‘साइट’ भारत में टीवी प्रसारण | Tehelka Hindi

हुआ यूं था A- A+

‘साइट’ भारत में टीवी प्रसारण

पवन वर्मा 2014-09-30 , Issue 18 Volume 6

esro

भारत में टीवी प्रसारण की औपचारिक शुरुआत 1959 से मानी जाती है लेकिन इसे प्रायोगिक स्तर से निकलकर चलन में आने में छह साल का वक्त लगा. इसका पहला परीक्षण दिल्ली में किया गया और सामान्य प्रसारण भी सबसे पहले यहीं शुरू हुआ. फिर सात साल के बाद बंबई और अमृतसर में टीवी पहुंचा. सन 1975 तक देश के सात शहरों तक टीवी की पहुंच हो चुकी थी. इस नई नवेली टीवी क्रांति के बारे में सरकार का मानना था इससे देश की सामाजिक-आर्थिक की गति को नई दिशा और तेजी मिल सकती है. सरकार इस मायने में टीवी की ताकत को आंकना भी चाहती थी लेकिन तत्कालीन सुविधाओं में यह मुमकिन नहीं था. हमारी प्रसारण तकनीक टेरेस्ट्रियल नेटवर्क पर आधारित थी. इसमें ऊंचे-ऊंचे टावरों का निर्माण और उनके पास विशेष उपकरणों के माध्यम से 30-35 किमी तक के क्षेत्र तक प्रसारण के सिग्नल भेजे जाते थे. इस व्यवस्था में कुछ खामियां थीं. पहली तो यही कि इससे दुर्गम और ग्रामीण इलाकों में टीवी की पहुंच नहीं हो पा रही थी तो वहीं दूसरी तरफ इससे प्रसारण की गुणवत्ता भी कुछ कमतर रहती थी. उस समय देश की वैज्ञानिक बिरादरी भी इस कोशिश में लगी थी कि किसी तरह टीवी को देश के कोने-कोने तक पहुंचाया जाए. लेकिन दुर्गम क्षेत्रों तक निर्बाध प्रसारण के लिए जरूरी था कि भारत के पास अपना संचार उपग्रह हो. प्रसिद्ध अंतरिक्ष विज्ञानी डॉ विक्रम साराभाई अपने साथियों के साथ इस कोशिश में लगे थे कि किसी तरह स्वदेशी संचार उपग्रह तैयार किया जाए लेकिन अपर्याप्त मानव व तकनीकी संसाधनों की वजह से यह मुमकिन नहीं हो पा रहा था. बिना इसके टीवी के सकारात्मक प्रभावों का असर भी नहीं जांचा जा सकता था.

इसी समय अमेरिका की अंतरिक्ष अनुसंधान एजेंसी, नासा अपने एक संचार उपग्रह एटीएस-6 से प्रसारण का परीक्षण करने की तैयारी में थी. एजेंसी के विशेषज्ञों का मानना था कि यह परीक्षण भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में सबसे अच्छे तरीके से हो सकता है. इधर भारत में विशेषज्ञों का एक समूह इस पूरे घटनाक्रम से वाकिफ था. उसने सरकार को सलाह दी कि नासा से भागीदारी  देश में टीवी क्रांति को एक नए दौर में पहुंचा सकती है. आखिरकार सरकार इसके लिए तैयार हुई और डॉ साराभाई के नेतृत्व में इस परीक्षण के लिए भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र व नासा के बीच एक करार हो गया. इसके तहत भारत में जो प्रायोगिक टीवी प्रसारण होना था उसे ही ‘साइट’ यानी सेटेलाइट इंस्ट्रक्शनल टेलीविजन एक्सपरिमेंट  नाम दिया गया. यह अपनी तरह का दुनिया का सबसे बड़ा प्रयोग होने जा रहा था.

Pages: 1 2 Single Page

(Published in Tehelkahindi Magazine, Volume 6 Issue 18, Dated 30 September 2014)

Type Comments in Indian languages