हिंदी साहित्य में स्वेतलाना एलेक्सीविच की जरूरत

स्वेतलाना को यह पुरस्कार मिलना कई कारणों से महत्वपूर्ण है. एक रिपोर्टर होने के नाते स्वेतलाना के काम और उनके जीवन से प्रेरणा मिलती है. इस बात का गर्व भी है कि हमारे ही बीच के एक साथी रिपोर्टर ने अपनी गहरी संवेदना, लगन और लेखन शैली पर सालों लगातार काम करने के बाद विश्व के लिए कितने महत्वपूर्ण दस्तावेज तैयार किए. अपने एक इंटरव्यू में स्वेतलाना ने कहा, ‘अगर मैं 19वीं सदी में पैदा हुई होती तो जरूर उपन्यास लिखती, लेकिन युद्ध, महामारी, अकाल, अत्याचार जैसी अनगिनत आपदाओं से भरी 20वीं सदी के इतिहास को बताने के लिए फिक्शन कमजोर माध्यम है, इसलिए मैंने हजारों साक्षात्कारों के बाद सामने आने वाली लोगों की भावनात्मक यादों के आधार पर लिखे गए रिपोर्ताज का रास्ता चुना.’ उनकी किताबों को नोबेल पुरस्कार समिति ने ‘सोवियत रूस का भावनात्मक इतिहास’ कहकर संबोधित किया है.

इस पुरस्कार को साहित्यिक सामंतों के दंभ को तोड़ने वाली घटना के तौर पर भी देखा जा सकता है. शायद अपनी आराम कुर्सियों पर बैठकर कल्पना की उड़ाने भरते हुए अंग्रेजी में लिखने-पढ़ने वाले एक बड़े वर्ग के लिए यह सच पचा पाना बहुत मुश्किल होगा कि एक छोटे से गांव में गरीब ग्रामीण प्राथमिक शिक्षक के घर जन्मी एक लड़की को अपनी स्थानीय भाषा में लिखने के लिए नोबेल कैसे मिल गया? और उसने लिखा भी तो क्या! छोटे ग्रामीण अखबारों से लेकर पत्रिकाओं तक में लिखा, हाशिये पर ढकेल दी गईं आम औरतों और बच्चों की जबान बनीं.

स्वेतलाना को मिला यह पुरस्कार एक ओर जहां रिपोर्ताज के महत्व को दोबारा स्थापित करता है, वहीं भारतीय पत्रकारिता के सामने कई सवालों के सिरे भी छोड़ जाता है. सवाल ये कि हिंदी पत्रकारिता और लेखन में लंबे रिपोर्ताज पर आधारित जमीनी किताबों की क्या स्थिति है? फणीश्वर नाथ रेणु की ‘ऋणजल धनजल’ और फिर अनिल यादव की ‘वह भी कोई देस है महाराज’ जैसी गिनती की कुछ किताबों के नाम ही याद आते हैं, जबकि हमारे देश में आपदाओं और महामारियों के साथ-साथ समाज की हर परत में गहरा टकराव है, जिसकी वजह से भारत विदेशी पत्रकारों और लेखकों को हमेशा आकर्षित करता रहा है. यह हमारे लिए आत्मविश्लेषण का प्रश्न है कि क्यों आंतरिक संघर्षों और अनगिनत टकरावों के बारूद पर बैठे इस देश के सबसे ज्वलंत मुद्दों पर सबसे अच्छा काम विदेशी लेखकों का है?

उदाहरण के लिए भोपाल गैस त्रासदी पर प्रकाशित हुई सबसे प्रसिद्ध किताब ‘फाइव पास्ट मिडनाइट इन भोपाल’ फ्रांसीसी लेखकों डॉमिनिक लैपियर और जेवियर मोरो ने लिखी, फिर पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित कैथरीन बू की किताब ‘बिहाइंड द ब्यूटीफुल फॉरएवर्स’ को भारतीय गरीबी पर सबसे मजबूत किताब के तौर पर देखा जाता है. भारत में जो थोड़ी बहुत रिपोर्ताज प्रकाशित होती हैं, वे सिर्फ अंग्रेजी में काम करने वाले मीडिया संस्थान ही करते हैं. स्थानीय भाषा में लिखने वाले हिंदी पत्रकारों को लंबी रिपोर्ताज लिखने के लिए प्रोत्साहित और प्रकाशित करना न सिर्फ लेखन के लोकतांत्रिकरण के लिए, बल्कि विषय के साथ न्याय करने के लिए भी जरूरी है. लेकिन हिंदी के अखबार महत्वपूर्ण विषयों पर लंबी रिपोर्ताज प्रकाशित करने के लिए आम तौर पर दो पन्ने की जगह भी नहीं देते. सामंती सोच, औपनिवेशिक असर के साथ हिंदी में संसाधनों की कमी भी इसके लिए जिम्मेदार है. कारण कई हो सकते हैं पर हिंदी साहित्यकारों के साथ ही हिंदी पत्रकार भी कभी अपने समय का ईमानदार दस्तावेजीकरण न करने पाने की जवाबदेही से इनकार नहीं कर पाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here