमंत्री इस बात को जानते हैं या नहीं यह तो नहीं मालूम लेकिन रघुबर दास को शायद प्रधानमंत्री का यह अंदाज पसंद आया. सबसे अमीर राज्य का मुख्यमंत्री कहलाना पसंद आया और उन्होंने इस बात को गुरुमंत्र मान तुरंत इसे साबित करने की भी कोशिश की.

मुंबई से लौटे तो झारखंड में बजट पेश करने का समय आया. 19 फरवरी को बजट पेश हुआ. बजट में घोषणाओं की झड़ी लगी और तमाम घोषणाओं के बीच एक और विचित्र घोषणा हुई. विधायकों के फंड से लेकर वेतन-सुविधा आदि बढ़ाने की घोषणा. सदन में तालियां बजीं. कुछ लोगों ने कहा कि लीजिए, रघुबर दास ने इसे साबित किया कि झारखंड देश में वाकई सबसे अमीर राज्य है और वे उस अमीर राज्य के मुख्यमंत्री हैं.

झारखंड में विधायक फंड और विधायकों के वेतन आदि का एक बार फिर से बढ़ना आश्चर्यजनक था. इस पर वाद-विवाद की गुंजाइश थी. बहस होने की उम्मीद की जा रही थी लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. तालियां बजीं, प्रस्ताव पारित हुआ. झारखंड में विधायक फंड को तीन करोड़ से चार करोड़ रुपये कर दिया गया है. विधायक फंड में हुई इस बढ़ोतरी के बाद झारखंड विधायक फंड के मामले में दिल्ली को भी पछाड़कर देश का अव्वल राज्य बन गया है.

Pages: 1 2 Single Page

(Published in Tehelkahindi Magazine, Volume 8 Issue 5, Dated April 6, 2016)

Comments are closed