सुविधा की रणनीति | Tehelka Hindi

बिहार, राज्यवार A- A+

सुविधा की रणनीति

लोकसभा चुनाव से पहले बढ़ी सियासी सरगर्मी के बीच बिहार में सारे दल हालात के हिसाब से निर्णय लेने वाली रणनीति अपनाए हुए हैं.
निराला February 6, 2014
फोटोः विजय पांडेय

फोटोः विजय पांडेय

बात गणतंत्र दिवस के दो दिन पहले की है. पटना में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव पार्टी की तरफ से राज्यसभा में जाने वाले तीन नए सदस्यों के नाम का एलान कर रहे थे. घोषणा जब हो गई तो जदयू के एक नेता बोले, ‘आपने गौर नहीं किया. शरद यादव जब यह घोषणा कर रहे थे तो वे खुद ही तनाव में थे. इस वजह से नहीं कि वे अपनी पार्टी के जरिए किसी ऐसे व्यक्ति को राज्यसभा भेज रहे हैं जिससे पार्टी की साख को बट्टा लगेगा या नुकसान होगा बल्कि इसलिए क्योंकि शरद खुद चाहते थे कि वे इस बार राज्यसभा से सांसद बनकर छह साल के लिए गंगा नहाएं.’

राज्यसभा के लिए वरिष्ठ पत्रकार हरिवंश, महिला आयोग की अध्यक्ष कहकशां और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व अतिपिछड़ा समूह के चर्चित नेता रहे स्व. कर्पूरी ठाकुर के बेटे रामनाथ ठाकुर की घोषणा हुई थी. इन नामों ने दूसरों को तो हैरान किया ही, नीतीश की अपनी ही पार्टी में भी कइयों के लिए यह चौंकाने वाला रहा. चर्चा हुई कि नीतीश कुमार के दांव समझना बिहार के दूसरे राजनीतिक दलों के लिए तो क्या, जदयू नेताओं के लिए भी इतना आसान नहीं है. शरद यादव द्वारा नामों की घोषणा के पहले तक इसकी रत्ती भर भनक भी जदयू के वरिष्ठ नेताओं तक को नहीं लग सकी. वैसे एक पत्रिका को दिए हालिया इंटरव्यू में नीतीश खुद भी बोल चुके हैं कि 2004 से अब तक कभी उनका कैलकुलेशन गलत नहीं हुआ. हालांकि अभी उनका कैलकुलेशन क्या है, इस पर उनका कहना था, ‘अभी तो कैंपेन (चुनावी) भी शुरू नहीं हुआ. बक्सा खुलने दीजिए.’

नीतीश कुमार की इस गुप्त तरीके वाली राजनीति से सबसे ज्यादा परेशानी जदयू के उन नेताओं के सामने आई जो यह छवि बनाए रहते हैं कि वे मुख्यमंत्री के करीबी हैं. इससे भी ज्यादा बड़ी चुनौती दूसरे राजनीतिक दलों के सामने आ गई. वजह सिर्फ वही है. नीतीश के बारे में पूर्वानुमान के आधार पर तय नहीं कर सकते कि आखिरी समय में वे कौन-सा दांव खेलकर दूसरे का खेल बिगाड़ देंगे. यह अलग बात है कि राज्यसभा का टिकट न मिलने से खुद उनकी अपनी पार्टी के कई नेता भी नाखुश हैं. पार्टी प्रवक्ता देवेश चंद्र ठाकुर ने इसके साफ संकेत देते हुए कहा भी कि वे सही समय आने पर फैसला करेंगे क्योंकि उन्हें लगता है कि पार्टी को उनकी क्षमताओं पर भरोसा नहीं है.

राज्यसभा के लिए तीन उम्मीदवारों के नामों की घोषणा भर से बिहार की सियासत में अलग तरीके से तैयारियां शुरू हो गई हैं. अब तक जो दिख रहा है, उसमें कुछ बातें मोटे तौर पर सबको पता चल चुकी हैं. उसी आधार पर अनुमान भी लगाए जाने लगे हैं. जैसे यह लगभग तय है कि नीतीश कुमार और उनकी पार्टी अगले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ने के मूड में नहीं हंै. मूड में जदयू नहीं है या कांग्रेस ने ही न के संकेत दिए, यह अभी तक साफ नहीं, लेकिन नीतीश कुमार और उनके दल के प्रमुख शरद यादव लगातार कांग्रेस को निशाने पर लेने की प्रक्रिया को रफ्तार देना शुरू कर चुके हैं.

दूसरी ओर यह साफ दिख रहा है कि चारा घोटाले में दोषी साबित होने के चलते खुद चुनाव लड़ने से वंचित हो चुके लालू प्रसाद यादव येन केन प्रकारेण अपनी पार्टी को आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ जोड़ देना चाहते हैं. मुख्य वजह यही है कि कांग्रेस को साथ रखकर किसी तरह मुस्लिम मतों का ध्रुवीकरण अपनी ओर हो सके और मुस्लिम-यादव नाम से दो दशक पहले जो नया सियासी समीकरण बना था, वह फिर खूब फायदा देने की स्थिति में आ जाए.

फोटोः पीटीआई

फोटोः पीटीआई

अभी यह साफ नहीं कि कांग्रेस किधर जाएगी. कुछ समय पहले तक तो बिहार आने वाले कांग्रेसी नेताओ ने साफ-साफ संकेत दिए थे कि वे नीतीश कुमार और लालू प्रसाद में पहले का ही साथ देना पसंद करेंगे. इस बात को कई बार कांग्रेस के खेमे से परोक्ष तौर पर कहा भी गया और भाजपा से अलगाव के बाद बिहार विधानसभा में जब नीतीश के बहुमत साबित करने की बारी आई तो कांग्रेसी विधायकों ने दिल खोलकर उनका साथ भी दिया. वह समर्थन अब तक जारी है, लेकिन अब सवाल उठ रहा है कि अगर लोकसभा में कांग्रेस ने राजद का साथ दिया तो फिर क्या विधानसभा में कांग्रेसी विधायकों का समर्थन नीतीश के पक्ष में ही जारी रहेगा. क्या कांग्रेस लोकसभा में नीतीश के खिलाफ और विधानसभा में नीतीश के साथ रहकर अपनी भद्द पिटवाएगी?

जवाब अभी साफ-साफ तौर पर किसी के पास नहीं लेकिन कुछ लोग दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच के रिश्ते का उदाहरण दे रहे हैं. विश्लेषक बता रहे हैं कि कांग्रेस ने जिस तरह से विचार व सरोकार नहीं मिलने के बावजूद दिल्ली में भाजपा को रोकने के लिए विधानसभा में आम आदमी पार्टी का साथ दिया है, कुछ वैसा ही वह बिहार में जदयू को समर्थन देकर कर सकती है. हालांकि इस बारे में बात करने पर जदयू नेता संजय झा कहते हैं, ‘अभी बिहार की सरकार ठीक से चल रही है तो आगे की बात अभी से ही क्यों करें?’ जदयू के ही एक और वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी कहते हैं, ‘राजनीति में पूर्वानुमान बहुत काम नहीं आते. स्थितियों के अनुसार निर्णय लिए जाते हैं.’

Pages: 1 2 Single Page
Type Comments in Indian languages