नई दास्तान, नया दास्तानगो!

1
124
दास्तानगो; नई दास्तान सुनाते हिमांशु वाजपेयी (बाएं), अंकित चड्ढा (दाएं)
दास्तानगो; नई दास्तान सुनाते हिमांशु वाजपेयी (बाएं), अंकित चड्ढा (दाएं)

महमूद फारूकी और उनके साथियों की तकरीबन दस साल की मेहनत और कोशिशें रंग लाईं हैं. सुखद है कि दास्तानगोई जैसी विलुप्त हो चुकी मध्यकालीन कला एक नए कलेवर के साथ जी उठी है. अब दास्तानें सिर्फ तिलिस्म और अय्यारी तक सीमित नहीं हैं बल्कि विनायक सेन की गिरफ्तारी, मुल्क का बंटवारा, मोबाइल की अहमियत और मंटो की मंटोइयत जैसे बेशुमार नए एवं समसामयिक विषय दास्तानों को एकदम नयी और अनोखी शक्ल दे रहे हैं. सुनने वाले नए और पुराने के इस अद्भुत मेल को न सिर्फ पसंद कर रहे हैं बल्कि ये दास्तानें उनके मन में एक खलबली पैदा करके इन विषयों पर उनकी सोच को भी विस्तार दे रहीं हैं. दास्तानों की इस फेहरिस्त में एक बिल्कुल नई और अद्भुत दास्तान की बढ़ोत्तरी हो गई है. ये दास्तान है उर्दू के मशहूर शायर मजाज़ लखनवी की जि़ंदगी और शायरी पर आधारित दास्तान- ‘दास्तान-ए-आवारगी’. महमूद फारूकी के निर्देशन में इसे तैयार किया है दास्तानगो-युगल अंकित चड्ढा और हिमांशु वाजपेयी ने. हिमांशु के रूप में इस दास्तान से दास्तानगोई टीम में एक नया दास्तानगो भी जुड़ गया है. गौरतलब है कि वे उस लखनऊ के पहले आधुनिक दास्तानगो हैं, जो पुराने दौर में दास्तानगोई के बेमिसाल उस्तादों का शहर था.

बीते अक्टूबर में जब लखनऊ में दास्तान-ए-आवारगी का प्रीमियर शो हुआ तो ये शाम यादगार बन गई. आयोजन लखनवी युवाओं के एक समूह ‘बेवजह’ की तरफ से किया गया था जो युवाओं को कला-साहित्य से जोड़ने को लेकर काम करता है. मजाज़ के जन्मदिन की पूर्वसंध्या पर, मजाज़ की दास्तान सुनने के लिए उनके शहर का संत गाडगे सभागार खचाखच भरा हुआ था और हर उम्र के लगभग सात सौ लोग एक घंटे तक जैसे किसी तिलिस्म में बांध दिए गए थे. तिलिस्म जिसका नाम था मजाज़. जिसके पाश में दर्शक मंत्रमुग्ध थे, आश्चर्यचकित थे, बेपनाह लुत्फ उठा रहे थे, वाह-वाह, क्या बात है, क्या कहने… जैसी दाद दे रहे थे, आनंदविभोर होकर ताली बजाते थे (जबकि दास्तानगोयों ने दास्तान शुरू करने से पहले उनसे आग्रह किया था कि वे ताली न बजाएं, ज़बानी तौर पर दाद दें) झूम रहे थे, हंस रहे थे और आखिर तक पहुंचते-पहुंचते रोने लगे थे. दास्तान खत्म हुई तो सभागार में मौजूद हर शख्स खड़ा होकर ताली बजा रहा था और इसके बाद मजाज़ के बेहद करीबी रहे प्रो. शारिब रूदौलवी ने मंच पर आकर जो प्रतिक्रिया दी उसने दास्तान-ए-आवारगी के प्रीमियर शो की कामयाबी पर मुहर लगा दी. शारिब रूदौलवी ने नम आंखों के साथ मुस्कुराते हुए कहा- ‘ये विशाल सभागार जो सामान्य आयोजनों में आधा भी नहीं भर पाता, अगर मजाज़ के नाम पर पूरा भरा हुआ है, यहां तक कि बहुत से लोग खड़े होकर दास्तान सुन रहे थे, ये बताता है कि लखनऊ मजाज़ से कितनी मोहब्बत करता है. अंकित और हिमांशु ने आज जो कमाल किया है उसे हाॅल में मौजूद हर शख्स लंबे वक्त तक याद रखेगा. अगर मुझे मालूम होता कि यहां ऐसा कुछ होने वाला है तो मैं अपनी तरफ से दोनों के लिए कोई तोहफा ज़रूर लाता.’

अंकित चड्ढा पुराने दास्तानगो हैं, वे इस बार भी हमेशा की तरह सहज थे वहीं हिमांशु वाजपेयी की ये पहली ही परफॉर्मेंस थी, इसके बावजूद ऐसा नहीं लगा कि वे पहली बार दास्तान सुना रहे हैं. हालांकि अंकित जैसी सहजता पाने के लिए उन्हें काफी मेहनत करनी होगी. बहरहाल दोनों की जोड़ी ने मिलकर दर्शकों पर खूब जादू चलाया. अपने पहले शो के बारे में बात करते हुए हिमांशु ने कहा- ‘मुझे थोड़ा डर लग रहा था कि जाने क्या होगा लेकिन अंकित ने सब संभाल लिया. मुझे खुशी है कि लोगों ने इसे बहुत पसंद किया. पहले ही शो की हमें तीन सौ के करीब लिखित प्रतिक्रियाएं मिलीं हैं जिनमें शो को पसंद करते हुए इसे दोबारा किए जाने का निवेदन किया गया है. सुनने वालों के साथ-साथ मुझे भी इसके दोबारा होने का इंतज़ार है.’ शो में मजाज़ के रिश्तेदारों और करीबियों के अलावा उनके पैतृक निवास रूदौली से भी कई लोग तशरीफ लाए थे. मजाज़ की भतीजी जऱीना भट्टी ने दास्तान के बारे में बात करते हुए कहा- ‘स्क्रिप्ट बहुत कसी हुई थी और परफॉर्मेंस भी बेहद शानदार थी. यकीनन इस पर बहुत मेहनत की गई होगी. हालांकि कुछ एक जगह पर नाटकीयता थोड़ी और होनी चाहिए थी ऐसा मुझे लगता है. पर आखिरकार ये पहला शो था. मेरी ख्वाहिश है कि ये दास्तान अलग-अलग जगह पर ज्यादा से ज्यादा बार हो ताकि लोग मजाज़ को जान सकें.’

गौरतलब है कि असरार उल हक उर्फ मजाज़ लखनवी उर्दू के सबसे चहेते शायरों में से एक हैं, जिनकी अपार लोकप्रियता एक अफसाना बन चुकी है. उनकी शायरी रूमान और इंकलाब का खूबसूरत संगम है. उनके लतीफे उनकी बेमिसाल हाजिर जवाबी का सबूत हैं. 1911 में उत्तर प्रदेश के रूदौली कस्बे में जन्मे मजाज़ अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के दिल की धड़कन थे. लेकिन एएमयू से ग्रेजुएट होने के बाद जब वे नौकरी करने दिल्ली गए तो रोजगार और इश्क़ की नाकामी ने उन्हें इस कदर तोड़ दिया कि उनकी जि़ंदगी शराब में डूबकर रह गई. तमाम कोशिशों के बावजूद वह इससे उबर नहीं पाए और दिसंबर 1955 में मजाज़ नाम की इस ख़ूबसूरत कहानी का बेहद दर्दनाक अंत हुआ. मजाज़ को सिर्फ 44 साल की जि़ंदगी मिली लेकिन इतनी कम उम्र में भी वे उर्दू को आवारा, ख्वाब-ए-सहर, शिकवा-ए-मुख्तसर, रात और रेल, नौजवान ख़ातून से और ऐतराफ जैसी यादगार नज़्में दे गए. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का तराना मजाज़ का ही लिखा हुआ है. फिल्मी गीतकार जावेद अख़्तर जो कि मजाज़ के भांजे हैं ऑटोग्राफ देते हुए अपना शेर न लिखकर हमेशा मजाज़ का ही ये शेर लिखते हैं- ‘उनका करम है उनकी मोहब्बत/ क्या मेरे नग़मे क्या मेरी हस्ती.’ कहा जाता है कि उर्दू के तमाम शायरों में सबसे ज्यादा शायराना और ड्रामाई जि़ंदगी मजाज़ को ही मिली.

मजाज़ को सिर्फ 44 साल की जि़ंदगी मिली लेकिन इतनी कम उम्र में भी वे उर्दू को आवारा, ख्वाब-ए-सहर, शिकवा-ए-मुख्तसर, रात और रेल, नौजवान ख़ातून से और ऐतराफ जैसी यादगार नज़्में दे गए

मजाज़ की जि़ंदगी का हर वाकया अपने आप में एक मुकम्मल दास्तान लगता है, ऐसे में उनकी पूरी जि़ंदगी और शायरी को घंटे-भर की एक दास्तान में समा देना बेहद मुश्किल काम था. लेकिन महमूद फारूकी के मार्गदर्शन में अंकित और हिमांशु ने ये काम बखूबी किया है. दास्तान में मजाज़ के पैदा होने से लेकर उनके इंतकाल तक की हर महत्वपूर्ण घटना को शायरी और लतीफों के साथ बेहद संवेदनशील तरीके से बयान किया गया है. इसी का कमाल है कि दास्तान दर्शकों को हंसने, दाद देने, रोने के लिए मजबूर कर देती है. इस चुनौती के बारे में बात करते हुए हिमांशु वाजपेयी तहलका से कहते हैं- ‘जब आप मजाज़ जैसी किसी शख्सियत पर दास्तान तैयार कर रहे होते हैं तो सबसे बड़ी चुनौती यही होती है कि क्या रखा जाए और क्या छोड़ा जाए. फिर मेरा मजाज़ से जो ज़ाती रिश्ता है उसकी वजह से मेरे लिए तो ये काम आम आदमी से हज़ार गुना ज़्यादा कठिन है. लेकिन अंकित ने इस मुश्किल से उबरने का एक बेहद कारगर तरीका सुझाया. उन्होंने कहा कि सामान्यत: हम उन्हीं अशआर और लतीफों को रखेगें जो नैरेटिव में फिट बैठते हों और अनिवार्य हों. क्योंकि आखिरकार हम एक कहानी सुना रहे हैं. फिर हमने ईमानदारी से व्यक्तिगत पसंद नापसंद से ऊपर उठकर सिर्फ कहानी की पसंद-नापसंद के आधार पर चीज़ों का चुनाव किया. यहां तक कि अपनी ही लिखी दास्तान में मैं मजाज़ की उस नज्म (नज्रे दिल) को शामिल नहीं कर पाया जो मुझे सबसे ज़्यादा पसंद है.’ इस तरह अंकित और हिमांशु ने इस दास्तान का नैरेटिव लिखा और फिर उस्ताद महमूद फारूक़ी ने इसमें ज़रूरी सुधार किए और महत्वपूर्ण जोड़-घटाव किए. इसके बाद दिल्ली में अपने घर पर रिहर्सल भी करवाईं.

1 COMMENT

  1. बधाई हिमांशु भाई ! यह जादू मजाज़ की कलम और उनकी ज़िंदगी का तो था ही, उससे भी बढ़कर दास्तानगोई का था , महमूद फारुकी का था, अंकित चड्ढा का था और मेरे लिये / हम लखनऊ वालों के लिये हिमांशु बाजपेयी का था. मजाज़ मे तो बात है मगर उनमे जो बात है उसे इस तरह पेश करना कि बात उभर कर आये, जादू सर चढ़ कर बोले — यह दास्तानगोई का जादू है. मुझे याद पड़ता है लखनऊ के पर्यटन भवन मे दास्तानगोई की महफिल के बाद मैने अंकित से गुज़ारिश की थी कि दास्तानगोई का प्रशिक्षण दिया जाय व लखनऊ से और किसी युवा को तैयार किया जाये तो उन्होने सहमति व्यक्त की. तब मुझे नही मालूम था कि लखनऊ के ये युवा दास्तानगो हमारे हिमांशु होंगे. फिर से ‘बेवजह’ सहित सारी टिम को बधाई और ‘तहलका’ मे येऽऽऽऽऽ लम्बा आलेख छपने की भी.
    इस दास्तान की तैयारी के सिल्ससिले मे एक बात ने मुझे बहुत प्रभावित कियाजो किसी भी प्रदर्शन के लिये एक भरत वाक्य सी है. मेरे नही, हिमांशु से ही सुनिये जो इन्होने इस आलेख मे कही है — “.. लेकिन अंकित ने इस मुश्किल से उबरने का एक बेहद कारगर तरीका सुझाया. उन्होंने कहा कि सामान्यत: हम उन्हीं अशआर और लतीफों को रखेगें जो नैरेटिव में फिट बैठते हों और अनिवार्य हों. क्योंकि आखिरकार हम एक कहानी सुना रहे हैं. फिर हमने ईमानदारी से व्यक्तिगत पसंद नापसंद से ऊपर उठकर सिर्फ कहानी की पसंद-नापसंद के आधार पर चीज़ों का चुनाव किया. यहां तक कि अपनी ही लिखी दास्तान में मैं मजाज़ की उस नज्म (नज्रे दिल) को शामिल नहीं कर पाया जो मुझे सबसे ज़्यादा पसंद है.’.. “

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here