संस्थाओं को नष्ट कर रही मोदी सरकार

1
229

मुझे लगता है कि देश में अभी जो निजाम है वो संस्थाओं को पोषित या प्रोत्साहित करने की बजाय नष्ट करने में लगा है. जिस दल की अभी सरकार है आप उसका इतिहास देखिए तो उसने एक भी संस्थान नहीं बनाया. जो संस्थाएं पहले से थीं, उनको मिटाने पर लगे हैं. इस तरह की राजनीति और इस विचारधारा में ही इतना बांझपन है कि अब यही होना है. इनके पास अपने बुद्धिजीवी नहीं हैं. ऐसे ऐसे लोगों की नियुक्तियां कर रहे हैं जो योग्य नहीं हैं. इससे संस्थाओं का कद अपने आप ही कम हो जाता है.

अब लोग कहते हैं कि पहले भी ऐसी घटनाएं होती रहीं हैं. यह सही है, लेकिन तब भी हम लोग उसकी निंदा करते थे. आज हालात अलग हैं. ऐसा प्रधानमंत्री जो हर बात पर बयान देता है वह इन घटनाओं पर चुप है. देश में क्या हो रहा है, क्या उन्हें मालूम नहीं है? अगर इतने बेखबर हैं, तो उनका भगवान ही मालिक है. एक संस्कृति मंत्री जो कु-संस्कृति मंत्री हैं, उनका बयान है कि कलाम के नाम पर सड़क का नाम इसलिए रखना चाहिए क्योंकि वे राष्ट्रवादी मुसलमान थे.

इस तरह के बेहूदा बयान और भड़काऊ बातें लगातार हो रही हैं. अब देश को आगे ले जाने वाले मसलों को छोड़कर इस बात पर बहस हो रही है कि क्या खाएं, क्या न खाएं, क्या पहनें, क्या न पहनें, क्या पढ़ें, क्या न पढ़ें. यह खतरनाक स्थिति है.

1 COMMENT

  1. मै आपके विचार से सहमत हूँ। नेता के कई चेहरे होते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here