राज्यवार Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
‘पहाड़’ के हाथ से खिसकी सत्ता!

हिमाचल में पहली बार यह हुआ है कि सत्ता के केंद्र में शिमला कहीं नहीं। मुख्यमंत्री से लेकर सत्ता पक्ष भाजपा और विपक्ष कांग्रेस दोनों के सत्ता केंद्र इस विधानसभा चुनाव के बाद निचले हिमाचल को हस्तांतरित हो गए हैं। पिछले चार दशक में ऐसा कभी नहीं हुआ। मुख्यमंत्री निचले  

हिमाचल में जयराम सरकार

जयराम के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही हिमाचल की राजनीति में नए युग का सूत्रपात हो गया। राज्यपाल देव व्रत ने जय राम को प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। यह कार्यक्रम ऐतिहासिक रिज पर आयोजित किया गया। मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भाजपा अध्यक्ष अमित  

राहुल हिंदू ब्राह्मण हैं, लेकिन कौन से?

कांग्रेस विभिन्न धर्मो वाले देश की प्रतिनिधि राजनीतिक पार्टी रही है। राहुल के दादा पारसी थे। जबकि पिता हिंदू और मां इटैलियन हैं। उनकी दादी हिंदू थीं जिन्होंने पारसी से विवाह किया। ऐसी स्थिति में राहुल हिंदू तो हैं। आप चाहें तो उन्हें ईसाई और पारसी भी मान सकते हैं।  

गुजरात का यह चुनाव नहीं था आसां

भारतीय जनता पार्टी को गुजरात में 2017 के विधानसभा चुनाव में खासी बड़ी चुनौतियों से गुज़रना पड़ा। पिछले 22 साल से गुजरात में भाजपा की सरकार रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य की कमान इस सदी के शुरू में संभाली थी। सिर्फ साढ़े तीन साल पहले लोकसभा चुनाव जीतने  

भाजपा की चुनावी रणनीति भारी पड़ी कांग्रेस पर

गुजरात विधानसभा चुनावों में भाजपा जीती ज़रूर। लेकिन पार्टी को एक बड़ी कीमत अदा करनी पड़ी। विधानसभा में भाजपा सौ सीटों से नीचे आकर रुकी और वहीं कांग्रेस ने राज्य में अपनी स्थिति बेहतर कर ली। कांग्रेस में पाटीदारों, ओबीसी और दलित आदिवासियों में अपनी जड़ें बनाईं। चुनाव प्रचार के  

कमांडर हारा, सेना जीती

इस चुनाव जंग में हिमाचल की यह दिलचस्प कहानी है जिसमें सेना तो जीत गयी लेकिन कमांडर हार गया। चुनाव के समय बनी अनिश्चितता के विपरीत पहाड़ के मतदाताओं ने आखिर 44 सीटों के साथ भाजपा को सत्ता की देहरी पार करवा दी। यह अलग बात है कि जिन प्रेम