‘जीवन की जटिलता का प्रतीक है छंदमुक्त कविता’ | Tehelka Hindi

शख़्सियत A- A+

‘जीवन की जटिलता का प्रतीक है छंदमुक्त कविता’

अष्टभुजा शुक्ल समकालीन हिंदी कविता में ग्राम्य चेतना, कृषक जीवन, लोकजीवन के कुशल चितेरे कवि हैं. अंकित अमलतास की उनसे बातचीत के अंश
2014-09-30 , Issue 18 Volume 6
फोटोः अंकित अमलतास

फोटोः अंकित अमलतास

व्यक्तिगत जीवन में आप स्वयं को कितना आजाद या कितना बंधा हुआ महसूस करते हैं?
मैं व्यक्तिगत जीवन में निहायत बंधा हुआ इंसान हूं. इस अर्थ में बंधा हूं कि व्यक्तिगत, परिवारिक, सामाजिक बंधन के कारण न तो स्वाधीन जीवन, अपनी तरह का जीवन जी सका और इसका मुझे कोई मलाल भी नहीं है.

आप कैसा जीवन जीना चाहते थे?
प्रत्येक व्यक्ति की जीवन आकांक्षा कुछ और होती है और उसे एक दूसरा जीवन जीना पड़ता है, मैं भी एक पूर्णतया स्वाधीन जीवन जीना चाहता था किंतु ‘जीवन के चयन’ का अवसर ही मुझे नहीं मिला. मैं अपनी पारिस्थितिकी से इतना बंधा हूं कि स्वाधीन जीवन जी ही नहीं सका.

साहित्य में आपके प्रेरणास्रोत कौन हैं?
मेरे भीतर जो साहित्य के बीज थे, उन्हें अंकुरित करने का श्रेय, मेरे गुरु, अग्रज और सखा, तीनों की भूमिका में, डॉ. परमात्मा नाथ द्विवेदी की रही, जिन्होनें बस्ती जिले में ‘आचार्य रामचन्द्र शुक्ल परिषद’ की स्थापना की थी. उन्हीं की प्रेरणा से मेरा साहित्य संसार में प्रवेश हुआ.

आप संस्कृत के आचार्य हैं. हिंदी साहित्य, कवि-कर्म की ओर आपका रुझान कैसे हुआ?
ये दोनों ही मेरे प्रिय विषय रहे हैं. संस्कृत तो मेरे रक्त में रही है. मेरे बड़े पिता जी संस्कृत के आचार्य रहे. मेरे अग्रज सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय, काशी में आचार्य रहे. इस तरह संस्कृत मुझे विरासत में मिली. हिंदी हमारी मातृभाषा है. संस्कृत अब एक अप्रयुक्त भाषा है, हालांकि संस्कृत में अब भी युग धर्म के अनुसार श्रेष्ठ साहित्य लिखा जा रहा है. मातृभाषा में स्वाभाविक उद्गार न तो चकित करने वाली बात है, न आश्चर्यजनक और न ही विडम्बनापूर्ण.

आपके काव्य में ग्राम्य जीवन, कृषक जीवन तथा लोक जीवन की विविधातामयी रंगत देखने को मिलती है. मौजूदा समय में जब दुनिया सूचना प्रौद्योगिकी की ओर तेजी से गतिशील है. ऐसे समय में आपके काव्य की क्या भूमिका है?
देखिए, बहुत पहले संस्कृत काव्य में भी ये सवाल उठते रहे हैं, आप उन्हें नए ढंग से पूछ रहे हैं. संस्कृत में आचार्यों यानी आज की शब्दावली में आलोचकों ने कविता की कई कोटियां बनाई थीं- ग्राम्या, नागरिका, उपनागरिका. यानी जो ग्रामीण संवेदना की कविता थी उन्हें ग्राम्या, नागर संवेदना की कविता को नागरिका तथा कस्बाई या उपनगरों की कविताओं को उपनागरिका कहा जाता था. तो आप जो कह रहे हैं कि आज के सूचनातंत्र बहुल समय में, प्रौद्योगिकी के विस्फोट के दौर में लोक जीवन की कविता की सार्थकता का सवाल तथाकथित मुख्यधारा के साहित्य में शामिल लोग उठाते हैं. वे ये सवाल इसलिए उठाते हैं कि लोकजीवन, लोकसंवेदना को चित्रित करने वाले कवियों को यह कह दिया जाता है कि ये ग्राम्य संवेदना या कृषक संवेदना को चित्रित करते हैं और इस तरह एक मेढ़बंदी कर दी जाती है कि आप वहीं रहिए. प्रौद्योगिकी ने दुनिया को सहज सुगम बनाया है लेकिन इसे कविता से जोड़ने की आवश्यकता नहीं, क्योंकि कविता शर्तों पर नहीं चलती, उसकी अपनी आंतरिक शर्त होती हैं.

‘अब जनवाद, कलावाद, प्रगतिवाद आदि जो ‘इज्म’ हैं वे खत्म हो रहे हैं अब वादी-प्रतिवादी कविता का नहीं, संवादी कविता का युग आ रहा है’

आधुनिक हिंदी कविता के छंदमुक्त होने के आप क्या कारण देखते हैं.
कविता अनायास ही छंदमुक्त नहीं हो गई. छंदमुक्त कविता लिखे जाने की शुरुआत तब हुई जब जिंदगी की लय टूटने लगी. उसकी सांसे बाधित होने लगीं, जिंदगी जटिलतर होती गई फलस्वरूप कविता की लय भी टूटने लगी. पहले जिंदगी, बेफिक्र, निश्चिंत, निरापद थी वह धीरे-धीरे मुश्किल होती गई. जटिल जीवनबोध को वाणी देने के लिए गीत उतने कारगर नहीं साबित हुए क्योंकि प्रेम या करूणा को तो गाकर कहा जा सकता था. किंतु समय का संत्रास, उसकी घुटन, उलझे हुए सामाजिक सम्बन्धों को व्यक्त करने में छंद असमर्थ होते गए और इसका आरम्भ ‘निराला’ के समय से ही हो गया था. अब एक बार फिर लोगों को यह लगने लगा है कि लय कविता का अनिवार्य अंग है. भवानी प्रसाद मिश्र की कविता में लय देखने को मिलती है लेकिन उन्हें तो सर्वथा भुला दिया गया है.

लेकिन वर्तमान कविता की धारा छंदरहित कविता है. ऐसे में आप किस आंतरिक आवश्यकता के कारण छंदबद्ध रचना कर रहे हैं?
मैंने ऐसा दो कारणों से किया. एक तो मुक्त छंद की कविता इतनी असम्प्रेष्य और अपठनीय होने लगी थी कि जहां पहले कभी हिंदी कविता का एक विशल पाठक वर्ग था वह चंद कवियों, आलोंचकों तथा प्रकाशकों तक सिमट कर रह गया. यानी वह कागजी कविता बनकर रह गई है. ऐसे में मुझे यह जरूरी लगा कि जो हमारे परम्परागत छंद हैं, जो लोकशैलिया हैं, इनका प्रयोग भी कविता में किया जाए जिससे कविता को अधिक व्यापकता, प्रसार और अवकाश मिले. अब मुक्त छंद के कवि भी लय और तुक मिलाने लगे हैं. दूसरी ओर, ये जो छंदानुशासन की कविता है या छंदोबद्ध कविता है, ‘गद्य कविता के कवि’ विष्णु खरे जैसा खरा कवि उसके मुख्य प्रशसंकों में से एक है. यह आश्चर्य की बात है.

Pages: 1 2 Single Page

(Published in Tehelkahindi Magazine, Volume 6 Issue 18, Dated 30 September 2014)

Type Comments in Indian languages