उम्मीद की डोर पर जिंदगी ‘कठपुतली’ | Tehelka Hindi

समाज और संस्कृति A- A+

उम्मीद की डोर पर जिंदगी ‘कठपुतली’

कभी कठपुतलियों के खेल को अंतर्राष्ट्रीय स्तर तक ले जाने वाला भाट समुदाय अब इस कला का अस्तित्व बचाए रखने के लिए काफी जद्दोजहद कर रहा है

अमित भारद्वाज 2016-02-29 , Issue 4 Volume 8
DSC5297

जयपुर के प्रकाश भाट विपरीत परिस्थितियों में भी कठपुतली की कला जिन्दा रखने की जुगत में लगे हैं.
सभी फोटो- सुनील यादव

ओ लड़ी लूमा रे लूमा, ओ लड़ी लूमा रे लूमा, लूमा झूमा लूमा झूमा, म्हारो गोरबंद नखरालो.

किसी सांस्कृतिक मेले में इस तरह के राजस्थानी लोकगीत पर नाचती कठपुतलियां बरबस ही ध्यान खींच लेती हैं, पर मनोरंजन के साथ शिक्षा का माध्यम रहा कठपुतली का खेल आज अपनी पहचान बचाए रखने की जद्दोजहद कर रहा है. कठपुतली बनाने वाले कलाकार बमुश्किल ही अपनी रोजी कमा पा रहे हैं. जयपुर विधानसभा से मुश्किल से 500 मीटर दूर कठपुतली कॉलोनी की टेढ़ी-मेढ़ी गलियों में ऐसी ही कई जिंदगियां अपने और इस खेल के अस्तित्व को बचाए रखने के लिए संघर्षरत हैं.

मूलतः राजस्थान के नागौर जिले से आने वाले भाट समुदाय को परंपरागत भारतीय कठपुतली का जनक माना जाता है. ऐसा कहा जाता है कि यही लोग कठपुतलियों को पश्चिम बंगाल और देश के दूसरे हिस्सों तक लेकर गए थे. छह महीनों तक शहरों और गांवों में घूम-घूमकर ये लोग राधा-कृष्ण की प्रेम गाथा या शाहजहां के समय के राजा अमर सिंह राठौड़ की कहानियां आमजन तक पहुंचाते थे. पर आज इस कला की स्थिति का पता जयपुर के रहने वाले एक ऑटोरिक्शा चालक से बात करने पर चलता है, जब वो बताते हैं, ‘मुझे याद नहीं आता कि मैंने कभी जयपुर में कठपुतली का कोई खेल देखा हो. पिछले दस सालों में तो नहीं! मैंने बचपन में ही इसे देखा था. हां, अगर आप किस्मत वाले हुए तो हो सकता है कि किसी गांव के मेले में ये आपको दिख जाएं.’

लगभग दो हजार सालों से भाट समुदाय को ही कठपुतलियों की इस कला का संरक्षक माना जाता है, पर अब स्थितियां बदल रही हैं. कठपुतलियां आसानी से बात करती, नाचती-गाती नहीं दिखेंगी. वह ऑटो ड्राइवर बताते हैं कि कठपुतली का खेल देखना है तो हवामहल जाइए या किसी महंगे होटल में. वे लोग ही विदेशी पर्यटकों के मनोरंजन के लिए ऐसी व्यवस्था रखते हैं.

मनोरंजन के साथ शिक्षा का माध्यम रहा कठपुतली का खेल आज अपनी पहचान बचाए रखने की जद्दोजहद कर रहा है. कठपुतली बनाने वाले कलाकार इन दिनों बमुश्किल ही अपनी रोजी कमा पा रहे हैं

कठपुतली कॉलोनी की इन गलियों के जीर्ण होते मकानों में भाट समुदाय के कई अंतर्राष्ट्रीय कलाकार रहते हैं, जिनके पास अब अपने अतीत की सुनहरी यादों के अलावा कुछ बाकी नहीं है. अपने दोमंजिला मकान में 35 वर्षीय प्रकाश भाट अपने सर्टिफिकेट, तस्वीरों और कठपुतलियों का संग्रह दिखाते हुए गर्व से बताते हैं, ‘ये सब अवाॅर्ड मुझे विदेशों में मिले थे, जब मैं वहां प्रदर्शन करने गया था. मैं अब तक 20-25 देशों में जा चुका हूं.’ फिर वे अपना बिजनेस कार्ड दिखाते हैं, जिस पर फ्रेंच भाषा में ‘अनारकली कंपनी’ लिखा हुआ है. ये प्रकाश की कंपनी का नाम है. प्रकाश 2008 से विदेशी ग्राहकों के लिए लगातार फ्रांस जाते रहे हैं. इसी कारण उन्होंने अपनी कंपनी का नाम फ्रेंच में रखा. ‘मैं कभी-कभार ही जा पाता था, पर एक बार जाने के लिए ही मुझे एक लाख रुपये मिल जाते थे,’ प्रकाश बताते हैं. ऐसी विदेश यात्राओं के बावजूद, उनके लिए अपने घर के एक कमरे में कठपुतली कला पर वर्कशॉप चलाना मुश्किल भरा है. उनके घर में न तो पानी की अच्छी व्यवस्था है और न ही शौचालय है.

कभी आम जनता के बीच सड़कों पर होने वाला ये खेल अब जयपुर के आलीशान होटलों तक ही सीमित हो गया है. हालांकि, कलाकारों का मानना है कि अब भी अवसरों की कमी नहीं है, पर कुछ वजहों से इनकी कमाई मुश्किल भरी हो गई है. 70 साल के छोटमल बताते हैं, ‘हमारे प्रदर्शनों के लिए आने वाले फंड को वसूलने के लिए एनजीओ और सरकार साथ में आ जाते हैं.’ अपने जमाने में छोटमल कुवैत में भी अपनी कला का प्रदर्शन कर चुके हैं. अपनी प्रसिद्धि के दिनों को याद करते हुए वे बताते हैं, ‘मैं उस समय एक दिन में 1500 रुपये तक कमाता था. तब लोग हमें इज्जत से देखा करते थे पर आज ऐसा नहीं है. ये बच्चे, जो आज ये काम कर रहे हैं, उन्हें उस समय का अंदाजा तक नहीं है, जब हम ये काम किया करते थे.’ एक अंतर्राष्ट्रीय कलाकार होने के बावजूद छोटमल रिटायर हो जाने के बाद भी काम कर रहे हैं. वे कहते हैं, ‘पेट पालने के लिए कुछ तो करना होता है.’ छोटमल के घर में उनके साथ भतीजे सुनील भाट भी रहते हैं. अपने चाचा की तरह सुनील भी इस कला के प्रदर्शन के लिए 20 से ज्यादा देशों में जा चुके हैं.

इनसे एक घर दूर दो कमरे के एक मकान में 45 साल के बबलू भाट, अपनी पत्नी, पांच बेटियों, दो बेटों और अपने भाई के परिवार के साथ रहते हैं. राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और वर्तमान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के साथ अपनी तस्वीरें दिखाते हुए बबलू बताते हैं, ‘परिवार नियोजन या पोलियो उन्मूलन अभियान जैसी कई सरकारी योजनाओं के प्रचार के लिए राजस्थान सरकार कठपुतलियों की ही मदद लेती है, इसीलिए कठपुतली बच्चे-बड़ों सभी में लोकप्रिय है. हालांकि, इन योजनाओं के लिए मिला धन वही एनजीओ रख लेते हैं, जिन्हें इसका कॉन्ट्रैक्ट मिलता है. कठपुतली के खेल के लिए कलाकारों को बुलाने की बजाय ये एनजीओ बस कठपुतलियां खरीदकर खानापूर्ति करते हैं.’

पैसे कमाने की ऐसी जद्दोजहद के इतर कर्ज भी इस कॉलोनी के रहवासियों की एक समस्या है. इस कर्ज की राशि दस हजार से लाख रुपये तक है. प्रकाश एक घर की ओर इशारा करते हुए बताते हैं, ‘ये घर एक कठपुतली कलाकार का था, जो कर्ज न चुका पाने की वजह से घर छोड़कर भाग गया. अब जिससे उसने उधार लिया था, उस आदमी ने इस मकान पर कब्जा कर लिया और अब इसका मालिक कोई और ही है.’ अब इस घर में तीसेक साल की एक महिला रहती हैं. वह कठपुतली के लकड़ी के सिर से जुड़ने वाले कपड़े सिलती हैं. वह बताती हैं, ‘मुझे भी कर्ज चुकाना है. दिन भर में हम 10-12 कठपुतलियां बनाते हैं. इससे जो भी पैसा मिलता है वो कर्ज की किस्तें भरने में चला जाता है.’

गली के बच्चों को गुस्से से झिड़कते हुए बुजुर्ग रामपाल की उम्र लगभग 72 साल है. उनकी कहानी भी कर्ज के दलदल से जुड़ी है. कभी एक प्रसिद्ध कठपुतली कलाकार रहे रामपाल आज सड़क पर आ चुके हैं. वे अब फुटपाथ पर ‘काछी घोड़ी’ (घोड़े की कठपुतली) बनाते हैं. वे बताते हैं, ‘कुछ साल पहले बीबीसी लंदन ने मेरा इंटरव्यू किया था, तब कई अखबारों में मेरे बारे में छाप था. अब हाल ये है कि मैंने पिछले लगभग दस सालों से 15-20 हजार रुपये साथ में नहीं देखे हैं!’ रामपाल के ऊपर एक लाख रुपये से ज्यादा का कर्ज है, जिसे वो पिछले दो-ढाई साल से हर महीने करीब 4-5 हजार रुपये बचाकर चुकाते हैं. शारीरिक रूप से बेहद कमजोर रामपाल एक कमरे के इस मकान में अकेले रहते हैं. वे कहते हैं, ‘ऐसा लगता है कि भविष्य में मुझे अपने बेटों पर निर्भर रहना होगा या इन्हीं हालातों में काम करते रहना होगा!’

Pages: 1 2 Single Page

(Published in Tehelkahindi Magazine, Volume 8 Issue 4, Dated 29 February 2016)

Comments are closed