0
    71

    manji-the-mountain-man-web

    सबको दशरथ की कहानी अविश्वसनीय क्यों लग रही थी जबकि 60 के दशक में पहाड़ काटने का काम शुरू कर 22 सालों की अथक मेहनत से दशरथ मांझी पहाड़ काटकर रास्ता बना चुके थे.

    दशरथ को जीते-जी उनके काम के लिए वह सम्मान कहां मिला!  मृत्यु के कुछ साल पूर्व से उन्हें सम्मान मिलना शुरू हुआ. अखबारों में, मीडिया में खबर आई, बावजूद इसके एक बड़ा खेमा ऐसा भी था, जो दशरथ को उसके इस विराट कार्य का श्रेय नहीं देना चाहता था. पहाड़ काट देने के बाद भी मीडिया का एक खेमा यह कहता रहा कि दशरथ ने यदि पहाड़ काटा तो कटने के बाद निकलने वाला पत्थर कहां गया! उसकी छर्री कहां गई? वन विभाग ने पहाड़ काटने पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं की? आदि. संभ्रांत व सामंतमिजाजी समाज ने तो कभी चाहा ही नहीं कि प्रेम के ऐसे उद्दात स्वरूप का श्रेय मांझी को जाए, इसके लिए वह आखिरी समय तक माहौल बनाने में लगा रहा. मुझे तो लगता है कि बाद के दिनों में दशरथ मांझी ने आध्यात्मिकता में मन इसीलिए लगा लिया था कि शायद उन्हें सर्वमान्यता मिले. वे कबीरपंथी हो गए थे लेकिन तब भी श्रेष्ठतावादी व शुद्धतावादी समाज उन्हें वह मान्यता नहीं दे सका.

    लेकिन सुनते हैं कि नीतीश कुमार ने तो उन्हें अपनी कुर्सी पर बिठाया था?

    यह सब तो बहुत बाद की बात है. 1982 में दशरथ मांझी पहाड़ काट चुके थे लेकिन उन्हें सम्मान तीन दशक बाद मिलना शुरू हुआ.

     आपकी तो कई बार बात-मुलाकात हुई होगी. पहाड़ काटने की सही घटना क्या है?

    वे कई बार मिले. हम एकभाषी थे तो आत्मीयता से मगही में बात होती थी. वे मेरे दफ्तर में भी आते थेे. पहाड़ में रास्ता पहले से था पर बहुत ही संकरा. वे पहाड़ के उस पार खेत में काम करने जाते थे. उनकी पत्नी फगुनी देवी उसी संकरे रास्ते से उनके लिए खाना-पीना लेकर खेत में जाया करती थीं. एक दिन वह जा रही थीं कि  उस संकरे रास्ते में फंस गईं. खाना-पानी सब गिर गया. दशरथ का प्यास के मारे हाल-बेहाल था लेकिन पानी उन तक पहुंच नहीं सका. उन्होंने पत्नी की हालत देखी और उसी दिन तय किया कि कोई न कोई रास्ता तो निकालना होगा. फगुनी के लिए भी और उन तमाम महिलाओं के लिए भी, जो रोज खेत पर खाना-पानी लेकर आती हैं. दशरथ ने उसी दिन से अपनी रोजमर्रा की मजदूरी को जारी रखा लेकिन समय निकालकर पहाड़ को काटना भी शुरू कर दिया और 22 सालों में उस रास्ते को बना दिया. दशरथ फगुनी से प्रेम करते थे लेकिन फगुनी के बहाने कई स्त्रियों की मुश्किलें भी उनके सामने थीं. यही सच है, प्रेम व्यक्तिगत होता है लेकिन जब वह समूह का हो जाता है तो क्रांति हो जाती है. दशरथ ने क्रांति ही की. दुनिया में कोई मजदूर ऐसा नहीं होगा, जो अपनी मजदूरी करते हुए छेनी-हथौड़ी से ऐसा कीर्तिमान कायम कर दे, प्रेम की ऐसी निशानी बना दे.

    आपने बताया सभी ने दशरथ की कहानी हटाकर सिर्फ जेहल की कहानी को प्रकाशित किया. जेहल की कहानी इतनी पावरफुल थी कि कई लोग उस पर फिल्म बनाने को तैयार थे लेकिन आप साथ में दशरथ की कहानी रखकर ही फिल्म बनाने की सलाह दे रहे थे. जेहल की कहानी भी बताइए.

    जेहल भी गया जिले के अतरी प्रखंड इलाके के ही थे. वे मुसहर जाति के थे. दुल्लू सिंह जमींदार थे, जिनके यहां जेहल बनिहारी (मजदूरी) करते थे. जेहल की शादी दुल्लू सिंह ने अपनी ससुराल की राजमुनी से करवा दी. राजमुनी के पिता नचनिया थे और उसकी मां दुल्लू सिंह के ससुर की रखनी (रखैल) थीं, तो जेहल की पत्नी के आने के बाद दुल्लू सिंह ने कहा कि तेेरी मां को मेरे ससुर ने रखनी रखा था तो हम राजमुनी को रखेंगे. जेहल बेचारा क्या बोलता लेकिन राजमुनी ने विद्रोह कर दिया. एक दिन अचानक वह घर से निकल गई. रास्ते में जेहल मिला, जो टेउंसा बाजार से अपने मालिक के लिए गांजा लेकर आ रहा था. राजमुनी ने अपने पति से कहा, ‘वह जा रही है लेकिन एक दिन लौटकर आएगी, अपनी जिंदगी अपनी शर्तों पर जिएगी, लेकिन तुम्हारे साथ ही’. राजमुनी वहां से भागकर बनारस में एक थियेटर कंपनी में नाचने लगी. इस बीच लोग जेहल को चिढ़ाते रहते थे कि तुम्हारी पत्नी तो गया में कोठे पर दिखी थी. कोई कुछ और कहता पर जेहल सबकी बात चुपचाप सुनता. वह मेरे पास भी आता था, मुझसे पूछता कि आपकी भी पत्नी है, वह भी तो भाग गई होंगी. पत्नी तो भाग ही जाती है न! जेहल बहुत ही मासूम इंसान था.

    राजमुनी जिस थियेटर कंपनी में काम करती थी, वह एक बार राजगीर के मलमास मेले में आई. राजमुनी को फिर से दुल्लू सिंह ने देख लिया, वह बलात फिर उसे ले जाने लगे, इस बार राजमुनी ने दुल्लू की हत्या कर दी और फिर भाग गई. एक बार फिर से जेहल को किसी ने चिढ़ा कर कह दिया कि उसकी राजमुनिया तो नदी के उस पार मजार पर चादर चढ़ाने आई है, अभी-अभी दिखी है वहां. जेहल भागते-भागते नदी किनारे आया. नदी के उस पार जाने का कोई रास्ता नहीं था. उसने उस पार, राजमुनी के पास जाने के लिए भादों की उफनती हुई नदी में छलांग लगा दी, नदी से फिर उसकी लाश ही निकली. और संयोग कुछ ऐसा हुआ कि कुछ देर बाद सच में राजमुनी को लेकर दारोगा उसके गांव में पहुंचा. राजमुनी उसके पास रहने आई थी लेकिन जेहल जा चुका था. राजमुनी ने उसके पांवों के पास ही अपनी चूडि़यां तोड़ीं. मैंने समानांतर रूप से दशरथ और जेहल की प्रेम कहानी को लेकर ‘आदिमराग’ लिखी थी, यह बताने के लिए प्रेम का दायरा सिर्फ निजी स्तर पर होता है तो उसकी निष्पत्ति कैसी होती है और जब प्रेम समूह से जुड़ता है तो उसका स्वरूप कैसा होता है.

    आपने यह कहानी भी प्रकाश झा को दी थी?

    प्रकाश झा जी प्रेम पर फिल्म नहीं बनाना चाहते. उनके विषय दूसरे होते हैं. उन्होंने बेबीलोन पर बात की. एक बार दिल्ली बुलाया, मैंने 18 घंटों में एक कहानी लिखी- ‘अभिशप्त’. तीन साल बाद उस पर ‘मृत्युदंड’ फिल्म बनी. बासुभट्टाचार्य को भी जेहल की कहानी पसंद थी.

     आप मुंबई जाते नहीं, मुंबई आपकी शर्तों पर आता नहीं. यह जिद क्यों?

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here