‘23 साल का वह क्रांतिकारी इतना बड़ा हो गया है कि उस पर कोई पगड़ी फिट नहीं हो सकती’ | Tehelka Hindi

नजरिया A- A+

‘23 साल का वह क्रांतिकारी इतना बड़ा हो गया है कि उस पर कोई पगड़ी फिट नहीं हो सकती’

यह प्रगतिशील तबके की विफलता है कि आज भगत सिंह पर वही लोग दावा कर रहे हैं जिनके विरोध में भगत सिंह खड़े थे. अगर हम अपने प्रगतिशील नायकों को छोड़ते चले जाएंगे तो उनको कोई न कोई अपना ही लेगा.

DSC_0189image-from-hvguptadotblogspotdotcom

भगत सिंह पर दावेदारी कोई नई बात नहीं है. यह काफी समय से जारी है. खास तौर पर जब से भगत सिंह की जन्म शताब्दी आई. जन्म शताब्दी वर्ष यानी 2007 में, पूरे वर्ष भगत सिंह के सिर पर पगड़ी पहनाने का प्रयास हुआ. पहले कभी-कभार हुआ करता था, फिर खुलेआम होने लगा. इसमें जाने-अनजाने वे लोग भी शामिल हुए जो भगत सिंह को क्रांतिकारी चेतना के वाहक और पूरे क्रांतिकारी आंदोलन के प्रवक्ता के रूप में देखते हैं. ये सब इसलिए ताकि भगत सिंह को जाति और धर्म के खांचे में धकेल दिया जाए ताकि उनका जो पैनापन है, जो विचार उनके पास हैं, पूरे क्रांतिकारी आंदोलन में भगत सिंह की जो छवि उभरती है उसे खत्म किया जा सके.

जब कट्टरपंथी लोग भगत सिंह पर दावेदारी करते हैं तो भगत सिंह समेत पूरी क्रांतिकारी चेतना का नुकसान होता है. एक उदाहरण देता हूं. करीब दो साल पहले मेरे पास बरेली से एक पूर्व मंत्री का फोन आया, ‘दिल्ली विश्वविद्यालय के हरेंद्र श्रीवास्तव हैं, जिन्होंने सावरकर पर पीएचडी की है, उनका व्याख्यान चल रहा है. आप जरूर आइए.’ हम गए तो नहीं लेकिन जो रिपोर्ट आई उसमें हरेंद्र श्रीवास्तव ने कहा, ‘भगत सिंह जब पांच वर्ष के थे तब उन्हें गांव के विद्यालय में दाखिला कराने के लिए ले जाया गया. वहां उनसे दाखिले का फॉर्म भरवाया गया जिसमें मां के नाम के खाने में उन्होंने स्वयं ही अपनीे पांच मांओं के नाम दर्ज किए- धरती माता, भारत माता, गंगा माता, गौ माता और अपनी माता विद्यावती.’ अब बताइए इस पर आप क्या कहेंगे कि भगत सिंह जन्म से ही आरएसएस की दीक्षा में दीक्षित थे और पहले दर्जे में जाने से पहले ही इतने पढ़े-लिखे थे कि मां के नाम के खाने में अपने हाथ से पांच नाम अंकित कर सकें? उनके व्याख्यान की भरी सभा में कोई यह भी पूछने की हिमाकत नहीं कर सका कि पांच वर्ष की उम्र होने पर 1912 में जब भगत सिंह को विद्यालय में दाखिल कराने के लिए ले जाया गया, तब दाखिले के लिए न तो फॉर्म होते थे और न ही मां के नाम की कोई जगह उन दिनों निर्धारित हुई थी. मां के नाम का कॉलम हमारे बच्चों के समय आया. दुष्यंत कुमार का वह शेर है कि ‘यहां पर सिर्फ गूंगे और बहरे लोग बसते हैं, खुदा जाने यहां पर किस तरह जलसा हुआ होगा.’ उस सभा में विद्वान, लेखक, छात्र, अध्यापक, पत्रकार सब रहे होंगे पर किसी ने सवाल नहीं किया.

भगत सिंह के नाम पर तमाम झूठ फैलाया जा रहा है. भाजपा ने भगत सिंह के भतीजे यादवेंद्र सिंह संधू के मुंह से कहलवाया कि भगत सिंह आस्तिक थे. वे कहते हैं कि भगत सिंह की डायरी में दो शेर लिखे हुए हैं जिसमें एक शेर में परवरदिगार शब्द आया है इसलिए भगत सिंह आस्तिक हैं. इस तरह की हास्यास्पद बातें लगातार फैलाई जा रही हैं

इस तरह भगत सिंह के नाम पर तमाम झूठ फैलाया जा रहा है. अब से तीन-चार पहले भाजपा भगत सिंह के भतीजे यादवेंद्र सिंह संधू को लिए घूम रही थी और कई जगह उनके मुंह से कहलवाया कि भगत सिंह आस्तिक थे. जबकि भगत सिंह का पर्चा ‘मैं नास्तिक क्यों हूं’ कितने वैज्ञानिक ढंग से लिखा गया है. वे कहते हैं कि भगत सिंह की डायरी में दो शेर लिखे हुए हैं जिसमें एक शेर में परवरदिगार शब्द आया है इसलिए भगत सिंह आस्तिक हैं. इस तरह की हास्यास्पद बातें लगातार फैलाई जा रही हैं.

भगत सिंह को इस तरह एक शब्द पकड़कर नहीं समझा जा सकता. भगत सिंह को देखना होगा तो भगत सिंह के विकास के साथ देखना पड़ेगा. भगत सिंह आर्यसमाजी परिवार में पैदा होते हैं, फिर अराजकतावादी होते हैं, फिर राष्ट्रवादी होते हैं. उनका जो रूपांतरण होता है वह बहुत कम समय में हुआ बहुत गजब का रूपांतरण है. जो लोग यह मानते हैं कि भगत सिंह अकेले ऐसे थे, मैं मानता हूं कि 70 साल लंबा क्रांतिकारी आंदोलन विकसित होकर, अपने पूर्ण विकास के बाद भगत सिंह के रूप में बोलता है. भगत सिंह के पहले जो जमीन बनाई है, वे अशफाक उल्ला खां ने बनाई है. जब वो अपनी डायरी में मजदूरों का पक्ष लेते हैं, किसानों का पक्ष लेते हैं, उनकी ताकत को पहचानते हैं और वे खुलकर कहते हैं कि इन विचारों के लिए मुझे कम्युनिस्ट कहा जाए तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है. यह भी विकास है कि पहले उनकी पार्टी का नाम हिंदुस्तान प्रजातंत्र था, जो बाद में हिंदुस्तान समाजवादी प्रजातंत्र रखा जाता है. जिस समय तक कांग्रेस पूर्ण स्वाधीनता का प्रस्ताव तक पारित नहीं कर पाई थी, तब वे हिंदुस्तानी प्रजातंत्र की बात कर रहे थे.

भगत सिंह और आंबेडकर को अपनाने की कोशिश में संघ परिवार के लोग खुद भ्रमित हैं. संघ भले कितना कहता रहे कि हम एक सांस्कृतिक संगठन हैं, अंतत: वह पूरी तरह से एक राजनीतिक संगठन है और किसी भी हद तक उतर सकता है, भले ही महापुरुषों के विचारों की हत्या करनी पड़े. अब ये सारे लोग आंबेडकर को भी अपनाने की कोशिश कर रहे हैं. अरविंद केजरीवाल भी आंबेडकर को अपनाने की कोशिश में हैं. अब पंजाब का चुनाव यह सब करने पर मजबूर कर रहा है. भगत सिंह को पगड़ी पहनाकर सिख बना देने का क्या मतलब है? आप भगत सिंह को पगड़ी क्यों पहना रहे हैं? जिस व्यक्ति ने खुद कहा हो कि अभी तो मैंने केवल बाल कटवाए हैं, मैं धर्मनिरपेक्ष होने और दिखने के लिए अपने शरीर से सिखी का एक-एक नक्श मिटा देना चाहता हूं, आप उसके सिर पर फिर पगड़ी रख रहे हैं. आप यही तो बताना चाह रहे हैं कि भगत सिंह इसलिए बहादुर थे कि सिख थे. तब आप मेरे सवाल का जवाब दीजिए कि क्या राम प्रसाद बिस्मिल इसलिए बहादुर थे कि ब्राह्मण थे, रोशन सिंह इसलिए बहादुर थे कि ठाकुर थे, अशफाक उल्ला इसलिए बहादुर थे कि पठान थे? अगर इस बात का जवाब हां में दे देंगे तो हम मान लेंगे कि भगत सिंह सिख थे इसलिए बहादुर थे. आप कितना भी प्रयास कर लें भगत सिंह के सिर पर पगड़ी रखने का, लेकिन 23 साल का वह नौजवान क्रांतिकारी इतना बड़ा हो गया है कि उस पर कोई पगड़ी अब फिट नहीं हो सकती. यह सब तो चुनावी हथकंडे हैं कि भगत सिंह को सिख बना दो तो वहां से वोट मिल जाए, आंबेडकर को अपना लो तो दलित जातियों का वोट मिल जाए.

यह प्रगतिशील तबके की विफलता है कि आज भगत सिंह पर वही लोग दावा कर रहे हैं जिनके विरोध में भगत सिंह खड़े थे. एक अहम बात यह है कि अगर हम अपने प्रगतिशील नायकों को छोड़ते चले जाएंगे तो उनको कोई न कोई अपना ही लेगा. मेरे ख्याल से वामपंथी पार्टियों और प्रगतिशील लोगों का पतन है कि वह भगत सिंह के जन्मदिन पर पंजाब में लंगर का आयोजन करती है. यह भगत सिंह की चेतना का अपमान है.

हमारा मानना है कि भगत सिंह अकेले नहीं थे. आप देखिए कि भगत सिंह के नाम से जो दस्तावेज प्रकाशित हैं, उसमें बहुत सारे दूसरे साथियों के भी दस्तावेज हैं. उन्हें भगत सिंह के नाम पर प्रकाशित कर दिया जाता है. सब कुछ भगत सिंह के खाते में डालकर उन्हें इतना ऊंचा बना दिया है कि हम उन्हंे देख न सकें, छू न सकें. भगत सिंह ने जो भी काम किए, सांडर्स को मारा या असेंबली में बम फेंका, वह अकेले नहीं किया. संयुक्त रूप से किया. दूसरे, क्रांतिकारी आंदोलन के ज्यादा महत्वपूर्ण दस्तावेज भगवती चरण वोहरा के लिखे हुए हैं. सर्वाधिक महत्वपूर्ण दस्तावेज उनके लिखे हुए हैं तो सब सिर्फ भगत सिंह के खाते में क्यों डाला जा रहा है?

कितने लोगों ने भगवती चरण वोहरा, विनय कुमार सिन्हा, जयदेव कपूर को याद किया? आज भगत सिंह की बात करने वाले, चाहे वे प्रगतिशील हों, वामपंथी या दक्षिणपंथी, कल तक भगत सिंह के जो साथी जीवित थे वे किस तरीके से मर रहे थे, किस तरह से उपेक्षित जीवन जी रहे थे, उनकी तरफ आंख उठाकर इन लोगों ने देखा तक नहीं

दूसरा सवाल यह भी है कि कितने लोगों ने भगत सिंह के अलावा भगवती चरण वोहरा को याद किया. कितने लोगों ने विनय कुमार सिन्हा को याद किया? कितने लोगों ने जयदेव कपूर को याद किया? आज भगत सिंह की बात करने वाले, वे प्रगतिशील हों, वामपंथी या दक्षिणपंथी, कल तक भगत सिंह के जो साथी जीवित थे वे किस तरीके से मर रहे थे, किस तरह से उपेक्षित जीवन जी रहे थे, उनकी तरफ आंख उठाकर इन लोगों ने देखा तक नहीं. केवल भगत सिंह को याद करना और उनका बिल्ला लगाना प्रगतिशील क्रांतिकारी आंदोलन का ही अपमान है.

उस समय भगत सिंह से वामपंथियों का कोई वास्ता नहीं था. उनके मरने के बाद उनको पूरी तरह भुला दिया गया. अभी कुछ समय पहले जयदेव कपूर मरे हैं. मैंने उनकी जीवनी पूरी की है. आज भी मुझे ध्यान आता है कि एक बार उन्होंने मुझे पत्र लिखकर बुलाया. वे अपने घर में न होकर अपने दूसरे बेटे के घर में थे. चलने से पहले मुझसे बड़ी कातर निगाहों से बोले कि मुझे तीन दिन से खाना नहीं मिला है. भगत सिंह से कम योगदान नहीं है बटुकेश्वर दत्त का. कोई फांसी चढ़ गया और किसी ने कारागार के भीतर जिंदगी जी, जो ज्यादा कष्टदायी थी. वही बटुकेश्वर दत्त, जिन्हें अपने गुजारे के लिए डबल रोटी की फैक्टरी में मैदा सप्लाई करना पड़ता था. बटुकेश्वर दत्त के हाथ में बड़े-बड़े बाल थे. उनके हाथों के बाल झुलस गए थे भट्ठी की आंच से. वे मैदे की बोरियां खींचकर ले जाते थे. इतने बड़े क्रांतिकारी से हमने क्या काम लिया? दो सेर आटा और लकड़ियों के जुगाड़ के लिए बटुकेश्वर पटना की सड़कों पर जर्जर साइकिल पर निकलते थे. किसी ने दो पल रुककर नहीं देखा कि यह व्यक्ति बटुकेश्वर दत्त है, जिसने उस समय अंतरराष्ट्रीय ख्याति पाई थी. आज उसी पटना की सड़क पर आमिर खान खड़े होते हैं तो पटना में ट्रैफिक रुक जाता है उनको देखने के लिए. बटुकेश्वर को किसी ने नहीं देखा.

Pages: 1 2 Single Page

(Published in Tehelkahindi Magazine, Volume 8 Issue 7, Dated 15 April 2016)

Comments are closed