‘अब्बू कहते थे मानवता से बढ़कर कोई धर्म नहीं, ऐसे आदमी को उस रात धर्मांध भीड़ ने मार डाला’

2
1953

सरताज जानते हैं कि एक बार अगर आंख से आंसू निकले तो उन्हें रोक पाना आसान नहीं होगा. वे रोना नहीं चाहते, न ही अपने भाई पर इसका असर होने देना चाहते हैं. सरताज अपने अब्बू को अपना रोल मॉडल मानते हैं. वे याद करते हैं, ‘मुझे आश्चर्य होता है कि कैसे एक व्यक्ति बुरे से बुरे वक्त में भी उम्मीद नहीं छोड़ता. मुश्किल वक्त में भी कभी उन्हाेंने परिवार नहीं टूटने दिया. वे हमेशा हम लोगों से कहते थे कि मानवता से बढ़कर कोई धर्म नहीं है. ऐसे आदमी को उस रात धर्मांध भीड़ ने मार डाला.’

अखलाक ने कुछ समय पहले अपने घर के पास ही के मंदिर की चहारदीवारी और दरवाजे के निर्माण में निःशुल्क काम किया था. सरताज कहते हैं, ‘मैं कभी कल्पना भी नहीं कर सकता कि जो लोग हमारे उत्सवों में शामिल हुआ करते थे, एक दिन मेरे पिता की हत्या कर देंगे. मानवता में मेरा विश्वास अब भी बरकरार है, लेकिन सिर्फ सामान्य तौर पर. मैं अपने पड़ोसियों और दूसरे गांव वालों पर कतई विश्वास नहीं कर सकता. इसलिए मैंने सोचा है कि अपने परिवार को चेन्नई ले जाऊंगा. गांव के जिन लोगों पर अब्बू के कत्ल का इल्जाम है, उनमें से कुछ तो मेरे बाद पैदा हुए हैं. मैंने उन्हें बड़े होते हुए देखा है. वे मेरे भाई के हमउम्र हैं.’

सरताज की बहन ने उन्हें बताया कि अस्पताल ले जाने के पहले ही उनके पिता की मौत हो चुकी थी. ‘लेकिन भीड़ ने उनकी लाश पर भी रहम नहीं किया. जब वैन अब्बू को अस्पताल ले जाने लगी तब उन लोगों ने वैन पर भी ईंट-पत्थर फेंके.’

वायुसेना के इस जवान के लिए अपने भाई की गंभीर हालत फिलहाल चिंता का सबब है. वे कहते हैं, ‘मेरा भाई अच्छा विद्यार्थी था. अभी कुछ  दिन पहले ही उसने उन सब प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए आवेदन किए थे, जिनके लिए वह योग्य था. लेकिन वह भारतीय सेना की तरफ आकर्षित था. सेना में अफसर बनना चाहता था. वह कम्बाइंड डिफेंस सर्विस (सीडीएस) की परीक्षा भी देने वाला था.’

घटना के इतने समय बाद अब दानिश पर धीरे-धीरे इलाज का असर हो रहा है. हालांकि डॉक्टरों को यह डर है कि ठीक होने पर उसको याददाश्त से संबंधित दिक्कतें आ सकती हैं. सरताज बताते हैं, ‘उसके सिर पर जानलेवा किस्म की चोटें आई हैं. भीड़ ने मेरे पिता को तो मार ही दिया, साथ ही मेरे भाई के सपनों को भी कुचल दिया.’ दानिश के साथ गुजरे दिनों को याद करके सरताज के होठों पर मुस्कान आ जाती है. वह याद करते हैं, ‘वह जिंदादिल इंसान था. उसके साथ होने पर आपको अपनी हंसी रोकनी मुश्किल होती. वह इतना मजाकिया है कि उसके साथ कुछ देर बैठते के बाद आप हंसते-हंसते लोट-पोट हो जाओगे.’

सरताज ‘तहलका’ को बताते हैं कि भीड़ का गुस्सा स्वाभाविक नहीं था. उन्हाेंने कहा, ‘मुझे नहीं याद है कि इस गांव में कभी एक भी सांप्रदायिक घटना घटी हो. जो लोग इस गांव को धर्म के आधार पर बांटना चाहते हैं, उन्हाेंने जरूर पहले से इसकी तैयारी की होगी. मैं किसी पार्टी विशेष पर इल्जाम नहीं लगाना चाहता लेकिन मैं दिल से चाहता हूं कि मेरे पिता के हत्यारों को ऐसी सजा मिले जो ऐसेे लोगों के लिए नजीर बन सके. इस बीच नेताओं को गांव का माहौल नहीं बिगाड़ना चाहिए. मैं सभी से अपील करता हूं कि सौहार्द्र बनाएं रखें. नेता आकर हमारा दुख बांट सकते हैं लेकिन उनको खून पर राजनीति नहीं करनी चाहिए.’ जाहिर है कि सरताज जिस देश की सेना में अपनी सेवाएं दे रहे हैं, उस देश को लेकर उनकी निष्ठा को डिगा पाने में ऐसी कई भयावह घटनाएं भी कम पड़ जाएंगी. सरताज कहते हैं, ‘मैं अपने देश की सेवा उसी शिद्दत से करता रहूंगा जिसके साथ मेरे पिता ने मुझे पाल-पोस कर बड़ा किया था’ और इसके बाद वे शाम की नमाज के लिए चले गए.’

2 COMMENTS

  1. मोदी राज में सब असहाए ही है चाहे हिन्दू हो या मुसलिम
    नेता का कोई धर्म नही होता मौका पाये तो लाशो को भी बेच सकतें है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here