दौड़ी कबड्डी की गड्डी

0
129

कहते हैं कि कबड्डी महाभारत के उस युद्ध से निकला हुआ खेल है जिसमें सात योद्धाओं का चक्रव्यूह तोड़ने की कोशिश में अभिमन्यु वीरगति को प्राप्त हुआ था. छोटे से मैदान में सात खिलाड़ियों के चक्रव्यूह से भिड़ते एक खिलाड़ी वाला यह खेल सदियों से भारतीय उपमहाद्वीप में खेला जाता रहा है. यह अलग बात है कि विश्व चैंपियन जैसे कई प्रतिष्ठित खिताबों के बावजूद भारत में कबड्डी के खिलाड़ियों की धमक इस खेल में दिलचस्पी रखने वालों के अति सीमित दायरे तक ही रही.

लेकिन अचानक ही इस खेल की जमीन फैलती दिख रही है. हाल ही में शुरू हुए कबड्डी के दो आयोजन प्रो कबड्डी लीग और वर्ल्ड कबड्डी लीग देश-दुनिया में सुर्खियां बटोर रहे हैं. क्रिकेट के बहुचर्चित आयोजन इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की तरह कबड्डी की इन लीगों में भी फ्रेंचाइजी, फिल्मी सितारों, कारोबारियों और टीवी प्रसारण के मेल का फार्मूला है और यह फॉर्मूला चलता भी दिख रहा है.

26 जुलाई से शुरू हुई प्रो कबड्डी लीग में भारत की आठ टीमें हिस्सा ले रही हैं जिनमें शिमला से लेकर सियेरा लिओन तक के खिलाड़ी हैं. लीग के दौरान कुल 60 मैच होंगे. कुल 34 दिन के इस मेले का फाइनल 31 अगस्त को मुंबई में होगा. लीग की टीमों के मालिकों में अभिनेता अभिषेक बच्चन से लेकर  फ्यूचर ग्रुप जैसे कारोबारी समूह तक शामिल हैं. इस बीच नौ अगस्त से वर्ल्ड कबड्डी लीग भी शुरू हो चुकी है. लंदन से शुरू हुए इस आयोजन के 94 मैच देश-विदेश के 16 शहरों में होंगे. अक्षय कुमार और यो यो हनी सिंह जैसी हस्तियों की टीमों से सजी इस लीग में अलग-अलग देशों के 144 खिलाड़ी भाग ले रहे हैं. इसका समापन 14 दिसंबर को भारत के मोहाली में होगा.

कबड्डी का खेल 12.5 गुणा10 मीटर के मैदान में खेला जाता है. इसके बीच में खिंची रेखा के दोनों तरफ सात-सात खिलाड़ी होते हैं. हमला करने वाले दल का एक खिलाड़ी कबड्डी-कबड्डी कहता हुआ दूसरे पाले में जाता है. उसकी कोशिश होती है कि बिना सांस तोड़े विपक्ष के अधिक से अधिक खिलाड़ियों को छुए और अपने खेमे में लौट आए. वह जितने खिलाड़ियों को छूता है उसकी टीम को उतने ही अंक मिलते हैं. अगर  विरोधियों ने उसे घेर लिया और उसकी सांस टूट गई तो वह खेल से बाहर हो जाता है. जिस दल के जितने अधिक अंक बनते हैं वही विजयी रहता है. अलग-अलग जगहों पर नियमों में थोड़ा बदलाव भी दिखता है. कबड्डी के इस खेल को दक्षिण में चेडुगुडु और पूरब में हुतूतू के नाम से भी जाना जाता है.  भारत के अलावा यह बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका, पाकिस्तान, मलेशिया और इंडोनेशिया में भी खेला जाता है. बांग्लादेश का तो यह राष्ट्रीय खेल ही है.

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की तरह कबड्डी की इन लीगों में भी फ्रेंचाइजी, फिल्मी सितारों, कारोबारियों और टीवी प्रसारण के मेल का फार्मूला है

लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद भारतीय उपमहाद्वीप में कबड्डी को अब तक वह बुलंदी नहीं मिल पाई थी जिसका यह हकदार है. वैसे तो कबड्डी भारत की मिट्टी में बसा एक सरल खेल है. भारत इसमें पांच बार का एशियाई चैंपियन और दो बार का विश्व चैंपियन है. फिर भी यह कभी क्रिकेट, कुश्ती, मुक्केबाजी या शतंरज जैसे दर्जे को नहीं छू सका. कई मौके आए जब किसी बड़े टूर्नामेंट से टीम जीतकर आई और एयरपोर्ट पर कोई उसकी अगवानी करने तक को नहीं पहुंचा. खिलाड़ी और अधिकारी शिकायत करते रहते हैं कि कोई उन्हें तवज्जो नहीं देता. विंध्यवासिनी देवी का उदाहरण ही लें. 2012 में विश्व चैंपियन बनी भारतीय टीम कबड्डी का हिस्सा रहीं विंध्यवासिनी ने इस साल की शुरुआत में अपने पदक और प्रमाणपत्र लौटाने का ऐलान किया था. दरअसल उनके शानदार प्रदर्शन को गर्व का विषय बताते हुए झारखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा ने उन्हें दस लाख रुपये का ईनाम और सरकारी नौकरी देने की घोषणा की थी. लेकिन दो साल तक दर-दर भटकने के बाद विंध्यवासिनी के हाथ खाली रहे.

कई लोग मानते हैं कि प्राथमिकताओं में कबड्डी का कहीं न होना इस खेल की उपेक्षा का अहम कारण रहा है. एक वेबसाइट से बातचीत में खेल पत्रकार जसविंदर सिद्धू कहते हैं, ‘मीडिया ने धीरे-धीरे अपना ध्यान क्रिकेट जैसे खेलों पर केंद्रित कर लिया. उसने पारंपरिक खेलों को जगह देने की जरूरत नहीं समझी क्योंकि उसे लगता था कि गांवों में न तो केबल टीवी है और न ही वहां उसके दर्शक हैं. इन खेलों के आयोजकों की ओर से भी पूरी कोशिश नहीं हुई कि कैसे खेलों को आगे ले जाया जाए. उन्हें प्रायोजक नहीं मिले. सरकारों ने भी ध्यान नहीं दिया.’

लेकिन पिछले एक दशक के दौरान तस्वीर बदली है. भारत के गांवों तक भी अब केबल टीवी की अच्छी-खासी पहुंच है. वहां दर्शक भी हैं और कबड्डी की लोकप्रियता भी. प्रो कबड्डी लीग के मैचों का प्रसारण कर रहे स्टार स्पोर्ट्स ने दावा किया है कि इस लीग के पहले मैच के लिए ही टीवी दर्शकों की संख्या 2.2 करोड़ रही. यह आंकड़ा 21 लाख दर्शकों की उस संख्या से 10 गुना ज्यादा है जो ब्राजील और क्रोएशिया के बीच हुए फीफा फुटबॉल वर्ल्ड कप के शुरुआती मैच के दौरान भारत में दर्ज की गई थी. ट्विटर और फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों पर भी कबड्डी ट्रेंड करता रहा. आयोजन की इस सफलता को देखकर अब महिला कबड्डी लीग शुरू करने की भी चर्चाएं हो रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here